loader

ज़ाइडस से कोरोना टीके की एक करोड़ खुराकें खरीदेगी सरकार

केंद्र सरकार ज़ाइडस कैडिला से कोरोना टीके की एक करोड़ खुराकें खरीदेगी। ज़ाइकोव-डी नामक यह टीका 12 साल से अधिक के उम्र के लोगों को दिया जा सकेगा।

लेकिन सीमित उत्पादन क्षमता की वजह से शुरू में सिर्फ वयस्कों को ही यह टीका दिये जाने की संभावना है।

इस दवा की कीमत 265 रुपए होगी, लेकिन इसे लगाने के लिए 93 रुपए का एक जेट एप्लीकेटर भी खरीदना होगा। इस तरह एक टीके पर 358 रुपए का खर्च बैठेगा।

ख़ास ख़बरें

हर व्यक्ति को तीन खुराकें

हर व्यक्ति को इसकी तीन खुराकें लेनी होंगी, दूसरी और तीसरी खुराकें 28 दिनों के अंतराल पर लेनी होंगी।

यह दुनिया का पहला डीएनए- आधारित कोरोना टीका है, जिसे लेने के लिए इंजेक्शन की ज़रूरत नहीं होगी। यह देश में ही विकसित किया गया है। इसे 20 अगस्त को मंजूरी मिली।

ज़ाइडस कैडिला के प्रबंध निदेशक डॉक्टर शरविल पटेल ने एनडीटीवी से कहा,

हम सरकार के टीकाकरण कार्यक्रम का समर्थन करते हैं। इंजेक्शन के बग़ैर ही इसका इस्तेमाल होने की वजह से अधिक लोग इसे लेने के लिए प्रेरित होंगे, यह 12 साल से 18 साल की उम्र के लोगों के लिए बेहतर विकल्प है।


डॉक्टर शरविल पटेल, प्रबंध निदेशक, ज़ाइडस कैडिला

दूसरी ओर, इस कोरोना वैक्सीन पर सरकार को नेशनल टेक्निकल एडवाइज़री ग्रुप ऑन इम्युनाइजेशन की सिफ़ारिश का इंतजार है। इस ग्रुप से टीकाकरण का प्रोटोकॉल तय होने के बाद ही इसका इस्तेमाल किया जा सकेगा।

ज़ाइडस कैडिला ने कहा है कि उसकी वैक्सीन ज़ाइकोव-डी की 10 से 12 करोड़ खुराक सालाना बनाने की योजना है। उसने वैक्सीन का स्टॉक करना शुरू भी कर दिया है।

कंपनी ने कहा है कि राष्ट्रव्यापी 28,000 से अधिक वोलिंटियर्स पर तीसरे चरण का परीक्षण किया और उसमें 66.6 प्रतिशत की प्रभावकारिता रही।

 

ज़ाइडस कैडिला ने जैव प्रौद्योगिकी विभाग के साथ साझेदारी में इस टीके को विकसित किया है।

govt to buy zydus cadilla corona vaccine doses - Satya Hindi

बच्चों के टीकाकरण पर ज़ोर

इसके पहले विशेषज्ञ पैनल ने भारत बायोटेक के कोवैक्सीन टीके को 2 से 18 वर्ष के बच्चों को लगाने के लिए सिफारिश कर दी थी। अब इसकी मंजूरी पर आख़िरी फ़ैसला डीसीजीआई यानी ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ़ इंडिया लेगा। इसकी मंजूरी मिलते ही बच्चों को यह टीका लगाया जा सकता है।

सरकार का कहना है कि करीब 100 करोड़ वयस्कों को टीके लगाए जा चुके हैं और अब बच्चों के टीकाकरण पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है।

बच्चों के लिए तीसरा संभावित टीका सीरम इंस्टीट्यूट का नोवावैक्स है, जिसके लिए पिछले महीने डीसीजीआई ने सात से 11 साल के बच्चों के लिए ट्रायल को मंजूरी दे दी है। वह ट्रायल अभी जारी है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें