loader

चुनाव आयोग ने विजय जुलूस पर लगाई रोक

पहले कलकत्ता हाई कोर्ट और उसके बाद मद्रास हाई कोर्ट के ज़बरदस्त फटकार मिलने के बाद केंद्रीय चुनाव आयोग को होश आया है और उसने मतगणना के दिन के लिए नया आदेश जारी किया है। चुनाव आयोग ने मंगलवार को जारी एक आदेश में चुनाव नतीजों के बाद सड़क पर उतर कर जश्न मनाने या जुलूस निकालने पर रोक लगा दी है। 

चुनाव आयोग ने कहा है, 'रिटर्निंग अफ़सर से चुनाव का सर्टिफ़िकेट लेने के लिए चुनाव जीतने वाले प्रत्याशी या उसके प्रतिनिधि के साथ दो से ज़्यादा लोग नहीं जा सकेंगे।'

मतगणने के लिए क्या कहा था अदालत ने?

पाँच राज्यों के लिए हुए विधानसभा चुनाव के वोटों की गिनती 2 मई को होगी। इसे देखते हुए मद्रास हाई कोर्ट ने सोमवार को केंद्रीय चुनाव आयोग से कहा था कि वह तमिलनाडु के मुख्य चुनाव अधिकारी और राज्य सचिव के साथ बैठक करवाए और यह सुनिश्चित कराए कि मतगणना के दिन कोरोना प्रोटोकॉल का पालन पूरी तरह और हर हाल में हो। अदालत ने यह भी कहा था कि यदि ऐसा नहीं हो सकता तो मतगणना को टाल दिया जाए। 

यह अहम इसलिए है कि मतगणना के दिन मतगणना केंद्रों के बाहर सभी दलों और उम्मीदवारों के सैकड़ों कार्यकर्ता जमा होते हैं, वे चुनाव नतीजों का एलान होते ही सड़क पर ही जश्न मनाने लगते हैं। वे सड़क पर पटाखे फोड़ते हैं, नाचते हैं, मिठाइयाँ बाटते हैं और नारेबाजी करते हैं, गुलाल उड़ाते हैं।

उसके बाद जीता हुआ उम्मीदवार विजय जुलूस निकालता है, जिसमें सैकड़ों लोग भाग लेते हैं। वे पूरे निर्वाचण क्षेत्र का चक्कर लगाते हैं। कोरोना को देखते हुए इस पर रोक लगाना ज़रूरी इसलिए था कि इससे कोरोना फैलता और यह लगभग सभी पाँच राज्यों में होता। 

अदालत की तीखी टिप्पणी

मद्रास हाई कोर्ट का आदेश इसलिए भी अहम है कि उसने कोरोना की दूसरी लहर के लिए चुनाव आयोग को ज़िम्मेदार ठहराते हुए कहा कि इसके वरिष्ठ अफ़सरों पर हत्या का मुक़दमा चलाया जाना चाहिए क्योंकि वे चुनाव प्रचार के दौरान कोरोना नियमों का पालन कराने में नाकाम रहे। अदालत ने निर्देश दिया है कि आयोग मतगणना के दिन कोरोना नियमों को सख्ती से लागू करवाए वर्ना मतगणना स्थगित कर दे।

विजय जुलूस पर रोक लगाने का चुनाव आयोग का यह आदेश ऐसे समय आया है जब रोज़ाना कोरोना के नए मामले साढ़े तीन लाख के ऊपर पहुँच गए हैं, पूरे देश में हाहाकार मचा हुआ है और देश के कई राज्यों से लोगों के मरने की ख़बरें आ रही हैं। बता दें कि चुनाव की प्रक्रिया अभी भी चल ही रही है। अभी एक चरण बाकी है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें