loader
रुझान / नतीजे

बिहार विधानसभा चुनाव 20200 / 243

एनडीए
0
महागठबंधन
0
अन्य
0

चुनाव में दिग्गज

दो साल तक बैंक की किश्त नहीं भरने की छूट मिलेगी?

यह मुमकिन है कि अगले दो साल तक आपको बैंक की किश्त नहीं भरने से छूट मिल जाए। केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में कहा है कि कोरोना संकट की वजह से लोन मोरेटोरियम को दो साल तक के लिए बढ़ाया जा सकता है। फिलहाल लोन मोरेटोरियम 6 महीने के लिए था, जो 31 अगस्त को ख़त्म हो गया।

लोन मोरेटोरियम

सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने केंद्र सरकार और रिज़र्व बैंक का पक्ष रखते हुए कहा कि क़र्ज़ चुकाने की मोहलत 2 साल तक बढ़ सकती है। उन्होंने यह भी कहा कि प्रभावित क्षेत्रों की पहचान की जा रही है। ऐसे लोग महामारी के कारण हुए नुक़सान के प्रभाव के हिसाब से अलग-अलग फ़ायदा ले सकते हैं।
अर्थतंत्र से और खबरें
सुप्रीम कोर्ट में मंगलवार को एक याचिका पर सुनवाई हुई जिसमें लोन मोरिटेरियम की अवधि बढ़ाने की मांग की गई है।  याचिककर्ता ने सुप्रीम कोर्ट से मोहलत की अवधि 31 दिसंबर 2020 तक बढ़ाने की मांग की है।
तुषार मेहता ने क़र्ज पर लगने वाले ब्याज पर ब्याज यानी चक्रवृद्धि ब्याज के मुद्दे पर अदालत से और समय मांगा है। उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर केंद्र सरकार, बैंक एसोसिएशनों और रिज़र्व बैंक के बीच बैठक होगी और इस समस्या का कोई समाधान निकाला जाएगा। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अदालत में पहले ही इस मामले में तीन बार सुनवाई टाल चुकी है।
इस याचिका पर अगली सुनवाई बुधवार को है।
बैंकों से लिए क़र्ज़ चुकाने पर मिली समय की छूट का मामला जितना आसान दिखता है, वाकई में होता नहीं है। जिसने क़र्ज़ लिया है, उसे ब्याज तो चुकाना ही होगा, अभी न सही बाद में। बैंक करता यह है कि लोन मोरेटोरियम की अवधि का पूरा पैसा ब्याज समेत मूल धन में जोड़ देता। 
इस तरह क़र्ज़ लेने वाले को इस ब्याज पर ब्याज देना होता है और वह भी लंबे समय के लिए, जिससे उसका ब्याज कई गुणे बढ जाता है। बैंकों को यह सुविधा होती है कि वे ब्याज को मूल धन में जोड़ देते हैं तो वह तकनीकी तौर पर एनपीए नहीं कहाता है। उन्हें इस पैसे पर लंबे समय में अधिक ब्याज मिलता है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें