loader

मिज़ोरम ने विवादित क्षेत्र से पुलिस वापस बुलाई, सीआरपीएफ़ तैनात

असम-मिज़ोरम सीमा पर दोनों राज्यों के बीच हुई झड़प और उसमें असम पुलिस के छह लोगों के मारे जाने के बाद अब शांति लौट रही है।

मिज़ोरम के मुख्य सचिव ने बुधवार को एलान किया कि वे अपनी पुलिस को विवादित क्षेत्र से लौट आने का आदेश दे चुके हैं।

दोनों राज्यों के मुख्य सचिवों और पुलिस महानिदेशकों की नई दिल्ली में गृह मंत्रालय के अफ़सरों के साथ हुई बैठक के बाद मिज़ोरम के मुख्य सचिव ने यह फ़ैसला लिया।

उन्होंने कहा, "हम शांति बनाए रखेंगे।"

ख़ास ख़बरें

नई दिल्ली में बैठक

केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने इस बैठक की अध्यक्षता की। इसमें असम के मुख्य सचिव जिष्णु बरुआ और पुलिस महानिदेशक भास्कर ज्योति महंत मौजूद थे।

इसके अलावा इस बैठक में मिज़ोरम के मुख्य सचिव ललनुमाविया चुआनगो और पुलिस महानिदेशक एस. बी. के. सिंह ने भी भाग लिया। 

बैठक के बाद गृह मंत्रालय ने एक बयान में कहा,

हम असम- मिज़ोरम विवाद से चिंतित हैं जिसमें छह लोगों की जान गई है। इस बैठक का मक़सद तनाव कम करना, शांति कायम करना और संभव हो तो समस्या का समाधान ढूंढना है।


केंद्रीय गृह मंत्रालय

इस बैठक में केंद्रीय रिज़र्व पुलिस बल के महानिदेशक भी मौजूद थे। विवादित क्षेत्र में सीआरपीएफ़ को तैनात कर दिया गया है। 

छह पुलिस कर्मी मारे गए

बता दें कि सोमवार को दिनों राज्यों की सीमा पर हुई झड़प में असम पुलिस के सब इंस्पेक्टर स्वपन राय और कांस्टेबल लिटन सुक्लावैद्य, एम. एच. बड़ोभुया, एन. हुसैन और एस बड़ोभुया मारे गए। 

असम के मुख्यमंत्री ने मारे गए पुलिस कर्मियों के प्रति संवेदना जताई और कहा, 'पक्के साक्ष्य हैं जिससे पता चलता है कि मिज़ोरम पुलिस ने लाइट मशीनगन का इस्तेमाल किया।'

mizoram withdraws police from assam-mizoram border - Satya Hindi

क्या कहना है असम का?

असम पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा है कि 10 जुलाई को मिज़ोरम के 25-30 लोग असम की सीमा के 25 मीटर अंदर खुलीचेरा सीआरपीएफ कैंप में घुस गए। 

यह आरोप भी लगाया गया है कि मिज़ोरम से आए लोगों ने असम में जंगल साफ करने के काम और पीडब्लूडी के सड़क निर्माण काम में अड़चन डाली। 

असम के मुख्यमंत्री ने कहा है कि वे इनर लाइन फ़ॉरेस्ट रिज़र्व की सुरक्षा के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करेंगे। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

असम से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें