loader

कोरोना: एक दिन में 1.52 लाख केस, 50 दिन में सबसे कम

हर रोज़ कोरोना संक्रमण के मामले घटकर अब डेढ़ लाख हो गए हैं। यह पिछले 50 दिन में सबसे कम मामले हैं। इससे कम मामले 10-11 अप्रैल से पहले आ रहे थे। देश में 6 मई को सबसे ज़्यादा 4 लाख 14 हज़ार केस आए थे और अब 25 दिन में यह घटकर क़रीब डेढ़ लाख हो गए हैं।

स्वास्थ्य विभाग द्वारा सोमवार को रविवार के 24 घंटे के आंकड़े जारी किए गए। इसके अनुसार एक दिन में 1 लाख 52 हज़ार 734 पॉजिटिव केस दर्ज किए गए और 3128 लोगों की मौत हुई। एक दिन पहले 24 घंटे में 1 लाख 65 हज़ार 553 पॉजिटिव केस आए थे। इससे भी एक दिन पहले क़रीब 1 लाख 73 हज़ार मामले आए थे। फ़िलहाल, देश में कोरोना की दूसरी लहर है और कई राज्यों में लॉकडाउन के बीच संक्रमण के मामले लगातार कम होते जा रहे हैं।

ताज़ा ख़बरें

स्वास्थ्य विभाग के ताज़ा आँकड़ों के अनुसार, एक दिन में 2 लाख 38 हज़ार से ज़्यादा मरीज़ ठीक हुए। देश में अब तक 2 करोड़ 80 लाख 47 हज़ार से ज़्यादा पॉजिटिव केस दर्ज किए जा चुके हैं। 3 लाख 29 हज़ार 100 कोरोना मरीज़ों की मौत अब तक हो चुकी है। 2 करोड़ 56 लाख 92 हज़ार लोग ठीक भी हो चुके हैं।

देश में दूसरी लहर के कहर ढाने के बाद टीकाकरण अभियान को तेज करने की बात कही जा रही है। लेकिन टीके की कमी के कारण यह उस गति से आगे नहीं बढ़ पा रहा है जिस गति से इसे बढ़ना चाहिए। रविवार को टीके की सिर्फ़ 10,18,076 खुराकें लगाई जा सकीं, हालाँकि इससे एक दिन पहले क़रीब 28 हज़ार टीके लगाए गए थे। देश में अब तक कुल 21,31,54,129 खुराकें लगाई जा सकी हैं। हालाँकि दोनों खुराक लेने वालों की संख्या काफ़ी कम है और यह देश की आबादी की क़रीब 3.1 फ़ीसदी जनसंख्या ही है।

इधर कोरोना संक्रमण को लेकर महाराष्ट्र और दिल्ली सहित कई राज्यों में लॉकडाउन को आगे बढ़ा दिया गया है। महाराष्ट्र में लॉकडाउन 15 जून तक के लिए बढ़ा दिया गया है, लेकिन इसके साथ ही कुछ ज़िलों में पाबंदियों में ढील दी गई है। राज्य सरकार ने कहा है कि जिन ज़िलों में कोरोना पॉजिटिविटी रेट दस फ़ीसदी से कम होगी और ऑक्सीजन बेड 60 फ़ीसदी से ज़्यादा खाली होंगे वहाँ प्रतिबंधों में ढील दी जाएगी। जिन ज़िलों में मामले बढ़ रहे हैं वहाँ और पाबंदियाँ लगाई जाएँगी। 

महाराष्ट्र के कुछ ज़िलों में सख्ती कम किए जाने के साथ ही राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने चेताया है कि कोरोना की तीसरी लहर का ख़तरा है और इस वजह से सुरक्षा उपायों को कम नहीं किया जा सकता है।

ठाकरे की इस चेतावनी का सीधा मतलब यह है कि लोग सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों का पालन करें और मास्क लगाने जैसे सुरक्षा उपायों के प्रति लापरवाही नहीं बरतें। इसका एक मतलब यह भी है कि सरकार तीसरी लहर को ध्यान में रखते हुए तैयारी कर रही है। 

india daily coronavirus cases decreased to 1.52 lakh - Satya Hindi

उद्धव ठाकरे ने रविवार देर शाम को राज्य में लॉकडाउन को आगे बढ़ाए जाने की घोषणा करते हुए कहा कि मुझे नहीं पता कि तीसरी लहर कब और किस तारीख़ को आएगी, इसलिए हमें अपने बचाव को कम नहीं करना चाहिए। उन्होंने कहा कि यदि राज्य कोरोना संक्रमण की तीसरी गंभीर लहर की चपेट में आता है तो चिकित्सा ऑक्सीजन के संकट का सामना करना पड़ सकता है। 

दिल्ली में भी एक हफ़्ते बढ़ा है लॉकडाउन

दिल्ली में लॉकडाउन फिर से एक हफ़्ते के लिए बढ़ा दिया गया है, लेकिन इसके साथ ही क़रीब 40 दिन बाद पहली बार प्रतिबंधों में कुछ ढील दी गई है। सोमवार को समाप्त होने वाला लॉकडाउन अब 7 जून तक रहेगा। हालाँकि दिल्ली सरकार ने विनिर्माण और निर्माण व्यवसायों को शर्तों के साथ काम फिर से शुरू करने की अनुमति दी है। जो कंपनियाँ काम शुरू करेंगी उन्हें सख्ती से कोरोना गाइडलाइंस का पालन करना होगा और शिफ़्टों में काम करना होगा। कर्मचारियों की समय समय पर कोरोना की जाँच भी की जाएगी।

देश से और ख़बरें

देश में इस भयावह दूसरी लहर शुरू होने के बाद राजधानी में पहली बार 19 अप्रैल को लॉकडाउन लगाया गया था। यह पहले 26 अप्रैल तक के लिए था, जिसे एक सप्ताह के लिए बढ़ाया गया था। तीन मई की सुबह ख़त्म होने वाले लॉकडाउन की मियाद एक सप्ताह के लिए फिर से बढ़ाई गई थी। इसके बाद 17 मई को इसकी मियाद ख़त्म होने से पहले फिर से लॉकडाउन को एक हफ़्ते के लिए बढ़ाया गया था। लेकिन 24 मई को फिर से इसे बढ़ाकर 31 मई तक के लिए कर दिया गया था।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें