loader

केरल: कुरान की प्रतियों, खजूर और सोने की तस्करी पर घिरी वाम मोर्चा सरकार

केरल में राजनीति सांप्रदायिक रंग लेती नज़र आ रही है। विधानसभा चुनाव में एक साल से भी कम का समय बचा है, इस वजह से राजनीतिक दलों के बीच दाँव-पेच तेज़ हो गए हैं और उन्होंने अपने विरोधियों पर तीख़े हमले शुरू कर दिये हैं। लेकिन पहली बार केरल की राजनीति में सांप्रदायिक मुद्दे हावी होते नज़र आ रहे हैं। 

सोने की तस्करी के मामले में बुरी तरह से उलझी वाम मोर्चा सरकार अब संयुक्त अरब अमीरात यानी यूएई से राजनयिक रास्ते से पवित्र कुरान और खजूर मँगवाने को लेकर विपक्षी पार्टियों के निशाने पर है। 

बिना ज़रूरी दस्तावेज़ों के राजनयिक रास्ते से आई पवित्र कुरान की कई सारी प्रतियों और अठारह हज़ार किलो खजूर की खेप स्वीकार करने के लिए सीमा शुल्क विभाग ने केरल सरकार के ख़िलाफ़ दो मामले दर्ज़ कर जांच शुरू की है। आरोप है कि वामपंथी नेताओं ने निजी इस्तेमाल के लिए अरब से सामान मँगवाए, जोकि विदेशी मुद्रा नियमन अधिनियम (एफसीआरए) का उल्लंघन है। 

ताज़ा ख़बरें

मामले का पता चलते ही राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) भी हरकत में आये और मामले की जांच शुरू की। इस मामले में निशाने पर रहे केरल के उच्च शिक्षा मंत्री के. टी. जलील ने स्वीकार किया था कि रमज़ान महीने में अरब से कुरान की जो प्रतियाँ आयीं थीं, वे उन्होंने अपने निर्वाचन क्षेत्र के लोगों को दी थीं। 

कांग्रेस का जोरदार प्रदर्शन

इसके बाद जांच एजेंसियों ने जलील से पूछताछ की। मामले की जांच अब भी जारी है। लेकिन इस मुद्दे को लेकर विपक्षी पार्टियों-  कांग्रेस और बीजेपी, ने मुख्यमंत्री पिनराई विजयन, जलील और वाम मोर्चा सरकार पर तीखे हमले शुरू कर दिये। कांग्रेस ने जलील के इस्तीफे की मांग की और अपनी मांग के समर्थन में राज्यभर में कई जगह प्रदर्शन किए। सचिवालय के सामने भी कांग्रेसियों ने जमकर नारेबाजी की। 

कांग्रेस ने आरोप लगाया कि राज्य सरकार में मंत्री जलील के जरिये खुद मुख्यमंत्री विजयन ने अपने निजी और राजनीतिक स्वार्थों की पूर्ति की है। विदेश से गैर कानूनी तरीके से कुरान की प्रतियाँ मंगवाकर उन्हें लोगों में बांटकर राजनीतिक लाभ उठाने की कोशिश की है।

अब कांग्रेस भी सांप्रदायिक?

इन आरोपों के जवाब में वामपंथी नेताओं ने आरोप लगाया कि अब कांग्रेस भी बीजेपी की भाषा बोल रही है और सांप्रदायिकता की राजनीति करने लगी है। उधर, बीजेपी ने भी मौके का पूरा फायदा उठाने की कोशिश में विजयन सरकार के ख़िलाफ़ राज्यभर में आंदोलन तेज़ कर दिया है। 

'कुरान विरोधी' प्रदर्शन?

बीजेपी नेताओं का आरोप है कि वाम मोर्चा की सरकार मुसलमानों के वोट हासिल करने के लिए तुष्टीकरण की राजनीति में मग्न है। कांग्रेस और बीजेपी के लगातार बढ़ते हमलों के जवाब में वामपंथी पार्टियों ने भी अपना रुख और सख्त कर लिया और विजयन सरकार के विरोध में किए जा रहे प्रदर्शनों को 'कुरान विरोधी' करार दिया। 

मार्क्सवादी पार्टी के प्रदेश सचिव कोडिएरी बालाकृष्णन ने राज्य के मंत्री जलील का जमकर बचाव किया और एक बयान में कहा कि कुरान की प्रतियाँ लोगों को देना अपराध नहीं है और एक साज़िश के तहत राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ और बीजेपी वामपंथियों के खिलाफ दुष्प्रचार कर रहे हैं। इस साज़िश में कांग्रेस और उसकी सहयोगी पार्टी मुसलिम लीग भी शामिल हो गई हैं। 

अय्यप्पा स्वामी मंदिर प्रकरण 

गौर करने वाली बात है कि इससे पहले सबरीमला के अय्यप्पा स्वामी मंदिर में एक निश्चित आयु वर्ग की महिलाओं के प्रवेश से जुड़े मुद्दे को लेकर भी केरल की राजनीति पर सांप्रदायिक रंग चढ़ गया था। वामपंथियों ने महिलाओं के मंदिर में प्रवेश का पुरजोर समर्थन किया था। जबकि बीजेपी और कांग्रेस ने पुरानी परंपरा को बनाए रखते हुए मंदिर में महिलाओं को प्रवेश न देने की मांग को लेकर राज्यभर में आंदोलन किया था। अब राजनीति कुरान की प्रतियों को मतदाताओं को देने को लेकर शुरू हुई है। 

गौर करने वाली बात यह भी है कि कुरान की प्रतियों और खजूर के अलावा भारी मात्रा में सोना भी राजनयिक रास्ते से केरल पहुंचा। यह सोना भी निजी इस्तेमाल के लिए मंगवाया गया था।

चूंकि राजनयिक रास्ते से मँगवाए गए सोने की कीमत करोड़ों में थी, इसलिए सीमा शुल्क विभाग, प्रवर्तन निदेशालय और राष्ट्रीय जांच एजेंसी ने मामला दर्ज़ कर जांच शुरू की। जांच एजेंसियों ने मुख्य आरोपी स्वप्ना सुरेश और उसके साथियों  संदीप नायर और सरिथ पीएस को गिरफ्तार किया। गिरफ्तारी से पहले मुख्य आरोपी स्वप्ना सुरेश केरल सरकार की एक संस्था में काम करती थीं और उनके मुख्यमंत्री कार्यालय के कुछ बड़े अधिकारियों से अच्छे सम्बन्ध थे। 

केरल से और ख़बरें

मुख्यमंत्री विजयन के प्रधान सचिव शिव शंकर के स्वप्ना सुरेश से सीधे संबंध होने की बात जब जगजाहिर हुई तो विजयन ने उन्हें अपने कार्यालय से हटा दिया। विपक्ष का आरोप है कि स्वप्ना सुरेश मंत्री जलील के भी लगातार संपर्क में रही हैं। इसी वजह से मंत्री जलील को इस्तीफा देना चाहिए।

सांप्रदायिक राजनीति?

बहरहाल, इतना साफ है कि केरल की राजनीति में सांप्रदायिक मुद्दे हावी होने लगे हैं। धर्म के नाम पर राजनीति शुरू हो चुकी है। मई, 2021 में केरल में विधानसभा चुनाव होने हैं। चुनाव सिर्फ नौ महीने दूर हैं और इसी वजह से राज्य में सारा माहौल चुनावी हो गया है। अब तक विकास, सिद्धांतों और जन-समस्याओं को लेकर केरल में विधानसभा चुनाव होते रहे हैं, लेकिन हालिया घटनाओं और राजनीतिक आंदोलनों से स्पष्ट हो गया है कि इस बार के विधानसभा चुनाव में ‘सांप्रदायिकता’ भी मुद्दा रहेगी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
दक्षिणेश्वर

अपनी राय बतायें

केरल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें