loader

संसद सत्र: हंगामे के बीच कृषि क़ानूनों को रद्द करने का बिल दोनों सदनों में पास

संसद का शीतकालीन सत्र सोमवार से शुरू हो गया है। केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने पहले ही दिन कृषि क़ानूनों को रद्द करने का बिल लोकसभा में रखा और यह पास हो गया। इसके बाद तोमर ने इसे राज्यसभा में रखा और यहां भी यह पास हो गया। बीते बुधवार को हुई मोदी कैबिनेट की बैठक में इन क़ानूनों को रद्द करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई थी। इन क़ानूनों का किसानों और विपक्ष ने जोरदार विरोध किया था और आख़िरकार सरकार को इस मुद्दे पर बैकफ़ुट पर आना ही पड़ा। 

लोकसभा और राज्यसभा में सदन का कामकाज शुरू होते ही विपक्ष ने हंगामा किया और इस वजह से दोनों सदनों को बीच-बीच में कई बार स्थगित करना पड़ा। हंगामा जारी रहने पर लोकसभा और राज्यसभा की कार्यवाही को मंगलवार तक के लिए स्थगित कर दिया गया। 

इस दौरान कांग्रेस सांसद मल्लिकार्जुन खड़गे ने राज्यसभा में कहा कि कोई भी सांसद कृषि क़ानूनों को रद्द करने वाले बिल के विरोध में नहीं है और सभी इसका स्वागत करते हैं। 

हालांकि केंद्र सरकार ने संसद में कृषि क़ानून वापस ले लिए हैं लेकिन किसानों ने कहा है कि वे एमएसपी सहित बाकी मांगों के पूरा होने तक अपना आंदोलन जारी रखेंगे।
सत्र शुरू होने से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि सरकार सदन में हर मुद्दे पर चर्चा के लिए तैयार है। विपक्षी दल मुद्दों को उठाएं लेकिन इस दौरान सदन, स्पीकर की गरिमा का भी ध्यान रखें। बता दें कि संसद के मॉनसून सत्र में जमकर हंगामा हुआ था।  
ताज़ा ख़बरें

सत्र शुरू होने से पहले स्पीकर ओम बिड़ला ने तमाम राजनीतिक दलों के नेताओं से मुलाक़ात की। प्रधानमंत्री मोदी भी सरकार के वरिष्ठ मंत्रियों से मिले और सत्र को लेकर चर्चा की। कांग्रेस के सांसदों ने गांधी की प्रतिमा के सामने प्रदर्शन किया। राहुल और सोनिया गांधी ने इसमें हिस्सा लिया। कांग्रेस ने विपक्षी दलों का बैठक बुलाई और इसमें संसद सत्र में रणनीति को लेकर चर्चा की। टीएमसी और आम आदमी पार्टी ने इसमें भाग नहीं लिया। 

Farm laws repeal bill in LS Parliament winter session 2021 - Satya Hindi

बीजेपी और कांग्रेस ने अपने सांसदों को सदन में हाज़िर रहने के लिए व्हिप जारी किया था। इससे पहले रविवार को सवर्दलीय बैठक भी हुई लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसमें भाग नहीं लिया। 

शुक्रवार को संविधान दिवस पर संसद हॉल में आयोजित कार्यक्रम का कई विपक्षी दलों ने बहिष्कार कर दिया था। 
Farm laws repeal bill in LS Parliament winter session 2021 - Satya Hindi
पिछले सत्र में हुआ था हंगामा।

क्रिप्टोकरेंसी पर बिल लाएगी सरकार

कृषि क़ानूनों को रद्द करने के लिए बिल लाने के अलावा सरकार 25 और बिलों को सदन में रखने जा रही है। इनमें क्रिप्टोकरेंसी को लेकर लाया जाने वाला बिल भी शामिल है। इस बिल का नाम Cryptocurrency and Regulation of Official Digital Currency Bill, 2021 है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस बारे में कई मंत्रालयों के और आरबीआई के अफ़सरों के साथ बैठक की थी। 

देश से और ख़बरें

व्यक्तिगत जानकारी सुरक्षा बिल

इसके अलावा व्यक्तिगत जानकारी सुरक्षा बिल, 2019 को लेकर भी खासा हंगामा हो सकता है। इस बिल को 2019 में भी लाया गया था और तब इसे संयुक्त संसदीय समिति को भेज दिया गया था। समिति ने इसे लेकर अपनी रिपोर्ट पेश कर दी है। यह बिल केंद्र सरकार को बेलगाम ताक़त देता है। 

इसके अनुच्छेद 35 के अनुसार सरकार की एजेन्सियां ‘शांति और व्यवस्था’, ‘संप्रभुता’, ‘राज्य की सुरक्षा’ के बहाने किसी भी व्यक्ति या संगठन की जासूसी कर सकती हैं और किसी को भी कोई आपत्ति करने का अधिकार नहीं होगा। 

इसके अलावा राज्यसभा में भी कई बिल सरकार लाने जा रही है। संसद का यह सत्र 23 दिसंबर तक चलेगा। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें