loader

पूनावाला : जुलाई तक रहेगी कोरोना टीके की कमी, केंद्र ने नहीं दिया था ऑर्डर

ऐसे समय जब पहले से तय कार्यक्रम के अलावा अब 18 से 44 साल की उम्र के लगभग 59 करोड़ लोगों को कोरोना टीका देने का अतिरिक्त बोझ देश पर आ चुका है, सीरम इंस्टीच्यूट के प्रमुख अदार पूनावाला ने साफ कह दिया है कि जुलाई तक भारत में कोरोना टीके की किल्लत बनी रहेगी क्योंकि उन्हें पहले से यह अनुमान नहीं था कि इतनी बड़ी तादाद में कोरोना टीकों की यकायक ज़रूरत होगी। 

ब्रिटेन के अख़बार 'फ़ाइनेंशियल टाइम्स' से बातचीत में पूनावाला ने कहा कि सीरम इंस्टीच्यूट में जुलाई महीने में कोरोना टीके का उत्पादन 6-7 करोड़ प्रति महीने से बढ़ा कर 10 करोड़ टीके प्रति महीने कर दिया जाएगा। 

ख़ास ख़बरें

'टीका का नया ऑर्डर नहीं मिला था'

इस अख़बार के अनुसार, पूनावाला ने कहा कि लोगों को यह लगने लगा था कि भारत में कोरोना संकट ख़त्म हो गया क्योंकि जनवरी में कोरोना के मामले कम होने लगे थे, किसी को यह अनुमान नहीं था कि यह लौटेगा।

उन्होंने यह भी कहा कि किसी ने उनकी कंपनी को कोरोना टीके अधिक संख्या में बनाने का ऑर्डर नहीं दिया और यह अनुमान नहीं था कि साल में एक अरब से ज़्यादा कोरोना टीका खुराकें बनानी होंगी।

हालांकि सीरम इंस्टीच्यूट के मुख्य कार्यकारी अधिकारी ने किसी का नाम नहीं लिया, पर समझा जाता है कि वह यह कहना चाहते हैं कि भारत सरकार ने उन्हें कोरोना टीका के नए ऑर्डर नहीं दिए थे, इस कारण टीके नहीं हैं।

ब्रिटेन में खुलेगा टीका संयंत्र

दूसरी ओर सीरम इंस्टीच्यूट ब्रिटेन में कोरोना टीका का संयंत्र लगाने जा रहा है। पूनावाला ने 'फ़ाइनेंशियल टाइम्स' से इसकी पुष्टि करते हुए कहा कि साझीदारों और दूसरे लोगों से इस मुद्दे पर बात हुई जो काफी अच्छी रही है।

उन्होंने यह भी कहा कि वह जल्द ही भारत लौट जाएंगे और पुणे में कोरोना टीके का उत्पादन बढ़ाने पर ज़ोर देंगे।

बता दें कि एस्ट्राज़ेनेका और ऑक्सफर्ड विश्वविद्यालय द्वारा विकसित कोरोना टीका कोवीशील्ड भारत में सीरम इंस्टीच्यूट बनाता है। भारत में अब तक तक जितने लोगों को कोरोना टीकी गया है, उसका लगभग 90 प्रतिशत यही टीका है। 
adar poonawala : corona vaccine crisis till July - Satya Hindi
लंदन से प्रकाशित होने वाले मशहूर व प्रतिष्ठित अख़बार 'द टाइम्स' से बातचीत में पूनावाला ने कहा कि उन्हें ताक़तवर लोगों से कोरोना टीके के लिए लगातार धमकियाँ मिल रही थीं, इनमें मुख्यमंत्री, व्यापारी व दूसरे लोग थे, जो कोवीशील्ड की तुरन्त आपूर्ति चाहते थे। 
कोरोना टीका कोवीशील्ड बनाने वाली कंपनी सीरम इंस्टीच्यूट के प्रमुख ने उन्हें मिल रही धमकियों के बारे में कहा था, 'वे कह रहे हैं कि यदि आपने टीका नहीं दिया तो अच्छा नहीं होगा। उनके कहने का मतलब यह है कि यदि मैंने उनकी बात नहीं मानी तो वे ऐसा कुछ कर देंगे। मेरे चारों ओर ऐसी स्थिति बन गई कि जब तक मैं उन्हें टीका न दे दूँ, मैं कुछ नहीं कर सकता।' 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें