loader

कोरोना टीका नहीं लेने वालों के संक्रमित होने की आशंका दोगुणी-अमेरिकी शोध

भारत में आधी आबादी को भी कोरोना टीका नहीं दिया गया है, ऐसे में अमेरिका में एक शोध में पाया गया है कि जिनका टीकाकरण नहीं हुआ है, उनके कोरोना से संक्रमित होने की आशंका दोगुणा से भी ज़्यादा है। 

अमेरिका की शीर्ष संस्था सेंटर फ़ॉर डिजीज़ कंट्रोल एंड प्रीवेन्शन यानी सीडीसी ने कहा है कि हर नागरिक को हर हाल में कोरोना टीका दिया जाना चाहिए। उसने इसका कारण बताते हुए कहा है कि जिन्होंने कोरोना टीका नहीं लिया है, उनके कोरोना से संक्रमित होने की संभावना टीका लेने वालों की तुलना में 2.34 गुणा अधिक है। 

ख़ास ख़बरें

इम्युनिटी पर सवाल

सीडीसी ने यह चेतावनी ऐसे समय दी है जब सीनेटर पॉल रैंड समेत कई राजनीतिकों ने कोरोना टीका लेने से इनकार कर दिया है। सीनेटर रैंड ने तर्क दिया है कि उनका इम्यून सिस्टम पहले से ही बहुत मजबूत है और उन्हें टीके की ज़रूरत नहीं है। 

दूसरी ओर, केंटकी राज्य के 246 ऐसे लोगों को फिर से कोरोना संक्रमण हुआ, जिन्हें पिछले साल के मई-जून में कोरोना हुआ था और जो इलाज से ठीक हो गए थे। यानी, जिन्हें एक बार कोरोना हो गया था, उन्हें दुबारा कोरोना हो सकता है, इसकी पुष्टि हो गई है। 

CDC : corona vaccine must as vaccination reduces corona risk - Satya Hindi

शोध में यह कहा गया है कि कोरोना टीका लेने वालों की इम्युनिटी की पूरी जानकारी अभी भी नहीं है और कई लोगों को टीका लेने के बावजूद कोरोना वायरस के नए वैरिएंट से संक्रमण हुआ है। 

अध्ययन में यह भी पाया गया है कि जिन लोगों को वुहान वायरस का संक्रमण हुआ था और उसके प्रति एंटीबॉडी विकसित हो गई थी, यानी वे इम्यून हो गए थे, बाद में बीटा वैरिएंट से वे भी संक्रमित हो गए। 

समय पर पूरा होगा टीकाकरण?

सीडीसी का यह एलान ऐसे समय हुआ है जब यह खबर भी आई है कि भारत में समय पर कोरोना टीकाकरण का लक्ष्य हासिल करने के लिए यह ज़रूरी है कि रोज़ाना कम से कम 92 लाख लोगों को कोराना टीका दिया जाए।

यह मुश्किल इसलिए है कि पूरे देश में औसतन रोज़ाना 30 लाख लोगों को ही कोरोना टीका दिया जा रहा है। यकायक तीन गुणा अधिक लोगों का टीकाकरण कैसे हो, यह अहम सवाल है। 

CDC : corona vaccine must as vaccination reduces corona risk - Satya Hindi

यह लक्ष्य हासिल करना कितना मुश्किल है, इसे इससे समझा जा सकता है कि जुलाई के अंत तक कोरोना टीके की 47 करोड़ खुराक़ें दी जा चुकी थीं। यानी 141 करोड़ खुराक़ें अभी दी जानी हैं।

153 दिन, 141 करोड़ खुराक़ें

यह निष्कर्ष इस आधार पर निकाला गया है कि देश में व्यस्क लोगों की संख्या 94 करोड़ है, सबको दो-दो खुराक़ें दी  जाएं तो 188 करोड़ खुराक़ों की ज़रूरत होगी। 

इसका मतलब यह है कि साल के शेष बचे 153 दिनों में 141 करोड़ खुराक़ें दी जानी हैं, यानी रोज़ाना 92 लाख खुराक़ें रोज़ देनी होंगी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें