loader

असम सीएम का आरोप : मिज़ो पुलिस ने चलाई एलएमजी

छह पुलिस कर्मियों की मौत और मिज़ोरम के साथ बढ़ते तनाव के बीच असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सर्मा ने मिज़ोरम पुलिस पर 'भड़काने वाली कार्रवाई' करने का आरोप लगाया है। 

उन्होंने एक वीडियो ट्वीट कर कहा कि मिज़ोरम पुलिस ने असम के लोगों पर लाइट मशीनगन का इस्तेमाल किया है। 

असम के मुख्यमंत्री ने ट्वीट किया, 'देखें कि मिज़ोरम पुलिस ने क्या किया और कैसे विवाद को बढ़ा दिया।' उन्होंने इसके साथ लिखा, 'दुखद और भयावह।'

बिस्व सर्मा ने इसके साथ जो वीडियो लगाया है, उसमें मिज़ोरम पुलिस के कुछ जवान एक जगह बैठे हुए अपनी भाषा में बात कर रहे हैं, उनके हाथ में एलएमजी यानी लाइट मशीनगन है। 

छह पुलिस कर्मी मारे गए

बता दें कि सोमवार को दोनों राज्यों की सीमा पर हुई झड़प में असम पुलिस के सब इंस्पेक्टर स्वपन राय और कांस्टेबल लिटन सुक्लावैद्य, एम. एच. बड़ोभुया, एन. हुसैन और एस बड़ोभुया मारे गए। 

असम के मुख्यमंत्री ने मारे गए पुलिस कर्मियों के प्रति संवेदना जताई और कहा, 'पक्के साक्ष्य हैं जिससे पता चलता है कि मिज़ोरम पुलिस ने लाइट मशीनगन का इस्तेमाल किया है।'

मामला दर्ज

उन्होंने कहा, "यह दुखद, दुर्भाग्यपूर्ण है और इससे स्थिति की गंभीरता और मक़सद का पता चलता है।" 

वैरंगते पुलिस स्टेशन में मिज़ोरम पुलिस के ख़िलाफ़ एक्सप्लोसिव सब्सटैन्सेज एक्ट के तहत मामला दर्ज कराया गया है। 

असम पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा है कि 10 जुलाई को मिज़ोरम के 25-30 लोग असम की सीमा के 25 मीटर अंदर खुलीचेरा सीआरपीएफ कैंप में घुस गए। 

ख़ास ख़बरें

यह आरोप भी लगाया गया है कि मिज़ोरम से आए लोगों ने असम में जंगल साफ करने के काम और पीडब्लूडी के सड़क निर्माण काम में अड़चन डाली। 

असम के मुख्यमंत्री ने कहा है कि वे इनर लाइन फ़ॉरेस्ट रिज़र्व की सुरक्षा के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करेंगे। 

उन्होंने सिलचर में घायल पुलिस कर्मियों से मुलाक़ात करने के बाद कहा कि झूम खेती के लिए जंगल साफ किया जा रहा है और सड़क बनाया जा रहा है और इन गतिविधियों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। 

assam cm blames mizoram police for assam-mizoram clashes - Satya Hindi

फरवरी 2018 में मिज़ोरम के छात्र संगठन मिज़ ज़िरलाई पॉल ने सीमा पर लकड़ी का एक घर बनाया। असम पुलिस ने यह कह कर इसे गिरा दिया कि यह असम की सीमा में है। इस पर हिंसक झड़पें हुईं।

विवाद की शुरुआत

पिछले साल अक्टूबर में असम के लैलापुर में एक निर्माण कार्य का मिज़ोरम ने यह कह कर विरोध किया था कि यह उसके इलाक़े में है। 

लैलापुर असम के कछार ज़िले में है और यह मिज़ोरम के कोलासिब ज़िले के वैरेंगेते इलाक़े से सटा हुआ है। 

इस हिंसा के बाद 9 अक्टूबर को असम के करीमगंज और मिज़ोरम के मामित ज़िले के लोगों के बीच झड़पें हुईं। 

मिज़ोरम के दो बाशिंदों के पान के बगीचे में आग लगा दी गई थी।

assam cm blames mizoram police for assam-mizoram clashes - Satya Hindi

कछार में एक और वारदात हुई, जिसमें मिज़ोरम पुलिस के लोगों पर लैलापुर के लोगों ने पत्थर फेंके। इसके बाद मिज़ोरम के लोग एकत्रित हो गए और उन्होंने लैलापुर के लोगों पर हमला कर दिया। 

मौजूदा विवाद की शुरुआत इसी इलाक़े से हुई। 

मिज़ोरम के कोलासिब  के डिप्टी पुलिस सुपरिटेंडेंट एच. ललथंगलियाना के मुताबिक़, कुछ साल पहले असम और मिज़ोरम के बीच स्थिति जस का तस बनाए रखने पर सहमति बनी थी। लेकिन लैलापुर के लोगों ने इस क़रार को तोड़ा और सीमा पर अस्थायी निर्माण कार्य किया। मिज़ोरम के लोग इस पर वहाँ गए और आग लगा दी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

असम से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें