loader

भारत-चीन के विदेश मंत्री तनाव कम करने के लिए पाँच-सूत्री योजना पर सहमत

चीन एक तरफ़ तो लद्दाख के पैंगोंग त्सो क्षेत्र में सेना की तैनाती बढ़ाते जा रहा है और दूसरी तरफ़ तनाव कम करने की भी बात कर रहा है। भारत के विदेशमंत्री के साथ बातचीत में चीन के विदेशमंत्री की यही नीति दिखी। भारत और चीन ने पूर्वी लद्दाख में लंबे समय से चल रहे सीमा तनाव को हल करने के लिए पाँच-सूत्री योजना पर सहमति व्यक्त की है। इसमें शामिल है- सीमा के प्रबंधन पर सभी मौजूदा समझौतों और प्रोटोकॉल का पालन करना, शांति व सद्भाव बनाए रखना और ऐसी किसी भी कार्रवाई से बचना, जो मामलों को गंभीर बना सकता है। भारत और चीन के विदेश मंत्रियों के बीच मास्को में गुरुवार की देर रात बातचीत के बाद दोनों देशों की ओर से जारी बयान में यह कहा गया है। 

सीमा पर तनाव के बीच विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने चीनी विदेश मंत्री वांग यी लगभग दो घंटे तक बात की है। ये दोनों ही नेता वहाँ शंघाई सहयोग परिषद की बैठक में भाग लेने गए हुए हैं।

ताज़ा ख़बरें

दो घंटों की बातचीत के बाद यह कहा गया कि सौहार्द्रपूर्ण वातावरण में दोनों विदेश मंत्रियों ने एक दूसरे को अपने विचारों से अवगत कराया। 

विदेश मंत्रालय ने शुक्रवार को एक संयुक्त प्रेस वक्तव्य जारी किया जिसमें पाँच बिंदुओं पर चर्चा की गई, जिसमें दोनों मंत्रियों द्वारा 'उदार और रचनात्मक' चर्चाओं में दोनों पक्षों द्वारा सहमति व्यक्त की गई।

बयान में कहा गया, 'दोनों विदेश मंत्रियों ने सहमति व्यक्त की कि सीमावर्ती क्षेत्रों में मौजूदा स्थिति किसी भी पक्ष के हित में नहीं है। इसलिए, वे सहमत थे कि दोनों पक्षों के सीमा सैनिकों को अपना संवाद जारी रखना चाहिए, जल्द ही डिसइंगेज करना चाहिए, उचित दूरी बनाए रखनी चाहिए और तनाव को कम करना चाहिए।' 

संयुक्त बयान में जयशंकर और वांग ने कहा कि दोनों पक्षों को भारत-चीन संबंधों को विकसित करने पर दोनों देशों के नेताओं के बीच आम सहमति बनाने की चली आ रही परंपरा से मार्गदर्शन लेना चाहिए, जिसमें मतभेदों को विवाद नहीं बनने देना शामिल है।

इस बातचीत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के बीच बनी सहमति का संदर्भ भी आया। 2018 और 2019 में दोनों नेताओं के अनौपचारिक शिखर सम्मेलन में इसी बात पर ज़ोर दिया गया था।

दोनों देशों के विदेशमंत्री इस बात पर सहमत हुए कि दोनों ही भारत-चीन सीमा मामले में मौजूदा समझौतों और प्रोटोकॉल का पालन किया जाएगा।

बातचीत शुरू होने से पहले विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा,

'भारत और चीन कूटनीतिक और सैन्य चैनलों से एक दूसरे के संपर्क में हैं और समस्या के समाधान की कोशिशें कर रहे हैं। भारत सीमा समस्या का समाधान शांतिपूर्ण तरीके से ढूंढने के लिए प्रतिबद्ध है।'


अनुराग श्रीवास्तव, प्रवक्ता, विदेश मंत्रालय

यह बातचीत ऐसे समय हुई है जब वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तनाव चरम पर है, दोनों ही सेनाएँ एक दूसरे के सामने खड़ी हैं, कुछ जगहों पर उनके बीच की दूरी बस सौ-दो सौ मीटर की है। 
देश से और खबरें

सीमा पर युद्ध की तैयारियाँ

हालाँकि चीनी अधिकारी और उनका प्रचार तंत्र कहता है कि वह भारत से युद्ध नहीं चाहता है, पर उसने बहुत बड़ी तादाद में नियंत्रण रेखा के पास सैनिकों को तैनात कर रखा है, बहुत बड़ी मात्रा में सैनिक साजो सामान वहां भेज रखा है। तिब्बत और शिनजियांग में कई जगहों पर चीनी सेना युद्ध अभ्यास कर रही है। इन युद्ध अभ्यासों में बख़्तरबंद गाड़ियां और तोप ही नहीं, मिसाइल, ड्रोन और बमबर्षक व लड़ाकू विमान तक लगे हुए हैं। 

एस जयशंकर और वांग यी के बीच इसके पहले टेलीफ़ोन पर बात हो चुकी है। उनके बीच पहली बातचीत गलवान में हुई झड़प के बाद हुई थी। उसके बाद भी बातचीत हुई है। लेकिन इन बातचीतों का कोई खास नतीजा नहीं निकला है।


दोनों विदेश मंत्रियों की बातचीत सौहार्द्रपूर्ण वातावरण में होती है, पर हर बार वांग यी कहते हैं कि उनकी सेना अपनी सरज़मीन पर है, भारत की सीमा क्षेत्र में नहीं है। ज़ाहिर है, वह पीपल्स लिबरेशन आर्मी के सैनिकों की वापसी से इनकार कर देते हैं। हर बार बात यहीं रुक जाती है। 

मुस्तैद भारतीय सेना

इस बार जो बातचीत हो रही है, उसके पहले पैंगोंग त्सो के दक्षिणी इलाक़े में घुसपैठ की कोशिश कर रही चीनी सेना को भारत के सैनिकों ने रोका और खदेड़ दिया। लेकिन उसके बाद की सैटेलाइट तसवीरों से लगता है कि एक बार फिर चीनी सेना के कुछ लोग बरछे-भाले जैसे ख़तरनाक हथियारों से लैस होकर भारतीय सीमा में खड़े हैं। 
वांग यी विदेश मंत्री तो हैं ही, वह चीन के स्टेट कौंसिलर हैं, वहां की संसद पीपल्स असेंब्ली के सदस्य हैं और चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के वरिष्ठ सदस्य हैं। इसलिए उनका कद पार्टी और सरकार में बड़ा है। इसलिए यह उम्मीद की जाती है कि इस बातचीत का कोई नतीजा शायद निकले। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें