loader

विराट की बेटी को धमकी पर महिला आयोग ने पुलिस से कार्रवाई करने को कहा

भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली के परिवार को निशाने पर लेकर भेजे गए अश्लील मैसेज के ख़िलाफ़ अब कार्रवाई होगी। दिल्ली महिला आयोग यानी डीसीडब्ल्यू ने इस मामले में दिल्ली पुलिस को क़ानूनी नोटिस भेजकर कार्रवाई करने को कहा है। 

डीसीडब्ल्यू ने ऐसे संदेशों के बारे में प्रकाशित मीडिया रिपोर्टों का स्वत: संज्ञान लिया है। इसने नोटिस को ट्वीट किया है। 

पुलिस उपायुक्त (साइबर) को भेजे गए डीसीडब्ल्यू के नोटिस में कहा गया है कि भारत द्वारा पाकिस्तान के ख़िलाफ़ टी-20 विश्व कप मैच हारने के बाद इस तरह के संदेश ऑनलाइन भेजे गए थे।

डीसीडब्ल्यू अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने कहा, 'यह पता चला है कि कोहली पर भी हमला किया जा रहा है क्योंकि उन्होंने अपने साथी मोहम्मद शमी की लगातार ट्रोलिंग के ख़िला़फ बात की थी, जिन्हें ऑनलाइन ट्रोल द्वारा उनके धर्म के लिए निशाना बनाया गया था... यह एक बहुत ही गंभीर बात है और तत्काल कार्रवाई की मांग करता है।'

ताज़ा ख़बरें

बता दें कि टी-20 विश्व कप मैच में पाकिस्तान के हाथों भारत की हार के बाद मोहम्मद शमी को निशाना बनाया गया था। इसी को लेकर मोहम्मद शमी के बचाव में आए विराट कोहली ने ट्रोल को कुंठा से ग्रसित और रीढ़विहीन करार दिया था। उन्होंने कहा था कि वे मैदान में जूझने वाले लोग हैं, ट्रोल के मनोरंजन का साधन नहीं। विराट ने कहा था कि वह मोहम्मद शमी के साथ खड़े हैं। उन्होंने कहा था, 'किसी के धर्म पर हमला करना सबसे ख़राब चीज है जो एक इंसान कर सकता है। धर्म एक पवित्र और व्यक्तिगत चीज़ है और किसी को किसी के धार्मिक मामले में दख़ल नहीं देना चाहिए।'

विराट कोहली की इसी प्रतिक्रिया के बाद ट्रोलों ने विराट के ख़िलाफ़ भी ट्विटर पर अनाप-शनाप लिखा। इसी दौरान विराट के परिवार को निशाना बनाया गया। इस पर मीडिया रिपोर्टों का स्वत: संज्ञान लेकर महिला आयोग ने नोटिस जारी किया है।

महिला आयोग ने दिल्ली पुलिस को एक प्राथमिकी दर्ज करने, उसकी एक प्रति जमा करने, ऐसे संदेशों को भेजने वाले लोगों की पहचान करने और उनको गिरफ़्तार करने के लिए कहा। मालीवाल ने छह नवंबर तक कार्रवाई की विस्तृत रिपोर्ट मांगी है।

दिल्ली से और ख़बरें

'द इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के अनुसार, साइबर सेल के एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, 'हमें डीसीडब्ल्यू द्वारा जारी नोटिस मिला है, लेकिन दिल्ली पुलिस ने पहले ही मामले का संज्ञान ले लिया है। हम ट्वीट और संबंधित हैंडलर का विश्लेषण कर रहे हैं। हम मामले की जाँच कर रहे हैं लेकिन अभी तक कोई मामला दर्ज नहीं किया गया है।'

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें