loader

मिज़ो सांसद ने दी असम पुलिस के लोगों को मारने की धमकी, पुलिस करेगी पूछताछ

असम-मिज़ोरम झड़प के बाद दोनों राज्यों की सीमा पर केंद्रीय बल तैनात कर दिया गया है और शांति लौट रही है, लेकिन विवाद नहीं थम रहा है।

ताज़ा विवाद मिज़ोरम के राज्यसभा सदस्य के. वनललवेना के कथित भड़काऊ बयान को लेकर उठ खड़ा हुआ है।

'एनडीटीवी' के अनुसार, वनललवेना ने कथित रूप से असम पुलिस के लोगों को मार डालने की बात कही है। इस पर असम पुलिस के लोग गुरुवार को दिल्ली जाएंगे और हत्या की धमकी देने के मुद्दे पर इस सांसद से पूछताछ करेंगे।

ख़ास ख़बरें

क्या कहा वनललवेना ने?

मंगलवार को असम-मिज़ोरम सीमा पर दोनों राज्यों के बीच झड़पें हुईं, जिसमें असम पुलिस के छह लोग मारे गए। इस पर काफी विवाद मचा।

लेकिन इस विवाद को शांत करने के बजाय आग में घी डालने का काम किया है सांसद वनललवेना ने। उन्होंने बुधवार की शाम कहा, "असम के 200 लोग हमारे इलाक़े में घुस आए, हमारे लोगों को उनके पोस्ट से खदेड़ दिया और पहले गोलीबारी उन्हीं लोगों ने की।" 

उन्होंने इसके आगे कहा, 

उनका भाग्य अच्छा था कि हमने उनकी हत्या नहीं की, यदि वे फिर आएंगे तो हम उन सबको उन्हें मार डालेंगे।


के. वनललवेना, राज्यसभा सदस्य

असम की तीखी प्रतिक्रिया

इस पर असम में तीखी प्रतिक्रिया हो रही है। असम पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी जी. पी. सिंह ने ट्वीट कर कहा कि इससे साफ होता है कि वनललवेना इस साजिश के पीछे थे। लेकिन बाद में उन्होंने यह ट्वीट डिलीट कर दिया है।असम पुलिस ने उन लोगों की एक फोटो गैलरी तैयार की है, जो उसके मुताबिक़, हमले में शामिल थे। इसमें मिज़ोरम पुलिस के अलावा आम नागरिक भी हैं। 

मिज़ोरम के इस सांसद ने ट्वीट कर झड़प में मारे गए असम पुलिस के लोगों के प्रति श्रद्धांजलि जताई है।

असम ने यह एलान भी किया है कि हमलावर के बारे में जानकारी देने वालों को पाँच लाख रुपए का ईनाम दिया जाएगा। 

असम-मिज़ोरम सीमा पर असम के कछार ज़िले के इनर लाइन फॉरेस्ट रिज़र्व में हुई इस झड़प में 45 लोग घायल भी हुए हैं। इसमें पुलिस वाले और स्थानीय नागरिक हैं। 

assam-mizoram clashes :  Vanlalvena threatens assam police - Satya Hindi

इस बीच मिज़ोरम के मुख्य सचिव ने बुधवार को एलान किया कि वे अपनी पुलिस को विवादित क्षेत्र से लौट आने का आदेश दे चुके हैं।

दोनों राज्यों के मुख्य सचिवों और पुलिस महानिदेशकों की नई दिल्ली में गृह मंत्रालय के अफ़सरों के साथ हुई बैठक के बाद मिज़ोरम के मुख्य सचिव ने यह फ़ैसला लिया।

उन्होंने कहा, "हम शांति बनाए रखेंगे।"

बैठक के बाद गृह मंत्रालय ने एक बयान में कहा, हम असम- मिज़ोरम विवाद से चिंतित हैं जिसमें छह लोगों की जान गई है। इस बैठक का मक़सद तनाव कम करना, शांति कायम करना और संभव हो तो समस्या का समाधान ढूंढना है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

असम से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें