loader

विपक्षी दलों ने निकाला विजय चौक से संसद तक पैदल मार्च

संसद के मानसून सत्र में सरकार को लगातार अपनी सियासी क़दमताल से हिलाने वाले विपक्षी दलों ने गुरूवार को विजय चौक से संसद तक पैदल मार्च निकाला। मार्च में कांग्रेस सांसद राहुल गांधी, आरजेडी सांसद मनोज झा सहित 15 दलों के सांसद व नेता शामिल रहे। पैदल मार्च से पहले विपक्षी दलों के सांसदों ने बैठक भी की। 

'देश को बेच रहे हैं मोदी'

इसके बाद हुई प्रेस कॉन्फ्रेन्स में राहुल गांधी ने कहा कि जनता की आवाज़ को दबाया जा रहा है। 

राहुल ने एक बार फिर पेगासस जासूसी मामले को उठाया और कहा कि लोगों के फ़ोन में पेगागस स्पाईवेर है और प्रधानमंत्री देश को बेच रहे हैं। उन्होंने कहा कि राज्यसभा में पहली बार सांसदों की पिटाई की गई, बाहर से लोगों को बुलाकर सांसदों के साथ मारपीट की गई है। उन्होंने कहा कि सभापति की जिम्मेदारी सदन को चलाने की है लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया। 

ताज़ा ख़बरें
शिव सेना सांसद संजय राउत ने कहा कि मानसून सत्र के दौरान विपक्ष को बात रखने का मौक़ा नहीं दिया गया। राज्यसभा में मार्शलों ने महिला सांसदों से बदसलूकी की और ऐसा करके लोकतंत्र की हत्या की गई है। आरजेडी सांसद मनोज झा ने कहा कि संसद में मार्शल लॉ लगाया गया। 
Opposition parties march from Vijay Chowk to Parliament - Satya Hindi
इसके बाद राहुल गांधी दिल्ली के नांगल राव गांव में दलित बच्ची के साथ हुई बलात्कार और हत्या की वारदात के विरोध में कांग्रेस के दलित प्रकोष्ठ की ओर से आयोजित 'संसद घेराव' प्रदर्शन में हिस्सा लेने जंतर-मंतर पहुंचे। यहां उन्होंने कहा कि मोदी सरकार का दलित विरोधी चेहरा देश के सामने है और दलितों के खिलाफ बढ़ रहे अपराधों के ख़िलाफ़ कांग्रेस पार्टी आवाज बुलंद करती रहेगी।

राहुल गांधी कुछ दिन पहले विपक्षी दलों के नेताओं से नाश्ते की टेबल पर मिले थे। इसके बाद सभी विपक्षी दलों के नेता साइकिल से संसद पहुंचे थे। कुछ दिन पहले राहुल गांधी ट्रैक्टर चलाकर संसद पहुंचे थे। तब कांग्रेस ने यह संदेश देने की कोशिश थी कि वह किसानों की आवाज़ को पुरजोर तरीक़े से उठाती रहेगी। 
Opposition parties march from Vijay Chowk to Parliament - Satya Hindi

बता दें कि संसद के मानसून सत्र में मोदी सरकार विपक्ष के हमलों से बुरी तरह घिर गई है। पेगासस जासूसी मामला, किसान आंदोलन सहित कई और मुद्दों पर विपक्ष एकजुट है। 

देश से और ख़बरें

विपक्षी दलों में विशेषकर कांग्रेस पेगासस जासूसी के मामले को लेकर कांग्रेस सड़क से संसद तक मोदी सरकार पर हमलावर है। पेगासस जासूसी मामले में 22 जुलाई को देश के कई राज्यों में कांग्रेस इकाइयों ने राजभवन की ओर कूच किया था। इस दौरान पुलिस से उनकी झड़प हुई थी और कई कार्यकर्ताओं को हिरासत में ले लिया गया था। 

जारी है ‘किसान संसद’

केंद्र सरकार के कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ आंदोलन कर रहे किसानों की संसद जारी है। इस संसद का आयोजन संसद से कुछ ही दूरी पर स्थित जंतर-मंतर पर किया जा रहा है। किसानों की यह संसद 13 अगस्त तक चलेगी। बारिश के बीच भी किसान आंदोलन और संसद में डटे हुए हैं। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें