loader

देशमुख पर आख़िरी फ़ैसला मुख्यमंत्री उद्धव लेंगे: शरद पवार

एनसीपी प्रमुख शरद पवार ने कहा है कि अनिल देशमुख पर आख़िरी फ़ैसला मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे लेंगे। वह उन कयासों पर जवाब दे रहे थे कि क्या पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह द्वारा लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोपों के बाद गृह मंत्री अनिल देशमुख की छुट्टी होगी?  हालाँकि उन्होंने आरोप लगाए जाने के समय पर संदेह जताया और कहा कि आरोप अब क्यों लगाया गया? 

यह सवाल उठाने के साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि आरोप गंभीर है और उसकी पूरी जाँच किए जाने की ज़रूरत है। पवार ने रविवार को कहा कि महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख से इस्तीफा मांगना एक विकल्प है और इस पर चर्चा होगी, लेकिन अंतिम निर्णय सीएम उद्धव ठाकरे लेंगे। शरद पवार दिल्ली में मीडियाकर्मियों से बात कर रहे थे। 

ताज़ा ख़बरें

पवार का यह बयान तब आया है जब मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह ने महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख पर शनिवार को सनसनीखेज आरोप लगाया था। उन्होंने राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को पत्र लिखकर आरोप लगाया था कि गृह मंत्री अनिल देशमुख ने सचिन वाजे को हर महीने 100 करोड़ रुपए की उगाही करने के लिए कहा था। 

इस आरोप के बाद विपक्षी दलों ने ताबड़तोड़ हमले किए और अनिल देशमुख का इस्तीफ़ा मांगा। परमबीर की उस चिट्ठी के बाद महाविकास अघाड़ी गठबंधन दलों में गहमागहमी तेज़ हो गई। महाविकास अघाड़ी सरकार पर किसी ख़तरे के सवाल पर पवार ने कहा कि सरकार पर कोई ख़तरा नहीं है और यह गठबंधन सरकार पाँच साल पूरे करेगी।

इसी राजनीतिक गहमागहमी के बीच शरद पवार ने कहा, 'परमबीर मुझसे मिले और कहा कि मेरा ट्रांसफर करना अन्याय है।' पवार ने यह भी कहा कि उनके विभाग में राजनीतिक हस्तक्षेप था। 

शरद पवार ने अपने दो वरिष्ठ पार्टी सदस्यों और महाराष्ट्र के मंत्रियों को उस मुद्दे पर चर्चा करने के लिए दिल्ली बुलाया है।

उन्होंने कहा, 'मेरी पार्टी के नेता आज शाम या कल तक मुझसे मिलने आ रहे हैं। मैंने शिवसेना या कांग्रेस से बात नहीं की। मैंने केवल सीएम ठाकरे से इस मुद्दे पर बात की। हम सभी विकल्पों पर चर्चा करेंगे और इस्तीफा भी उनमें से एक है।' 

शरद पवार ने यह भी कहा, 'मैं उद्धव ठाकरे को सुझाव दूंगा कि परमबीर सिंह द्वारा किए गए दावों की पड़ताल करने के लिए पूर्व आईपीएस अधिकारी जूलियो रिबेरो की मदद लें।'

ऐसी ख़बरें सामने आ रही हैं कि संजय राउत, शरद पवार, अजित पवार और जयंत पाटील आपस में बैठकर महाराष्ट्र के आगे के भविष्य के बारे में चर्चा करेंगे।

sharad pawar says param bir singh corruption allegations against anil deshmukh serious  - Satya Hindi
भ्रष्टाचार का आरोप लगाए जाने के मामले में अनिल देशमुख ने शनिवार को ही कहा है कि वह मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह के ख़िलाफ़ मानहानि का केस करेंगे। उन्होंने एक बयान जारी कर कहा है कि सिंह द्वारा लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोप ग़लत हैं और इसीलिए वह ऐसा क़दम उठा रहे हैं। उन्होंने कहा है कि परमबीर सिंह अपने आरोपों को सही साबित करें। 
दिल्ली से और ख़बरें
बता दें कि इस पूरे मामले की शुरुआत पिछले महीने तब हुई थी जब मुकेश अंबानी के घर के पास विस्फोटक से लदी एक कार मिली थी। पहले उस कार के मालिक के तौर पर मनसुख हिरेन की पहचान की गई। बाद में मनसुख हिरेन का शव मिला। आरोप लगाए गए कि उनकी हत्या हुई है। इसी मामले में फिर महाराष्ट्र पुलिस के अधिकारी सचिन वाजे का नाम आया। उन्हें एनआईए ने पूछताछ के लिए गिरफ़्तार किया। इस बीच मुंबई पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह का तबादला कर दिया गया। और अब परमबीर सिंह ने गृह मंत्री अनिल देशमुख पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए हैं। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

दिल्ली से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें