loader

असम: आतंकी हमले में पांच की मौत, डीएनएलए पर लगा आरोप

असम में आतंकवादियों की ओर से किए गए हमले में पांच लोगों की मौत हो गई है। यह वाक़या दिमा हसाओ जिले के दिव्युंगब्रा इलाक़े में गुरूवार रात को हुआ। हमला करने का आरोप दिमासा नेशनल लिबरेशन आर्मी (डीएनएलए) पर लगा है। 

असम पुलिस ने कहा है कि आतंकवादियों ने ट्रक ड्राइवर्स और कुछ अन्य लोगों पर कई राउंड फ़ायरिंग की और इसके बाद सात ट्रकों में आग लगा दी। इन सभी ट्रकों में कोयला और कुछ अन्य सामान ले जाया जा रहा था। बताया गया है कि कुछ ट्रक ड्राइवर्स विद्रोहियों की चपेट में आने से बच गए और ट्रक लेकर भाग गए। 

दिमा हसाओ जिले के एसपी जयंत सिंह ने कहा कि विद्रोहियों ने ऑटोमैटिक हथियारों से फ़ायरिंग की है। उन्होंने कहा कि 5 लोगों के शव मिले हैं और उनकी पहचान कराई जा रही है। वाक़ये के बाद पुलिस और असम राइफल्स के जवानों ने तलाशी अभियान चलाया और हमलावरों की तलाश की। 

ताज़ा ख़बरें

स्वतंत्र दिमासा राष्ट्र की मांग 

डीएनएलए का गठन 2019 में हुआ था, इससे जुड़े आतंकवादियों की मांग है कि दिमासा जनजाति के लोगों के लिए एक अलग संप्रभु और स्वतंत्र राष्ट्र ‘दिमाराजी’ बनाया जाए। असम के दिमा हसाओ, कार्बी आंगलांग, कछार, नागांव और नागालैंड के कुछ हिस्सों में इस जनजाति के लोग रहते हैं। 

दिमा हसाओ जिले में 1990 और 2000 के दौरान आतंकवाद चरम पर था। उस दौरान भी इस तरह के कई हमले हुए थे। 2008 में दीमा हलम दाओगाह नाम के संगठन ने एक ट्रक में आग लगा दी थी, इस घटना में 10 लोगों की मौत हो गई थी। 

असम से और ख़बरें

दिमा नेशनल सिक्योरिटी फ़ोर्स नाम के समूह ने सरकार के साथ युद्ध विराम का समझौता कर लिया था लेकिन डीएनएलए का कहना है कि वह स्वतंत्र दिमासा राष्ट्र की मांग को लेकर लड़ाई लड़ता रहेगा।

इस साल मई में डीएनएलए को बड़ा झटका तब लगा था जब इसके शीर्ष छह कमांडर्स को कार्बी आंगलांग जिले में मुठभेड़ के दौरान असम पुलिस और असम राइफल्स के जवानों ने मौत के घाट उतार दिया था। 

बीते दिनों मिज़ोरम के साथ हुए सीमा विवाद को लेकर भी असम ख़ासा सुर्खियों में रहा। केंद्रीय गृह मंत्रालय के दख़ल के बाद दोनों राज्यों ने अपने पांव पीछे खींचे लेकिन विवाद भड़कने की आशंका बनी रहती है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

असम से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें