loader

अयोध्या विवाद पर फ़ैसले के बाद ‘सेलिब्रेशन’ वाली तसवीर पर क्या बोले गोगोई?

पूर्व सीजेआई रंजन गोगोई ने हाल ही में अपने संस्मरणों को जारी किया है। इसमें एक तसवीर भी है, जिसमें वे कुछ जजों के साथ दिल्ली के एक लग्जरी होटल में डिनर कर रहे हैं। इसके कैप्शन में लिखा है- 'सेलिब्रेटिंग द लैंडमार्क अयोध्या वर्डिक्ट'। ये सभी जज उनके साथ अयोध्या विवाद पर फ़ैसला सुनाने वाली बेंच में शामिल थे। 

‘जस्टिस फ़ॉर द जज’ नाम से आत्मकथा लिखने वाले गोगोई ने एनडीटीवी के साथ इंटरव्यू में इस तसवीर के बारे में कहा, “फ़ैसले वाली शाम को मैं अपने साथी जजों के साथ डिनर के लिए ताज मान सिंह होटल में गया। हमने चाइनीज खाना खाया और शराब की एक बोतल भी शेयर की।” 

एनडीटीवी की ओर से यह पूछे जाने पर कि अयोध्या जैसे विवादित मसले पर फ़ैसले के बाद क्या सेलिब्रेशन करना सही था, गोगोई ने इस बात से इनकार किया कि यह कोई सेलिब्रेशन जैसा था। उन्होंने कहा कि क्या आपका कभी मन नहीं करता कि आप बाहर का खाना खाएं। 

ताज़ा ख़बरें

यह पूछे जाने पर कि क्या यह उन लोगों को ख़राब नहीं लगेगा, जिन्हें इस फ़ैसले में हार मिली है। जस्टिस गोगोई ने कहा कि बेंच में शामिल सभी जजों ने अयोध्या विवाद पर फ़ैसले के लिए चार महीने तक जमकर काम किया। उन्होंने उल्टा ही एनडीटीवी से सवाल पूछा कि क्या उन्होंने कुछ ऐसा किया जिसे करने की अनुमति नहीं थी। 

गोगोई ने कहा कि सीजेआई कोई स्वर्ग से नहीं उतरते हैं। 40 साल की कठिन मेहनत के बाद ही उन्हें प्रतिष्ठा मिलती है और इसे बर्बाद करने की कोशिश होती है।  

अपनी आत्मकथा में उन्होंने उनके राज्यसभा में जाने को लेकर हुए विवाद पर भी अपनी बात रखी है। राज्यसभा का रिकॉर्ड बताता है कि इस सदन में उनकी हाज़िरी 10 फ़ीसदी से भी कम रही है। 

देश से और ख़बरें

यौन उत्पीड़न का आरोप 

जस्टिस गोगोई पर सीजेआई दफ़्तर में जूनियर कोर्ट असिस्टेंट के पद पर काम कर चुकी एक महिला ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था। महिला को नौकरी से बर्खास्त करने के अलावा, उसके पति और देवर को दिल्ली पुलिस की नौकरी से निलंबित कर दिया गया था। हालांकि बाद में उन्हें नौकरी पर बहाल कर दिया गया था। इसे लेकर तब गोगोई विवाद में रहे थे।

गोगोई ने इन आरोपों को पूरी तरह खारिज करते हुए इसे उन्हें कुछ अहम सुनवाइयों से रोकने की साज़िश क़रार दिया था। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले में कहा था कि इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि गोगोई के ख़िलाफ़ कोई साज़िश रची गई हो। 
गोगोई की अध्यक्षता वाली बेंच ने वर्षों से चले आ रहे अयोध्या विवाद मामले के अलावा लोकसभा चुनाव 2019 में सरकार और विपक्ष के बीच चुनाव का मुद्दा बने राफ़ेल लड़ाकू विमान के सौदे में कथित गड़बड़ी के मामले में भी फ़ैसला सुनाया था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें