loader

निगाहें एग़्जिट पोल पर, किसे कितनी सीटें मिल सकती हैं?

थोड़ी देर में दिल्ली विधानसभा चुनाव के एग़्जिट पोल के नतीजे सामने आ जाएंगे। हालांकि इन एग़्जिट पोल के नतीजों को अंतिम नहीं माना जा सकता, यह भी ज़रूरी नहीं कि वास्तविक नतीजे भी ऐसे ही हों, पर इससे एक संकेत तो मिलता ही है। 

हालाँकि केजरीवाल अपने 5 साल के कार्यकाल में सरकार के काम, ख़ास कर, स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में किए गए कार्यों की वजह से आत्मविश्वास से भरे हुए हैं। पर यह जानना दिलचस्प होगा कि एग्जिट पोल में आम आदमी पार्टी को कितनी सीटें मिलती दिखती हैं। 

दिल्ली की पहली विधानसभा का गठन 1993 में हुआ था और यह सातवाँ विधानसभा चुनाव है। दिल्ली की 70 सदस्यीय विधानसभा में इस बार एक ही चरण में मतदान हुआ है। मतगणना 11 फरवरी को होगी।  दिल्ली विधानसभा का कार्यकाल 22 फरवरी 2020 को समाप्त हो जाएगा।
इस चुनाव में कुल 672 प्रत्याशी अपनी किस्मत आजमा रहे हैं। दिल्ली के 1,47,86,382 मतदाता आज तय करेंगे कि वे दिल्ली की सत्ता किसे सौंपेगे। चुनाव के नतीजे 11 फरवरी को आएंगे।

क्या कहते हैं ओपीनियन पोल्स?

न्यूज़ 24 और ISOMES के ताज़ा ओपिनियन पोल के मुताबिक़ आप को 48-53 सीटें, बीजेपी को 15-20, कांग्रेस को 0-2 सीटें मिल सकती हैं। हर सर्वे में कांग्रेस की हालत ख़राब आ रही है। वैसे, बीजेपी की स्थिति भी ठीक नहीं है, लेकिन कांग्रेस की अपेक्षा बेहतर है। 
दो दिन पहले ही आए टाइम्स नाउ-इपसास के सर्वे में भी कहा गया था कि ‘आप’ इस बार दिल्ली में 54-60 सीटें जीत सकती हैं जबकि बीजेपी को 10 से 14 सीटें मिलने का अनुमान है। कांग्रेस बड़ी मेहनत के बाद भी 0 से 2 सीटों पर ही क़ब्ज़ा जमा सकती है। इस लिहाज से दोनों ओपिनियन पोल में ज़्यादा फर्क पड़ता नहीं दिख रहा है।

एबीपी-सीवोटर पोल

एबीपी-सीवोटर पोल के अनुसार, आम आदमी पार्टी को 70 में 42 से 56 सीटें मिल सकती हैं, जबकि बीजेपी 10-24 सीटें जीत सकती है। कांग्रेस को अधिकतम 4 सीटों पर जीत हासिल सकती है।
इस सर्वे में कहा गया है कि आम आदमी पार्टी को 45.6 प्रतिशत वोट मिल सकते हैं, जबकि बीजेपी को पहले से ज़्यादा यानी 37.10 प्रतिशत वोट मिलने के आसार हैं। कांग्रेस को 4.4 प्रतिशत वोट मिल सकते हैं तो दूसरों को 12.9 प्रतिशत वोट हासिल हो सकता है। 

इंडिया न्यूज़

नेता ऐप-इंडिया न्यूज़ ने अपने सर्वे में पाया है कि आम आदमी पार्टी को 45.60 प्रतिशत वोट हासिल हो सकता है तो बीजेपी को 37.1 प्रतिशत वोट मिल सकता है। वहीं कांग्रेस को 4 प्रतिशत और अन्य के खाते में 10 प्रतिशत वोट जा सकता है। इन्होंने सीटों की तादाद के बारे में कुछ नहीं बताया है। 

इन तीनों सर्वेक्षणों से यह तो साफ़ है कि आम आदमी पार्टी जीत सकती है और एक बार फिर सरकार बना सकती है। साल 2015 में हुए चुनाव में आम आदमी पार्टी को 67 सीटें मिली थीं, जबकि बीजेपी को 3 सीटों पर संतोष करना पड़ा था और कांग्रेस को एक भी सीट नहीं मिली थी। कांग्रेस पार्टी को 2013 में हुए विधानसभा चुनाव में 24 प्रतिशत वोट मिले थे, लेकिन उसका आधार सिकुड़ता चला गया और इस बार उसके 4 प्रतिशत के आसपास वोट पाने की संभावना जताई जा रही है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें