loader

बांग्लादेश : मोदी ने किया ओराकांदी के मातुआ मंदिर का दर्शन, बंगाल पर नज़र?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बांग्लादेश के ओराकांदी स्थित मातुआ समुदाय के मंदिर में दर्शन किया। मातुआ संप्रदाय के संस्थापक हरिचाँद ठाकुर ने इस मंदिर की स्थापना की थी। प्रधानमंत्री के साथ हरिचाँद ठाकुर के वंशज शांतनु ठाकुर भी गए हुए हैं। 

मातुआ समुदाय के सबसे पवित्र तीर्थ स्थल जाने और वहाँ दर्शन करने की घटना ऐसे दिन हुई है जब पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव हो रहे हैं। पश्चिम बंगाल में मातुआ समुदाय के लगभग दो करोड़ लोग रहते हैं जो लगभग 60-70 सीटों पर चुनाव नतीजों को प्रभावित कर सकते हैं। 

modi visits matua temple in orkandi in bangladesh - Satya Hindi
प्रधानमंत्री ने ओराकांदी में वहाँ मौजूद लोगों को संबोधित किया और कहा कि यह उनका सौभाग्य है कि वे हरिचाँद ठाकुर के चरणों में प्रणाम कर रहे हैं। 

नरेंद्र मोदी ने बार बार पश्चिम बंगाल के मातुआ समुदाय के लोगों की चर्चा की। उन्होंने कहा कि वे ठाकुरनगर स्थित मातुआ मंदिर गए थे और बडो माँ के चरण स्पर्श किए थे। उन्होंने कहा कि बड़ो माँ ने उन्हें बहुत स्नेह व सम्मान दिया।

मोदी का पूरा जोर पश्चिम बंगाल के मातुआ समुदाय पर था। 

प्रधानमंत्री ने ऐलान किया कि भारत ओराकांदी में प्राथमिक कन्या विद्यालय को और उन्नत करेगा ताकि लड़कियों की शिक्षा को और ज़ोर मिल सके। उन्होंने कहा कि यह हरिचाँद ठाकुर को श्रद्धांजलि अर्पित करने के लिए ऐसा किया जा रहा है। 

कोरोना वैक्सीन को हरिचाँद ठाकुर से जोड़ा

उन्होंने कहा कि हरिचाँद ठाकुर के आदर्शो पर चल कर ही बांग्लादेश व भारत के लोग बेहतर स्थिति में रह सकते हैं और दोनों में मैत्री और मजबूत हो सकती है। 

नरेंद्र मोदी ने बांग्लादेश को कोरोना टीका देने की बात की और इसे भी हरिचाँद ठाकुर से जोड़ दिया। उन्होंने कहा कि हरिचाँद ठाकुर की प्रेरणा हमें हर स्थिति में आगे बढ़ना सिखाती है। महामारी फैलने पर ओराकांदी के लोगों ने प्रौद्योगिकी का प्रयोग किया था और हमें इससे भी प्रेरणा मिली। 

काली मंदिर में पूजा की

नरेंद्र मोदी ने इसके पहले ढाका के नज़दीक ईश्वरीपुर गाँव स्थित प्राचीन यशोरेश्वरी काली मंदिर में पूजा अर्चना की। उन्होंने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी। उन्होंने ट्वीट किया, "यशोरेश्वरी काली मंदिर में पूजा कर अभिभूत हूँ।" इस दौरान उन्होंने समस्त मानव जाति के कल्याण की कामना की।
भारतीय प्रधानमंत्री ने माँ काली को एक मुकुट, साड़ी व अन्य पूजन सामग्रियाँ अर्पित कीं और मंदिर की परिक्रमा की। चांदी के इस 'मुकुट' पर सोने की परत चढ़ाई गई है। इसे एक पारंपरिक कारीगर ने तीन सप्ताह में बनाया। मोदी जब काली मंदिर पहुँचे, लोगों ने पारंपरिक तरीके से शंख बजाकर, तिलक लगाकर स्वागत किया। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें