loader

जस्टिस रंजन गोगोई के संस्मरण पर क्यों मचा है बवाल?

अपने निजी जीवन और पेशेवर कारणों से विवादों में रह चुके पूर्व मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई अपनी हलिया किताब से एक बार फिर चर्चा में हैं। उनका संस्मरण 'जस्टिस फॉर जज' चर्चा में है। जस्टिस गोगोई ने इस किताब में जो कुछ लिखा है, उस वजह से यह किताब तो चर्चा में है ही, जो नहीं लिखा है, उस वजह से भी चर्चा में है। 

याद दिला दें कि जस्टिस रंजन गोगोई ही सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश थे जब नवंबर 2019 में बाबरी मसजिद- राम जन्मभूमि मामले में फ़ैसला सुनाया गया था।

उसके पहले जस्टिस गोगोई उस समय विवादों आए थे जब एक महिला सहायक ने उन पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था। 

'मुझे निशाने पर लिया'

जस्टिस गोगोई ने 'जस्टिस फॉर जज' में लिखा है कि एक 'समूह' ने उन्हें निशाने पर लिया और अनुचित तरीके से उन पर हमले किए, हालांकि उन्होंने इस समूह का नाम नहीं लिया था। 

उन्होंने कहा, "वे लोग किसी जज के कार्यकाल ख़त्म होने पर रिपोर्ट कार्ड जारी करते हैं। इस रिपोर्ट कार्ड की कीमत अदा करनी होती है।"

जस्टिस गोगोई ने इस बारे में आगे कहा है, 

यदि आप एक ख़ास किस्म के विचार से सहमत नहीं होते हैं और वैसा ही आचरण नहीं करते हैं तो आप पर यह आरोप लगेगा कि आपने समझौता कर लिया और न्यायपालिका व उसकी आज़ादी को तिलांजलि दे दी।


जस्टिस रंजन गोगोई, पूर्व मुख्य न्यायाधीश

'क्या जज हमेशा चुप रहें'

रंजन गोगोई ने यह भी कहा कि "यह समूह दिन प्रतिदिन मजबूत होता जा रहा है और यह न्यायपालिका के संस्थान के लिए 'असली ख़तरा' है।"

उन्होंने यह सवाल भी किया कि 'क्या जज उस समय भी चुप रहें जब उन पर गोलियाँ चलाई जा रहीं हों?'

ख़ास ख़बरें

विवादित फ़ैसलों पर टिप्पणी

जस्टिस गोगोई ने अपने संस्मरण में अपने कुछ विवादित फ़ैसलों पर भी टिप्पणी की है। उन्होंने रफ़ाल सौदे पर दिए अपने फ़ैसले की हुई आलोचना पर यह कह कर दुख जताया है कि इस फ़ैसले पर बहुत ही तेज़ हमले हुए।

याद दिला दें कि जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस के. एम. जोसेफ़ और जस्टिस एस. के. कौल की बेंच ने 36 रफ़ाल विमान सौदों में भ्रष्ट्राचार की जाँच से जुड़ी याचिका को खारिज कर दिया था। 

याद दिला दें कि जस्टिस जोसेफ़ ने इस फ़ैसले में एक अलग नोट भी दिया था और यह भी कहा था कि वे सीबीआई को नियम के अनुसार कार्रवाई करने से नहीं रोकेंगे। 

ex-supreme court CJI justice ranjan gogoi book, Justice for Judge in controversy - Satya Hindi

अनुच्छेद 370 

इसी तरह जस्टिस गोगोई ने अनुच्छेद 370 ख़त्म किए जाने के बाद अदालत में दायर की गई याचिका और जम्मू-कश्मीर में इंटरनेट कनेक्शन ब्लॉक करने के ख़िलाफ़ दायर याचिकाओं की भी चर्चा की है। 

सबरीमला

इसी तरह सुप्रीम कोर्ट के इस पूर्व न्यायाधीश ने सबरीमला मामले को सात जजों की बेंच को भेजने के फ़ैसले की चर्चा भी अपने संस्मरण में की है। 

एनआरसी

जस्टिस खुद असम के हैं और उन्होंने असम में एनआरसी लागू करने के फ़ैसले की चर्चा भी इस किताब में की है। 

ex-supreme court CJI justice ranjan gogoi book, Justice for Judge in controversy - Satya Hindi

अयोध्या

जस्टिस रंजन गोगोई ने यह भी लिखा है कि अयोध्या मामले में फैसला सुनाने के बाद वे बेंच के दूसरे जजों को लेकर एक होटल में रात का खाना खाने गए थे। इस पर विवाद हुआ। इसे इस रूप में चित्रित किया गया कि वे जजों को लेकर खुशी मनाने एक पाँच सितारा होटल गए थे।

जस्टिस गोगोई ने 'एनडीटीवी' से बात करते हुए इससे इनकार किया था और कहा था कि वे लोग सिर्फ 'ब्रेक' लेने गए थे। 

जस्टिस गोगोई ने अपने संस्मरण में खुद पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोप की भी चर्चा की है और उसे 'बड़ी साजिश का हिस्सा' बताया है। वे यह भी कहते हैं कि आरोप लगाने वाली महिला को बाद में अपने पद पर बहाल सिर्फ 'दया के आधार' पर किया गया था।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें