loader

सिब्बल : हम पर हमले हुए, हमें विश्वासघाती कहा गया, नेतृत्व चुप रहा

ऐसा लगता है कि कांग्रेस सुधरने को तैयार नहीं हैं। जो पार्टी की बेहतरी चाहते हैं उन्हे ज़रूर निशाने पर लिया जा रहा है। दरबारी और चापलूस चिठ्ठी लिखने वालों पर ही हमले कर रहे है। क्या यह सोनिया-राहुल की मर्ज़ी से हो रहा है? अब चिट्ठी लिखने वालों का दर्द खुलकर सामने आ रहा है। वे बोलने लगे हैं।

सिब्बल ने फिर उठाए सवाल

कपिल सिब्बल बोल रहे हैं। उनका कहना है कि चिट्ठी में उठाए गए सवालों पर कोई बात नहीं हो रही है। कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी को चिट्ठी लिखने वालों में एक कपिल सिब्बल ने यही मुद्दा उठाया है। 
Choose... से और खबरें
इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए सिब्बल ने कहा कि उन्होंने और दूसरे लोगों ने जो सवाल उठाए थे, उन पर कोई बात नहीं हुई, किसी ने वह मुद्दा नहीं उठाया, कोई चर्चा नहीं हुई। जिन लोगों ने ये सवाल उठाए, उनके साथ कोई खड़ा नहीं हुआ, उन पर हमले हुए, लेकिन किसी ने कुछ नहीं कहा।

सिब्बल : चर्चा तो होती!

बता दें कि कांग्रेस के 23 लोगों ने कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी को एक चिट्ठी लिखी थी जिसमें कई सवाल उठाए गए थे। यह कहा गया था कि पार्टी को एक 'फुल टाइम प्रेसीडेंट' की ज़रूरत है। यह भी कहा गया था कि राहुल गांधी यह ज़िम्मेदारी संभाल लें, लेकिन यदि वे ऐसा नहीं ही करना चाहते हैं तो कोई दूसरे को यह काम दिया जाए। इसके अलावा पार्टी में संगठनात्मक चुनाव कराए जाने की बात भी कही गई थी। इस पर पार्टी में बहुत बवाल मचा था।
सिब्बल ने कहा, 

'कांग्रेस वर्किेंग कमेटी को यह बताया जाना चाहिए था कि चिट्ठी में क्या लिखा गया था। यह बुनियादी बात है और इतना तो होना ही चाहिए था कि इस पर चर्चा होती। हमने जो कुछ लिखा था, यदि उसमें कुछ ग़लत था तो सवाल पूछे जा सकते थे और पूछे ही जाने चाहिए थे।'


कपिल सिब्बल, नेता, कांग्रेस

कपिल सिब्बल ने इंडियन एक्सप्रेस से हुई बातचीत में यह भी कहा कि जो मुद्दे उठाए गए थे, उन पर कोई बात नहीं हुई। लेकिन समय को लेकर बात हुई, इसका मतलब यह है कि पार्टी नेतृत्व इस पूरे मामले से ही खुद को अलग कर रहा है।
उन्होंने कहा, 'हमारे उठाए एक मुद्दे पर बात नहीं हुई, एक पर भी नहीं, इसके बावजूद हमें अंसतुष्ट कहा गया।'
कपिल सिब्बल ने इंडियन एक्सप्रेस के साथ हुई इस ख़ास बातचीत में कुछ तल़्खी से कहा, 'कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में हमें विश्वासघाती कहा गया, वहां बैठे किसी आदमी ने नहीं, यहां तक कि पार्टी के नेता ने भी नहीं कहा कि इस तरह की भाषा का इस्तेमाल नहीं किया जाना चाहिए।'
सिब्बल ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ही नहीं, देश के ज़्यादातर लोग यह मानते हैं कि हमने जो मुद्दे उठाए, वे सही थे। लोगोमें यह इच्छा है कि कांग्रेस पार्टी को पुनर्जीवित किया जाए। यदि कांग्रेस नहीं है तो विपक्ष भी नहीं है।    
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें