loader

दिल्ली नगर निगम चुनाव 2022 0 / 250

BJP
0
AAP
0
CONG
0
OTH
0

क्या गंगा में बहते शवों पर कविता लिखना साहित्यिक नक्सलवाद है?

क्या गंगा में बह रहे शवों पर कविता लिखना अराजकता है? और इसका माओवाद या नक्सलवाद से क्या रिश्ता है?

लेकिन गुजरात साहित्य अकादमी के अनुसार यह अराजकता है। इतना ही नहीं, यह साहित्यिक नक्सलवाद है।

क्या है मामला?

गुजरात साहित्य अकादमी के प्रकाशन 'शब्दसृष्टि' के जून अंक के संपादकीय में गुजराती कवियित्री पारुल खाखर की कविता 'शव वाहिनी गंगा' का नाम लिए बग़ैर उस पर टिप्पणी की गई है और कवियित्री की तीखी आलोचना की गई है। 

ख़ास ख़बरें

बता दें कि बिहार व उत्तर प्रदेश में कई जगहों पर गंगा नदी में शव पाए जाने के बाद यह कहा गया था कि ये कोरोना वायरस से संक्रमित हुए और कोरोना से मौत के शिकार हुए लोगों के शव हैं। 

इसके बाद पारुर खाखर ने एक कविता लिखी थी, जो मूलत रूप से गुजराती में थी, जिसका हिन्दी व दूसरी भाषाओ में अनुवाद हुआ और वह कविता सोशल मीडिया में छा गई। पारुल खाखर की गुजराती कविता का हिन्दी अनुवाद-

शव वाहिनी गंगा

एक साथ सब मुर्दे बोले 'सब कुछ चंगा-चंगा'

साहेब तुम्हारे रामराज में शव-वाहिनी गंगा

ख़त्म हुए श्मशान तुम्हारे, ख़त्म काष्ठ की बोरी

थके हमारे कंधे सारे, आंखें रह गई कोरी

दर-दर जाकर यमदूत खेले

मौत का नाच बेढंगा

साहेब तुम्हारे रामराज में शव-वाहिनी गंगा

नित लगातार जलती चिताएं

राहत मांगे पलभर

नित लगातार टूटे चूड़ियां

कुटती छाती घर-घर

देख लपटों को फ़िडल बजाते वाह रे 'बिल्ला-रंगा'

साहेब तुम्हारे रामराज में शव-वाहिनी गंगा

साहेब तुम्हारे दिव्य वस्त्र, दैदीप्य तुम्हारी ज्योति

काश असलियत लोग समझते, हो तुम पत्थर, ना मोती

हो हिम्मत तो आके बोलो

'मेरा साहेब नंगा'

साहेब तुम्हारे रामराज में शव-वाहिनी गंगा

क्या कहना है अकादमी का?

साहित्य अकादमी के अध्यक्ष विष्णु पांड्या ने इस संपादकीय की पुष्टि की है और यह भी माना है कि उनका मतलब पारुल खाखर की वह कविता ही है। 

इस संपादकीय में कविता को 'क्रोध की स्थिति में ग़ुस्से की बेवजह अभिव्यक्ति' बताया गया है और कहा गया है कि 'केंद्र के विरोधी और केंद्र की राष्ट्रवादी विचारधारा का विरोध करने वालों के द्वारा शब्दों का दुरुपयोग है।' 

Gujarat Sahitya Akademi says poem on corona death literary Naxalism - Satya Hindi
पारुल खाखर, गुजराती कवियित्री

अराजकता, नक्सलवाद?

गुजरात साहित्य अकादमी की पत्रिका के संपादकीय में कहा गया है, 'इस कविता के कंधे पर बंदूक रख कर उन लोगों के ख़िलाफ़ चलाया गया है जिन्होंने साजिश शुरू कर दी है, जिनकी प्रतिबद्धता भारत नहीं किसी और से है, जो वामपंथी हैं, कथित लिबरल हैं और जिनकी ओर कोई ध्यान नहीं देता है।' 

इसके आगे कहा गया है कि 'ऐसे लोग भारत में अफरातफरी फैलाना चाहते हैं और अराजकता की सृष्टि करना चाहते हैं। वे सभी मोर्चों पर सक्रिय हैं और साहित्य में उनकी घुसपैठ हो चुकी है।'
'शब्दसृष्टि' के संपादकीय में कहा गया है, 

इन साहित्यिक नक्सलियों का मक़सद समाज के उन लोगों को प्रभावित करना है जो अपना सुख-दुख कहना चाहते हैं।


गुजरात साहित्य अकादमी की पत्रिका शब्दसृष्टि

क्या कहना है अकादमी के अध्यक्ष का?

विष्णु पांड्या ने 'इंडियन एक्सप्रेस' के कहा, 'कविता में कोई तत्व नहीं है और न ही इसे कविता की तरह लिखा गया है। यह सिर्फ किसी के क्रोध या कुंठा की अभिव्यक्ति है और लिबरल, केंद्र-विरोधी, मोदी-विरोधी व आरएसएस-विरोधी तत्वों द्वारा इसका दुरुपयोग किया गया है।'

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

गुजरात से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें