loader

हिमाचल में हार के बाद बीजेपी नेताओं के ही ‘निशाने’ पर आए नड्डा 

हाल ही में हुए उपचुनाव में हिमाचल प्रदेश में बीजेपी को मिली बड़ी हार का असर दिखने लगा है। एक ओर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को बदलने की चर्चा ने जोर पकड़ा है तो दूसरी ओर पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा ही पार्टी नेताओं के निशाने पर हैं। ऐसी ख़बरें हैं कि बीजेपी की राज्य इकाई के कुछ नेता नड्डा से बेहद नाराज़ हैं। 

नड्डा इसी राज्य से आते हैं। इसलिए भी यहां के नतीजों पर राजनीतिक विश्लेषकों की नज़रें लगी हुई थीं। 

मिली बड़ी हार 

2019 के लोकसभा चुनाव में मंडी की जिस लोकसभा सीट को बीजेपी ने 4 लाख से ज़्यादा वोटों से जीता था, वहां भी उसे शिकस्त मिली थी। तीन विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव के नतीजे भी पार्टी के ख़िलाफ़ गए थे। 

राज्य में अगले साल दिसंबर में चुनाव होने हैं और उससे पहले इन उपचुनावों को सेमीफ़ाइनल माना जा रहा था। लेकिन पार्टी सेमीफ़ाइनल में औंधे मुंह गिरी है।

हाईकमान ने किया नज़रअंदाज 

हार के बाद से ही पार्टी में तमाम तरह की खुसुर-पुसुर का दौर शुरू हो गया था। स्थानीय नेताओं का कहना है कि टिकट वितरण को लेकर हाईकमान ने ख़ुद ही फ़ैसला कर लिया और राय मशविरा तक करना ज़रूरी नहीं समझा। इसके अलावा भितरघात को भी हार की एक वजह बताया गया है। 

ताज़ा ख़बरें
मिसाल के तौर पर जुब्बल-कोटखाई सीट पर बाग़ी उम्मीदवार चेतन बरागटा दूसरे नंबर पर रहे और पार्टी की उम्मीदवार नीलम सरैइक अपनी जमानत भी नहीं बचा सकीं। यह सीट विधायक नरिंदर बरागटा के निधन से खाली हुई थी और चेतन बरागटा उनके बेटे हैं। हालांकि पार्टी का कहना है कि उसने वशंवादी राजनीति पर रोक लगाने के लिए यहां चेतन बरागटा को टिकट नहीं दिया। 
राज्य सरकार के एक मंत्री ने ‘द प्रिंट’ को नाम जाहिर न करने की शर्त पर बताया कि राज्य इकाई ने इस सीट पर चेतन बरागटा का नाम भेजा था। उन्होंने कहा कि यहां एक कमजोर उम्मीदवार को टिकट दे दिया गया और पार्टी को इसका खामियाजा भुगतना पड़ा।

सिफ़ारिश पर दिया टिकट 

हिमाचल बीजेपी के एक उपाध्यक्ष ने भी नाम गुप्त रखने की शर्त पर ‘द प्रिंट’ को बताया कि अर्की सीट पर कांग्रेस में बग़ावत होने के बाद भी बीजेपी इस सीट को नहीं जीत सकी तो इसके पीछे वजह सिफ़ारिश के आधार पर टिकट देना रहा। उन्होंने कहा कि बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे की सिफ़ारिश पर रतनपाल सिंह को टिकट दे दिया गया जबकि वह पिछले चुनाव में भी हार गए थे। उन्होंने कहा कि मंगल पांडे उस वक़्त हिमाचल के प्रभारी थे और वह जेपी नड्डा के नज़दीकी भी हैं, इसलिए टिकट उनकी मर्जी से दिया गया जबकि यहां दो बार के विधायक गोविंद राम शर्मा मज़बूत उम्मीदवार थे। 

Himachal BJP defeats in bypoll 2021 - Satya Hindi
जयराम ठाकुर।

जयराम ठाकुर पर आरोप 

एक अन्य नेता ने ‘द प्रिंट’ से कहा कि फतेहपुर सीट पर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने हाईकमान को पूरी तरह गुमराह किया। यहां कृपाल परमार को टिकट दिया जाना चाहिए था लेकिन ऐसा नहीं हुआ। 

वोट फ़ीसद गिरा 

हिमाचल बीजेपी में इस बात को लेकर भी चिंता है कि उसका वोट फ़ीसद भी गिर गया है। 2017 में उसे फतेहपुर सीट पर 49 फ़ीसदी वोट मिले थे जो इस बार गिरकर 32 फ़ीसदी हो गए। जुब्बल कोटखाई में पार्टी को सिर्फ़ 4 फ़ीसद वोट मिले जबकि 2017 में यह आंकड़ा 49 फ़ीसदी था। 

इसी तरह मंडी लोकसभा सीट पर 2019 में उसे 69.7 फ़ीसदी वोट मिले थे जो इस बार घटकर 48 फ़ीसदी रह गए। 

Himachal BJP defeats in bypoll 2021 - Satya Hindi

धूमल-नड्डा के खेमे

राज्य में पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल का भी असरदार गुट है। धूमल और जेपी नड्डा के खेमों में सियासी अदावत होने की बात हिमाचल बीजेपी में कही जाती रही है। धूमल के बेटे अनुराग ठाकुर मोदी कैबिनेट में मंत्री हैं और उन्हें हिमाचल में मुख्यमंत्री पद के बड़े दावेदार के रूप में देखा जाता है। 

यह भी कहा जा रहा है कि जुब्बल-कोटखाई सीट पर चेतन बरागटा को टिकट इसलिए नहीं दिया गया क्योंकि वह धूमल और अनुराग ठाकुर के नज़दीकी हैं।

राज्य इकाई में गुटबाज़ी 

चुनाव नतीजे आने के बाद गुटबाज़ी की ओर ख़ुद जयराम ठाकुर ने भी इशारा किया था। नतीजों के बाद जयराम ठाकुर गुट का कहना था कि पार्टी के बाक़ी नेता प्रचार में नहीं आए जबकि दूसरे गुट का कहना था कि केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर को प्रचार से दूर रखा गया। 

2010 में जब धूमल राज्य के मुख्यमंत्री थे तब उनके अनुरोध पर तत्कालीन राष्ट्रीय अध्यक्ष नितिन गडकरी ने नड्डा को केंद्रीय राजनीति में बुला लिया था। इसके बाद धूमल का राज्य में एकछत्र शासन हो गया था लेकिन बीते कुछ सालों में नड्डा का क़द तेज़ी से बढ़ा और 2017 में मुख्यमंत्री पद के चयन में धूमल के बजाय नड्डा की ही चली। 

हिमाचल से और ख़बरें

नड्डा के क़रीबी हैं ठाकुर 

जयराम ठाकुर को नड्डा का क़रीबी माना जाता है और क्या वे अगले चुनाव तक मुख्यमंत्री बने रहेंगे, यह देखने वाली बात होगी। उपचुनाव में मिली करारी हार के बाद जयराम ठाकुर को बदलने की चर्चाएं तेज़ हुई हैं लेकिन माना जाता है कि नड्डा उन्हें बचाए रखने की पूरी कोशिश करेंगे। 

इस घमासान के कारण पार्टी को नुक़सान हुआ है और निश्चित रूप से यह अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में उसे भारी पड़ सकता है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

हिमाचल से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें