loader
फ़ाइल फ़ोटो

हरियाणा सरकार गिराने में विधायकों से मदद करने को कहें लोग: किसान मोर्चा

देश के पाँच राज्यों के चुनावों में बीजेपी को वोट नहीं देने की अपील करने के बाद अब संयुक्त किसान मोर्चा ने हरियाणा सरकार को गिराने में सहयोग करने का आह्वान किया है। इसने कहा है कि किसान आंदोलन को और तेज़ करते हुए संयुक्त किसान मोर्चा हरियाणा में अभियान चलाएगा जिससे सरकार गिर जाए। इसने कहा है कि वह लोगों से अपील करेगा कि वे अपने विधायकों से कहें कि 10 मार्च को आने वाले अविश्वास प्रस्ताव में बीजेपी के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार को हराएँ।

संयुक्त किसान मोर्चा का ताज़ा फ़ैसला तब आया है जब इसने हाल ही में सीधे बीजेपी के ख़िलाफ़ मोर्चा खोल दिया है। 2 मार्च को ही इसने कहा था कि वह रैलियाँ कर लोगों से अपील करेगा कि वे बीजेपी को वोट नहीं दें। मोर्चा 12 मार्च को बीजेपी के ख़िलाफ़ कोलकाता में रैली कर इसकी शुरुआत करेगा। उन्होंने कहा है कि आंदोलन जारी रहेगा और ज़्यादा मज़बूती से जारी रहेगा।

ताज़ा ख़बरें

इसी बीच हरियाणा में बीजेपी के नेतृत्व वाली सरकार के ख़िलाफ़ यह फ़ैसला लिया गया है। 'टीओआई' की रिपोर्ट के अनुसार संयुक्त किसान मोर्चा के इस फ़ैसले का मक़सद बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व पर दबाव डालना है कि कृषि क़ानूनों को वापस लिया जाए।

हालाँकि कई विधायकों ने खुले तौर पर किसान आंदोलन का समर्थन किया है। कृषि क़ानूनों को लेकर किसान आंदोलन के बाद बीजेपी विधायकों और जेजेपी विधायकों पर भी किसानों का साथ देने का दबाव है। इनके बारे में भी कहा जा रहा है कि उन्हें डर है कि अगले चुनाव में उन्हें वोट नहीं मिलेंगे। उन्हें यह डर इसलिए भी है क्योंकि किसान आंदोलन ने गठबंधन सरकार के मंत्रियों और विधायकों के लिए गाँवों में सार्वजनिक बैठकें करना मुश्किल कर दिया। 

किसानों ने उन्हें काले झंडे दिखाए। यहाँ तक कि मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर की करनाल में किसान महापंचायत का ज़बरदस्त विरोध हुआ था और उनको अपना कार्यक्रम रद्द करना पड़ा था। तब बीजेपी-जेजेपी गठबंधन में खटपट की ख़बरें भी आई थीं। मुख्यमंत्री खट्टर और उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा था कि सरकार पर कोई ख़तरा नहीं है और यह पाँच साल पूरा करेगी। तब वह अमित शाह और नरेंद्र मोदी से भी मिले थे।

इसके बावजूद लगता नहीं है कि गठबंधन सरकार को ज़्यादा मुश्किल आएगी। राज्य की 90 सदस्यों वाली विधानसभा में बीजेपी और जेजेपी गठबंधन के पास 50 विधायक हैं।

इसके अलावा सात निर्दलीयों में से पाँच का समर्थन है और हरियाणा लोकहित पार्टी का भी साथ है। फ़िलहाल 88 विधायक ही सदन में हैं और दो पद खाली हैं। बहुमत के लिए 45 सदस्यों का समर्थन चाहिए। इसके बावजूद सरकार को भी अविश्वास प्रस्ताव को लेकर संदेह तो होगा ही। 

हरियाणा से और ख़बरें

किसान आंदोलन के ऐसे ही दबाव के बीच बीजेपी-जेजेपी की हरियाणा सरकार द्वारा निजी क्षेत्रों में भी स्थानीय लोगों के लिए 75 फ़ीसदी आरक्षण की ख़बर भी आई है। 

इसी बीच राज्य की विधानसभा में मुख्य विपक्षी दल कांग्रेस ने पिछले हफ़्ते ही सरकार के खि़लाफ़ अविश्वास प्रस्ताव पेश किया है। इसी अविश्वास प्रस्ताव के बाद संयुक्त किसान मोर्चा ने अभियान छेड़ने का आह्वान किया है। 

बता दें कि संयुक्त किसान मोर्चा ने 2 मार्च को प्रेस कॉन्फ़्रेंस में कहा था कि आगे की रणनीति के लिए आज मोर्चा की राष्ट्रीय बैठक हुई और 15 मार्च तक के लिए रणनीति की घोषणा की गई। तब संयुक्त किसान मोर्च के मंच से यह कहा गया कि सत्ताधारी दलों को उसी अंदाज में जवाब दिया जाएगा। योगेंद्र यादव ने कहा कि सत्ता में बैठे लोग अब इस तरह नहीं समझ रहे हैं इसलिए उन्हें अब उसी भाषा में 'वोट की चोट' से समझाया जाएगा। उन्होंने कहा कि वे बीजेपी के ख़िलाफ़ वोट करने की मतदाताओं से अपील करेंगे। किसान नेता उन सभी पाँच राज्यों में रैलियाँ करेंगे जहाँ चुनाव होने हैं। योगेंद्र यादव ने कहा कि इसकी शुरुआत कोलकाता में 12 मार्च को रैली से की जाएगी। उन्होंने साफ़ किया कि किसी भी दल विशेष को वोट देने की अपील नहीं की जाएगी, बल्कि बीजेपी को वोट नहीं देने की अपील की जाएगी।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

हरियाणा से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें