loader

पीएम मोदी का ट्विटर खाता कुछ देर के लिए हैक, फिर बहाल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का निजी ट्विटर हैंडल रविवार तड़के कुछ देर के लिए हैक कर लिया गया था। हालाँकि कुछ ही समय बाद उनके खाते को बहाल कर दिया गया। हैक किए जाने के दौरान प्रधानमंत्री के ट्विटर खाते से क्रिप्टोकरेंसी को बढ़ावा देने वाला एक ट्वीट कर दिया गया था। खाता बहाल होने के बाद उस उस ट्वीट को हटा दिया गया।

प्रधानमंत्री के ट्विटर खाते को लेकर प्रधानमंत्री कार्यालय यानी पीएमओ इंडिया ने एक ट्वीट में कहा, 'पीएम नरेंद्र मोदी के ट्विटर हैंडल को कुछ पल के लिए हैक कर लिया गया था। मामले से ट्विटर को अवगत करा दिया गया और खाते को तुरंत सुरक्षित कर लिया गया। कुछ समय के लिए खाते से छेड़छाड़ की गई, तब के किसी भी ट्वीट को नज़रअंदाज़ किया जाना चाहिए।'

प्रधानमंत्री का ट्विटर खाता बहाल होने से पहले पीएम मोदी की टाइमलाइन पर एक यूआरएल के साथ एक ट्वीट साझा किया गया था। इसमें लिखा था, 'भारत ने आधिकारिक तौर पर बिटकॉइन को क़ानूनी वैधता के रूप में अपनाया है। सरकार ने आधिकारिक तौर पर 500 बीटीसी खरीदा है और वह उन्हें देश के सभी निवासियों को वितरित कर रही है।' हैकर द्वारा पोस्ट किए गए इस ट्वीट को हटा दिया गया है और पीएमओ ने ऐसे ही ट्वीट को नज़रअंदाज़ किये जाने की बात कही है। 

राजनीतिक नेताओं और कार्यकर्ताओं सहित कई ट्विटर उपयोगकर्ताओं ने माइक्रोब्लॉगिंग साइट पर उस पोस्ट को साझा किया, जिसे प्रधानमंत्री के प्रोफाइल से हटा दिया गया था। 

ताज़ा ख़बरें
कांग्रेस नेता श्रीनिवास बीवी ने हटाए गए ट्वीट के स्क्रीनशॉट को ट्वीट करते हुए लिखा, 'गूड मॉर्निंग मोदी जी। सब चंगा सी?

राजनीतिक विश्लेषक तहसीन पूनावाला ने भी प्रधानमंत्री मोदी के ट्विटर खाते के हैक किए जाने पर ट्वीट किया और लिखा, 'क्या माननीय पीएम श्री नरेंद्र मोदी जी का ट्विटर अकाउंट हैक किया गया था? और बिटकॉइन का वादा!!"

सितंबर 2020 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की निजी वेबसाइट और मोबाइल ऐप से जुड़े ट्विटर अकाउंट को हैक कर लिया गया था। ट्विटर ने भी इसकी पुष्टि की थी। हैकरों ने हैकिंग के बाद एक के बाद एक कई ट्वीट किए थे। इन ट्वीट में प्रधानमंत्री के फॉलोअरों से रिलीफ़ फ़ंड में क्रिप्टोकरंसी चंदा देने का आग्रह किया गया था। 

देश से और ख़बरें

तब हैकरों द्वारा एक मैसेज में लिखा गया था, 'मैं आप लोगों से अपील करता हूँ कि कोविड-19 के लिए बनाए गए पीएम मोदी रिलीफ फंड में डोनेट करें।' एक और ट्वीट में लिखा गया, यह अकाउंट जॉन विक (hckindia@tutanota.com) ने हैक किया है। हमने पेटीएम मॉल हैक नहीं किया है।' हालाँकि इन ट्वीट को बाद में हटा लिया गया। 

प्रधानमंत्री के जिस ट्विटर एकाउंट को निशाना बनाया गया था वह narendramodi_in था। यह प्रधानमंत्री मोदी की पर्सनल वेबसाइट https://www.narendramodi.in और नरेंद्र मोदी मोबाइल एप्लिकेशन से जुड़ा ट्विटर खाता है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें