loader

बेबाक अंदाज की वजह से पहले भी कई बार विवादों में रही हैं कंगना रनौत 

बॉलीवुड क्वीन कंगना रनौत इन दिनों सुर्खियों में हैं और इसकी वजह उनके कुछ बयान हैं। सुशांत सिंह राजपूत केस में कंगना शुरू से ही अपनी बात रखती आ रही हैं और जब इस केस में ड्रग्स एंगल सामने आया तो इस पर भी कंगना ने स्टैंड लिया। अपने बेबाक अंदाज और अपनी एक्टिंग के दम पर कंगना ने लोकप्रियता हासिल की है लेकिन कई बार कंगना द्वारा दिये गए उनके कुछ बयान फ़िल्म इंडस्ट्री में विवाद पैदा कर चुके हैं। 

इन दिनों कंगना और महाराष्ट्र सरकार के बीच बयानबाज़ी चल रही है। जिसके चलते कुछ लोग उनका सपोर्ट कर रहे हैं तो कुछ लोग उन्हें राजनीति ज्वाइन करने की राय दे रहे हैं। ये पहली दफा नहीं है जब कंगना किसी विवाद का हिस्सा बनी हैं, इसके पहले भी वो कई डायरेक्टर्स और सेलेब्स को आड़े हाथों ले चुकी हैं। 

ताज़ा ख़बरें

महाराष्ट्र सरकार के साथ विवाद

कंगना रनौत ने सुशांत केस में आये ड्रग मामले पर कहा था कि वे एनसीबी की मदद करने के लिए तैयार हैं लेकिन इसके लिए वह केंद्र सरकार से सुरक्षा चाहती हैं। क्योंकि वह ना केवल अपने करियर बल्कि अपनी जिंदगी को भी खतरे में डाल रही हैं। कंगना ने कहा था, "सुशांत को कुछ डर्टी सीक्रेट पता थे इसलिए उन्हें मारा गया है। बॉलीवुड में ड्रग्स का बहुत इस्तेमाल होता है और अगर जांच की गई तो बहुत से ए लिस्टर एक्टर्स का नाम सामने आएगा।" इसके बाद बीजेपी नेता राम कदम ने कंगना को सुरक्षा देने की मांग की थी। जिस पर कंगना ने कहा था- "मुझे मुंबई पुलिस की सुरक्षा नहीं चाहिए।" उन्होंने हिमाचल प्रदेश या केंद्र सरकार से सुरक्षा की मांग की थी। कंगना ने कहा था कि मूवी माफिया से ज्यादा मुंबई पुलिस से डर लगता है।

मुंबई पुलिस से डर लगने की बात महाराष्ट्र सरकार को रास नहीं आई और शिवसेना के प्रवक्ता संजय राउत ने अभिनेत्री के इस बयान का जवाब 'सामना' में लिखकर दिया।

राउत ने लिखा, "कंगना रनौत को मुंबई वापस नहीं आना चाहिए। कंगना ने मुंबई पुलिस की बेइज्जती की है। गृह मंत्रालय को इस पर कार्रवाई करनी चाहिए।" जिसके बाद कंगना ने पलटवार किया और लिखा, "संजय राउत ने मुझे खुली धमकी दी है और मुझसे कहा है कि मुंबई वापस न आऊं, मुंबई की गलियों में आजादी के नारे लगे और अब खुली धमकी। मुंबई पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर (पीओके) जैसी क्यों लग रही है?" 

अभिनेत्री के इस बयान पर न सिर्फ महाराष्ट्र सरकार भड़क गई बल्कि कई सेलेब्स ने भी कंगना के ख़िलाफ़ मोर्चा खोल दिया। सभी लोगों ने ट्विटर पर मुंबई के सपोर्ट में ट्वीट किये।

मुंबई पीओके जैसी पर विवाद 

कंगना के इस बयान पर संजय राउत ने कहा कि अगर मुंबई पीओके जैसी है तो कंगना को यहां नहीं आना चाहिए। साथ ही यह भी कहा कि "अगर वो पीओके जाना चाहती हैं तो जाएं खर्चा हम देंगे।" इसके बाद कंगना और भड़क गईं और उन्होंने ट्वीट कर लिखा- किसी के बाप का महाराष्ट्र नहीं है। इस बीच ही कंगना ने मुंबई आने का एलान करते हुए कहा कि वह 9 सितंबर को आएंगी, किसी के बाप में हिम्मत है तो रोक ले।" इसके बाद केंद्र सरकार ने उन्हें Y+ सिक्योरिटी दी

कंगना और संजय राउत के बीच और भी काफी विवाद हुआ। इस बीच बृहन्मुंबई महानगर पालिका की एक टीम कंगना के मणिकर्णिका फिल्म्स के दफ्तर पर आ धमकी और वहां नोटिस लगा दिया।

9 सितंबर को बीएमसी ने कंगना के दफ्तर में तोड़फोड़ की। बीएमसी के अधिकारियों का कहना है कि अवैध निर्माण के चलते ऐसा किया गया। सोशल मीडिया पर कुछ लोगों का कहना है कि ये बदले की भावना से किया जा रहा है।

महेश भट्ट पर चप्पल मारने का आरोप 

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद नेपोटिज्म पर चल रही बहस में कंगना ने कई लोगों पर निशाना साधा था और साथ ही डायरेक्टर महेश भट्ट का नाम भी लिया था। कंगना द्वारा भट्ट का नाम लिये जाने पर उनकी बेटी और एक्ट्रेस पूजा भट्ट भड़क गई और उन्होंने कहा था कि 2006 में भट्ट परिवार ने अपने प्रोडक्शन में बनी फिल्म ‘गैंगस्टर’ से इंडस्ट्री में कंगना को लॉन्च किया था। 

पूजा को जवाब देते हुए कंगना की टीम के द्वारा एक ट्वीट किया गया, जिसमें लिखा था- ‘‘प्रिय पूजा, निर्देशक अनुराग बासु के पास कंगना की प्रतिभा को देखने वाली नजर थी। हर कोई जानता है कि मुकेश भट्ट कलाकारों को पैसे देना पसंद नहीं करते हैं। कई स्टूडियो प्रतिभाशाली लोगों से मुफ्त में काम कराना पसंद करते हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं कि आपके पिता को कंगना पर चप्पल फेंककर मारने व उन्हें पागल कहने और उन्हें अपमानित करने का लाइसेंस मिल गया।’’ 
कंगना की बहन रंगोली ने लिखा था, ‘‘कंगना जब फिल्म 'वो लम्हे' का प्रिव्यू देखने के लिए थियेटर पहुंची थीं तो महेश भट्ट ने कंगना पर चप्पल फेंकी थी। उन्होंने कंगना को उसकी ही फिल्म देखने से रोक दिया था और वो पूरी रात रोती रही थी। तब उसकी उम्र सिर्फ 19 साल थी।’’

करण को बताया नेपोटिज्म का प्रतीक

करण जौहर एक निर्देशक होने के साथ ही बड़े निर्माता भी हैं, हर कोई उनके साथ काम करने की इच्छा रखता है लेकिन अभिनेत्री कंगना रनौत की उनके साथ भी तनातनी रही है। नेपोटिज्म पर चल रही बहस में कंगना ने हमेशा ही स्टैंड लिया है और कई जगहों पर उन्होंने इस मुद्दे पर खुलकर अपनी बात रखी है। 

साल 2017 में कंगना करण जौहर के शो ‘कॉफी विद करण’ में पहुंची थीं और उन्होंने करण को घेर लिया था। 

"एक जमाने में आपने कहा था कि कंगना का इंडस्ट्री में कुछ नहीं हो सकता। आपने मेरी इंग्लिश तक का मजाक बनाया था और मैं खुश हूं कि आपने ऐसा किया क्योंकि उसी वजह से मैं यहां तक पहुंच पाई हूं।"


कंगना ने करण जौहर से कहा था

‘करण का पद्मश्री वापस लें’

हाल ही में रिलीज़ हुई करण जौहर के धर्मा प्रोडक्शन के बैनर तले बनी फ़िल्म गुंजन सक्सेना के विवादों में आने पर कंगना ने कहा था, "मैं भारत सरकार से करण जौहर का पद्मश्री वापस लेने की गुज़ारिश करती हूं। उन्होंने मुझे खुलेआम धमकाया था और एक इंटरनेशनल प्लेटफॉर्म पर मुझे इंडस्ट्री छोड़ने को कहा था। उन्होंने सुशांत का करियर खत्म करने के लिए साजिश भी की। उरी युद्ध के दौरान करण ने पाकिस्तान को सपोर्ट किया था और अब हमारी सेना के ख़िलाफ़ एक एंटी-नेशनल फ़िल्म बनाई है।"

कंगना रनौत हर मुद्दे पर अपनी बात रखती हैं और वो ये भी गौर करती हैं कि कौन-सा स्टार उस मुद्दे पर क्या बोल रहा है या कौन चुप्पी साधे हुए है।

तापसी व स्वरा को बताया था बी-ग्रेड

नेपोटिज्म के बीच जारी बहस के बीच कंगना को कई लोगों की चुप्पी अखर रही थी और उसी दौरान एक इंटरव्यू में उन्होंने एक्ट्रेस तापसी पन्नू और स्वरा भास्कर को बी-ग्रेड एक्ट्रेस करार दे दिया था। कंगना ने कहा था- "तापसी पन्नू और स्वरा भास्कर जैसे आउटसाइडर लोग आकर कहेंगे कि सिर्फ कंगना को ही करण जौहर से समस्या है। हम तो करण जौहर को पसंद करते हैं। अगर आप लोग करण जौहर को पसंद करते हैं, फिर भी आप लोग बी ग्रेड एक्ट्रेस क्यों हैं। तुम दोनों आलिया और अनन्या से बेहतरीन एक्ट्रेस हो, फिर भी तुम्हें काम क्यों नहीं मिल रहा है? आप लोग का होना ही अपने आप में नेपोटिज्म का प्रमाण है।" कंगना के इस बयान पर भी कई सेलेब्स ने उन्हें खरी खोटी सुनाई थी।

तापसू पन्नू ने ट्वीट कर कंगना को जवाब दिया और लिखा था, "मैंने सुना है कि क्लास 12वीं और 10वीं के रिजल्ट के बाद हमारा रिजल्ट भी आ गया है। हमारा ग्रेड सिस्टम ऑफिशियल है? अभी तक तो नंबर सिस्टम पर वैल्यू तय होती थी ना?" 

पंचोली पर लगाया था मारपीट का आरोप

कंगना और आदित्य पंचोली कभी रिलेशनशिप में थे लेकिन इस रिश्ते का खात्मा बेहद ही खराब मोड़ पर हुआ। कंगना ने आदित्य पर शारीरिक हिंसा और मारपीट करने का आरोप लगाया था। कंगना ने कहा था- "हम पति-पत्नी की तरह ही रिलेशनशिप में थे। हम दोनों अपने लिए यारी रोड पर एक घर भी प्लान कर रहे थे और हम एक दोस्त के घर पर 3 साल तक साथ भी रहे थे। मैं जो फोन इस्तेमाल कर रही थी, वह भी उन्हीं का था। वह आदमी मेरे पिता की उम्र का था। उसने मुझे सिर पर बहुत तेज चोट पहुंचाई और उस वक्त मेरी उम्र 17 साल थी। मेरे सिर से खून भी निकल रहा था। मैंने अपनी सैंडल उतारकर उसके सिर पर मारी और उसके सिर से भी खून निकला। मैंने उसके खिलाफ FIR भी करवाई।" 

इन सभी आरोपों को खारिज करते हुए आदित्य पंचोली ने कहा था, "मैंने कंगना के ख़िलाफ़ मानहानि का केस पहले ही दर्ज कराया है। कंगना के वकील ने मुझे धमकी दी कि अगर मैंने मानहानि का केस वापस नहीं लिया तो वो मेरे ऊपर रेप का मुकदमा दर्ज कराएंगी। मेरे ख़िलाफ़ साजिश हो रही है।" इस विवाद ने उस वक्त काफी तूल पकड़ा था।

इस तरह कंगना का विवादों से हमेशा से ही नाता रहा है लेकिन हमेशा ही वो हर विवाद का डटकर सामना करती आई हैं। हर एक मुद्दे को वो खुद से जोड़कर उस पर अपनी बात रखती हैं और यही वजह है कि वो विवादों में घिर जाती हैं। फिर चाहे वो नेपोटिज्म पर बहस हो या कोई अन्य मामला हो।

दीपाली श्रीवास्तव

अपनी राय बतायें

सिनेमा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें