loader

दुष्यंत क्यों बोले- सरकार को ख़तरा नहीं? सब ठीक तो है न?

हरियाणा में बीजेपी-जेजेपी गठबंधन सरकार पर संकट की आशंकाओं के बीच मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर और उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा है कि सरकार पर कोई ख़तरा नहीं है और यह पाँच साल पूरा करेगी। दोनों नेताओं ने यह बात तब कही जब वे मंगलवार को गृह मंत्री अमित शाह से मिलकर आए थे। अमित शाह के साथ खट्टर और चौटाला की यह बैठक कृषि क़ानूनों पर सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के बाद हुई। सुप्रीम कोर्ट ने फ़ैसले में कृषि क़ानूनों पर तात्कालिक तौर पर रोक लगा दी है और कमेटी गठित की है। किसान इन कृषि क़ानूनों को रद्द करने की माँग कर रहे हैं और किसानों के इसी प्रदर्शन के कारण खट्टर सरकार के संकट में होना बताया जा रहा है।

खट्टर सरकार पर संकट के कयास इसलिए लगाए जा रहे हैं क्योंकि किसान आंदोलन के बाद हाल में घटनाएँ ही कुछ ऐसी घटी हैं। 

ताज़ा ख़बरें

अमित शाह की खट्टर और दुष्यंत चौटाला के साथ बैठक हुई। दुष्यंत चौटाला भी अपने दल के विधायकों से मिले। खट्टर ने भी मंगलवार को एकाएक निर्दलीय विधायकों से मुलाक़ात की है। हाल ही में मुख्यमंत्री खट्टर की करनाल में किसान महापंचायत का ज़बरदस्त विरोध हुआ और उनको अपना कार्यक्रम रद्द करना पड़ा। कांग्रेस बार-बार विधानसभा में अविश्वास प्रस्ताव की माँग को लेकर मोर्चा खोले हुए है। और इस बीच आईएनएलडी के नेता अभय चौटाला ने विधानसभा अध्यक्ष को ख़त लिखकर कहा है कि कृषि क़ानूनों के विरोध में इसे विधानसभा से इस्तीफ़ा माना जाए। इन्हीं वजहों से मनोहर लाल खट्टर के नेतृत्व वाली बीजेपी सरकार चौतरफा दबाव में है। 

यह दबाव उस बैठक से भी महसूस किया जा सकता है जो क़रीब एक घंटे तक चली। अमित शाह के साथ हुई इस बैठक में खट्टर व चौटाला के अलावा, बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष ओम प्रकाश धनकड़, राज्य के शिक्षा मंत्री कँवर पाल गुज्जर, जेजेपी के प्रदेश अध्यक्ष निशान सिंह भी प्रतिनिधिमंडल में शामिल थे।

इस बैठक के बाद दुष्यंत चौटाला के बयान पर पर्यवेक्षकों की नज़र थी। ऐसा इसलिए कि माना जा रहा है कि विधायकों के इधर-उधर छिटकने के डर से ही दुष्यंत चौटाला की मंगलवार को बैठक हुई।

कहा जा रहा है कि किसान आंदोलन के बाद से बीजेपी और दुष्यंत के नेतृत्व वाली जेजेपी में सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है। इसी बीच सोमवार को कांग्रेस नेता और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा ने जब यह कह दिया कि सत्ताधारी दलों के कई नेता पार्टी छोड़ने को हैं तो चिंताएँ और बढ़ गई थीं।

khattar and dushyant reiterate alliance govt safe after meeting amit shah - Satya Hindi

अमित शाह की बैठक के बाद दुष्यंत ने कहा, 'हरियाणा सरकार को कोई ख़तरा नहीं है और यह पाँच साल का अपना कार्यकाल पूरा करेगी'। उन्होंने कहा कि उन्होंने किसानों से संबंधित प्रत्येक बिंदु पर चर्चा की और उम्मीद जताई कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा एक समिति का गठन करने से इस मामले का हल निकल जाएगा। 

'द इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के अनुसार, जेजेपी के 10 में से 8 विधायकों ने ही दुष्यंत के साथ बैठक में हिस्सा लिया। नरनौंद विधायक राम कुमार गौतम पहले से ही दुष्यंत से नाराज़ हैं और विरोधी सुर अपनाए हुए हैं। गुहला चीका विधायक ईश्वर सिंह ने कहा कि वह किसी काम की वजह से बैठक में शामिल नहीं हो सके।

बता दें कि हरियाणा में बीजेपी-जेजेपी गठबंधन की सरकार है। 90 सीटों वाली विधानसभा में बीजेपी के 40 विधायक हैं और जेजेपी के 10 विधायक हैं। इसके अलावा निर्दलीय विधायकों की संख्या सात है। कांग्रेस के 31 विधायक हैं। इसके अलावा एक विधायक लोकहित पार्टी के गोपाल कांडा हैं। 

कृषि क़ानूनों को लेकर किसान आंदोलन के बाद बीजेपी विधायकों और जेजेपी विधायकों पर भी किसानों का साथ देने का दबाव है। इनके बारे में भी कहा जा रहा है कि उन्हें डर है कि अगले चुनाव में उन्हें वोट नहीं मिलेंगे।

उन्हें यह डर इसलिए भी है क्योंकि किसान आंदोलन ने गठबंधन सरकार के मंत्रियों और विधायकों के लिए गाँवों में सार्वजनिक बैठकें करना मुश्किल कर दिया है। किसान उन्हें काले झंडे दिखा रहे हैं, उनके वाहनों का पीछा कर रहे हैं।

मनोहर लाल खट्टर के सामने विधायकों के विश्वास को बनाए रखने की चुनौती तो है ही, कांग्रेस भी उसके लिए बड़ी चुनौती है। कांग्रेस विधानसभा के बजट सत्र में बीजेपी सरकार के विरुद्ध अविश्वास प्रस्ताव लाने की जिद पर अड़ी है। भूपेंद्र सिंह हुड्डा और कुमारी सैलजा बजट सत्र से पहले ही विधानसभा का सत्र बुलाने के लिए 15 जनवरी को राज्यपाल से भी मिलने वाले हैं। 

khattar and dushyant reiterate alliance govt safe after meeting amit shah - Satya Hindi

बीजेपी को डर है कि किसानों के मुद्दे पर जेजेपी के कुछ विधायक बाग़ी हुए तो निर्दलीय विधायक उनके लिए सहारा बन सकते हैं। यही वजह है कि निर्दलीय विधायकों के साथ खट्टर लंच कर रहे हैं।

हालाँकि अमित शाह के साथ बैठक के बाद खट्टर ने कहा, 'हरियाणा किसानों के आंदोलन का केंद्र है, इसलिए हमने राज्य में उस क़ानून और राज्य में क़ानून -व्यवस्था पर चर्चा की। इस सरकार के भविष्य के बारे में अनुमान लगाने का कोई मतलब नहीं है, यह अपना कार्यकाल पूरा करेगी।'

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

हरियाणा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें