loader

ऑड-ईवन : क्या केजरीवाल का मक़सद सिर्फ़ छवि चमकाना है?

ऑड-ईवन फ़ॉर्मूला दिल्ली में लागू करने के पीछे दिल्ली सरकार का क्या मक़सद है? क्या दिल्ली के मुख्य मंत्री अरविंद केजरीवाल इस मुद्दे पर कोरी राजनीति कर रहे हैं? क्या वे प्रदूषण कम करने को लेकर वाकई गंभीर हैं? या इस बहाने वे चुनाव से पहले राजनीतिक गोल दागना चाहते हैं?
ये सवाल इसलिए उठ रहे हैं कि इस फ़ॉर्मूले में जिन गाड़ियों को छूट दी गई है, उनसे प्रदूषण फैलाने में पीछे नहीं है। इसे एक उदाहरण से समझा जा सकता है। 
दिल्ली से और खबरें
ऑड-ईवन फ़ॉर्मूला के तहत दोपहिया गाड़ियों को छूट दी गई है। दिल्ली आर्थिक सर्वेक्षण 2018-19 के मुताबिक़, दिल्ली राजधानी क्षेत्र में कुल गाड़ियों की तादाद 1.09 करोड़ है। इसमें सिर्फ़ दोपहिया गाड़ियों की संख्या 70,78,428 है। कार और जीप की संख्या 32,46,637 है। यानी, 70 लाख से अधिक दोपहिया गाड़ियाँ ऑड-ईवन के बावजूद दौड़ती रहेंगी। 
इसके उन गाड़ियों को भी छूट दी गई है, जिन्हें महिलाएँ चला रही होंगी या जिन में महिलाएँ होंगी। उन गाड़ियों को भी छूट मिलेगी, जिनमें 12 साल तक के बच्चे या विकलांग व्यक्ति सवार होंगे। इसके अलावा 29 तरह की गाड़ियों को ऑड-ईवन से बाहर रखा गया है। 
इतने लोगों को छूट मिलने से पूरी स्कीम पर ही सवालिया निशान लग गए हैं। इन छूटों की वजह से प्रदूषण कितना कम होगा, यह सवाल उठना लाज़िमी है। 

दूसरी बात यह है कि अब तक के दो बार के ऑड-ईवन से क्या मिला। क्या उससे प्रदूषण में कमी आई थी, यह सवाल पूछा जा रहा है। 

पहली बार 2016 में एक से 15 जनवरी तक और फिर उसी साल 15 से 30 अप्रैल तक लागू किया गया था।

दिल्ली में जब 2016 में दो बार ऑड-ईवन लागू हुआ तो केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड यानी सीपीसीबी ने प्रदूषण के स्तर के आँकड़ों का विश्लेषण किया था। 
सीपीसीबी ने इसमें आईआईटी कानपुर के अध्ययन का भी ज़िक्र किया जिसमें कहा गया था कि कुल प्रदूषण का 10 फ़ीसदी प्रदूषण चारपहिया वाहनों से निकलने वाले धुएँ से होता है।
यदि सिर्फ़ 10 प्रतिशत प्रदूषण ही चारपहिया गाड़ियों की वजह से होता है तो साफ़ है कि ऑड-ईवन से कोई ख़ास फ़ायदा नहीं होगा। 
इसके अलावा एक सच और है, जो ऑड-ईवन के प्रभाव को हल्का करता है।
सिस्टम ऑफ़ एयर क्वालिटी वेदर फ़ोरकास्टिंग एंड रिसर्च (एसएएफ़एआर) के अनुसार दिल्ली में 44 फ़ीसदी प्रदूषण आसपास के राज्यों में पराली जलाने के कारण है। ऑड-ईवन लागू करने से पराली जलाने पर तो कोई फ़र्क नहीं पड़ने वाला है।

यह भी महत्वपूर्ण है कि यह सारा सबकछ ऐसे समय हो रहा है, जब विधानसभा के चुनाव बहुत दूर नहीं है। 

ऐसा लगता है कि यह सरकार का एक तरह का पीआर का काम है, यानी प्रचार के लिए किया जा रहा है, क्योंकि इससे कोई लाभ होता नहीं दिख रहा है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें