loader

चीन की लद्दाख में घुसपैठ की नई कोशिश, भारतीय सेना ने की नाकाम

चीन अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। उसने फिर घुसपैठ की कोशिश की है। लेकिन भारतीय सेना ने उसकी यह कोशिश नाकाम कर दी। 
चीनी सेना ने पैंगोंग त्सो और डेपसांग के इलाक़ों में वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास अपने और सैनिकों को भेजा। भारतीय सेना का दावा है कि उसने चीन की इस कोशिश को नाकाम कर दिया है। 

रक्षा मंत्रालय ने सोमवार को एक बयान में कहा है, 'चीनी सेना ने यथास्थिति को बदलने के लिए सैन्य गतिविधियाँ कीं।' सरकार ने यह भी कहा है कि भारतीय सेना ने उनकी इस गतिविधि को भाँप लिया उसे नाकाम कर दिया। सरकार के इस बयान में दावा किया गया है कि चीनी सेना ने यह कोशिश 29 और 30 अगस्त की रात में की थी।
देश से और खबरें
बता दें कि इसके पहले गलवान घाटी में दोनों देशों की सेनाओं के बीच झड़प हुई थी, जिसमें दोनों पक्षों के लोग हताहत हुए थे। भारत के 20 सैनिक शहीद हुए थे। चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने चीनी सैनिकों के हताहत होने की बात मानी थी, लेकिन संख्या नहीं बताई थी।

उकसाने वाला कदम

प्रेस इनफ़ॉर्मेशन ब्यूरो ने कहा है, 'भारतीय सैनिकों ने पैंन्गोंग त्सो लेक में चीनी सैनिकों के उकसाने वाले क़दम को रोक दिया है। भारतीय सेना संवाद के ज़रिए शांति बहाल करने का पक्षधर है, लेकिन इसके साथ ही अपने इलाक़े की अखंडता की सुरक्षा के लिए भी प्रतिबद्ध है। पूरे विवाद पर ब्रिगेड कमांडर स्तर पर बैठक जारी है।'

चीन का इनकार

चीन ने इससे इनकार किया है। चीनी सरकार के नियंत्रण में चलने वाले अख़बार ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक़, विदेश मंत्री वांग यी ने कहा है कि चीन की सेना वास्तविक नियंत्रण रेखा का सख़्ती से पालन करती है और चीन की सेना ने कभी भी इस रेखा को पार नहीं किया है। दोनों देशों की सेना इस मु्द्दे पर संपर्क में हैं।

 

इ्सके पहले हुई बातचीत में दोनों देश इस पर राजी हो गए थे कि यथास्थिति को बरक़रार रखा जाए और इसे बदलने की कोशिश कोई न करे। पर चीन ने इसे तोड़ा और इसे बदलने की कोशिश की है।

1962 के बाद सबसे गंभीर स्थिति

याद दिला दें कि बीते हफ़्ते ही विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा था कि चीन के साथ वास्तविक नियंत्रण रेखा पर तनाव 1962 के बाद सबसे गंभीर स्थिति है। उन्होंने रेडिफ़.कॉम से कहा था, ''निश्चित तौर पर 1962 के बाद यह सबसे गंभीर स्थिति है। यहाँ तक कि 45 साल बाद चीन के साथ संघर्ष में सैनिक हताहत हुए हैं। सीमा पर दोनों तरफ़ से सैनिकों की तैनाती भी अप्रत्याशित है।'
विदेश मंत्री ने कहा था कि भारत ने चीन से कह दिया है कि सीमा पर शांति की स्थापना दोनों पड़ोसी देशों में बराबरी के संबंधों पर ही संभव है। विदेश मंत्री ने कहा था, 'अगर हम पिछले तीन दशकों से देखें तो विवादों का निपटारा राजनयिक संवाद के ज़रिए ही हुआ है और हम अब भी यही कोशिश कर रहे हैं।'
महत्वपूर्ण यह है कि कुछ दिन पहले ही भारत के चीफ़ ऑफ़ डिफेन्स स्टाफ़ बिपिन रावत ने कहा था कि बातचीत नाकाम होने के बाद सैन्य विकल्प बचता है। यानी उन्होंने संकेत दिया था कि चीनी सेना को बल प्रयोग कर पीछे धकेला जा सकता है। इसके बाद पीपल्स लिबरेशन आर्मी की यह उकसाने वाली कार्रवाई अधिक चिंता की बात है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें