loader

मद्रास हाई कोर्ट : नए आईटी क़ानून से मीडिया की स्वतंत्रता छिन सकती है

मद्रास हाई कोर्ट ने नए सूचना प्रौद्योगिकी क़ानून के उन प्रावधानों पर रोक लगा दी है कि जिनके तहत मीडिया को नियंत्रित करने की कोशिश की जा सकती है। 

अदालत ने कहा है कि पहली नज़र में ऐसा लगता है कि मीडिया को नियंत्रित करने की सरकारी प्रक्रिया (ओवरसाइट मैकेनिज़म) से मीडिया की आज़ादी छीनी जा सकती है, और लोकतंत्र का चौथा स्तंभ अपनी जगह नहीं टिक पाएगा। 

अदालत ने सूचना प्रौद्योगिकी क़ानून 2021 की धारा 9 की उप धारा 1 और 3 पर फिलहाल रोक लगा दी है।

इसके पहले बंबई हाई कोर्ट ने 16 अगस्त को एक आदेश में इस क़ानून के उन प्रावधानों पर रोक लगा दी थी जिससे मीडिया को नियंत्रित किया जा सकता है। 

इन प्रावधानों में कहा गया है कि मीडिया को प्रेस काउंसिल के दिशा निर्देश और टीवी चैनलों को उनकी संस्था के दिशा निर्देशों को मानना होगा। 

madras high court : IT Act against freedom of press - Satya Hindi

याचिकाकर्ता ने कहा था कि ओवरसाइट मैकेनिज़म में सरकार के लोगों के रहने से राज्य को मीडिया के संपादकीय निर्णयों में हस्तक्षेप करने का मौका मिल सकता है। 

कई अदालतों ने कहा है कि जो प्रकाशक इन दिशा निर्देशों का पालन नहीं करते हैं, उनेक ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई नहीं की जा सकती है। 

ये याचिकाएं संगीतकार टी. एम. कृष्णा, डिजिटल न्यूज़ पब्लिशर्स एसोसिएशन और मुकुंद पद्मनाभ ने दायर की थीं। 

जस्टिस संजीब बनर्जी और जस्टिस पी. डी. आदिकेशवलु ने कहा कि याचिकाकर्ता को ओवरसाइट मैकेनिज़म से आशंकाएँ हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें