loader

सीबीएसई बोर्ड परीक्षा फ़रवरी तक नहीं : शिक्षा मंत्री

नये क़िस्म के कोरोना संक्रमण की चिंताओं के बीच अगले साल फ़रवरी तक सीबीएसई की कोई भी परीक्षा नहीं होगी। केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल 'निशंक' ने इसकी घोषणा की है। उन्होंने यह कहते हुए ऑनलाइन शिक्षा के विकल्प को खारिज कर दिया कि कई स्कूल ग्रामीण क्षेत्रों में हैं। वह शिक्षकों के साथ आज शाम वेबिनार में लाइव चर्चा के दौरान बोल रहे थे।

वेबिनार में पोखरियाल ने कहा, 'हम फ़रवरी 2021 तक सीबीएसई बोर्ड परीक्षा नहीं करा पाएँगे।' एक शिक्षक के इस सवाल पर कि क्या बोर्ड परीक्षाओं को स्थगित किया जा सकता है, मंत्री ने कहा, 'हम कोरोना को छात्रों को प्रभावित करने नहीं दे सकते हैं और उन छात्रों को कोरोना-युग के छात्रों के रूप में लेबल नहीं चिपका सकते हैं कि उन्होंने बिना किसी परीक्षा के कक्षाएँ पास की हैं।' 

ख़ास ख़बरें

उन्होंने यह भी कहा कि हमने इस वर्ष जेईई, एनईईटी (नीट) परीक्षा का आयोजन किया है। यह कोरोना महामारी के बीच आयोजित सबसे बड़ी परीक्षा में से एक थी।

बता दें कि मार्च महीने में कोरोना संक्रमण के फैलने के बाद से ही स्कूल बंद हैं और परीक्षाओं को लेकर तरह-तरह के सवाल उठाए जा रहे हैं। बड़ा सवाल यह है कि बिना पढ़ाई के छात्रों की परीक्षा किस आधार पर ली जाएगी। इससे भी बड़ा सवाल यह है कि जिस तरह से कोरोना का नये सिरे से खौफ है उसमें परीक्षा किस तरह आयोजित की जा सकेगी।

आगामी बोर्ड परीक्षा पर एक सवाल के जवाब में निशंक ने यह भी कहा कि इंटर्नल एग्ज़ाम के लिए टीम का गठन किया जाएगा। 

निशंक ने कहा कि सीबीएसई बोर्ड की परीक्षाएँ कम किए गए सिलेबस पर आयोजित की जाएँगी। 

निशंक ने कहा कि 30 फ़ीसदी सिलेबस को कम कर दिया गया है और कई राज्यों ने भी ऐसी ही घोषणा की है। उनके अनुसार बाक़ी राज्य भी ऐसी ही घोषणा करने के पक्ष में हैं। उन्होंने यह भी कहा कि परीक्षा में 33 प्रतिशत इंटर्नल के विकल्प भी होंगे।

बता दें कि वैक्सीन आ जाने के बाद भी नये क़िस्म के कोरोना संक्रमण के कारण नये सिरे से दुनिया भर में खौफ फैला है। ब्रिटेन सहित कई देशों में नए क़िस्म के कोरोना के ख़ौफ़ के बीच केंद्र सरकार ने ब्रिटेन की उड़ानों पर 31 दिसंबर तक रोक लगा दी है। दुनिया के कई देशों ने ब्रटेन की उड़ानों पर रोक लगाई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने लोगों को आश्वासन दिया है कि स्थिति नियंत्रण में है और घबराने की कोई ज़रूरत नहीं है। उन्होंने कहा कि सरकार पूरी तरह से सतर्क है। 

महाराष्ट्र सरकार ने तो रात का कर्फ्यू लगाया है। यह कर्फ्यू रात 11 बजे से सुबह छह बजे तक 5 जनवरी तक लागू रहेगा। 

ramesh pokhriyal nishank says no cbse board exam till february 2021 - Satya Hindi

महाराष्ट्र सरकार ने जो ताज़ा फ़ैसला लिया है वह ब्रिटेन में कोरोना के नये क़िस्म (न्यू स्ट्रेन) के 'बेकाबू' होने की ख़बर के बाद लिया गया है। ब्रिटेन के अलावा अन्य यूरोपीय देशों के यात्रियों, या मध्य पूर्व के देशों के किसी यात्री को भी 14-दिवसीय संस्थागत क्वॉरंटीन के लिए भेजा जाएगा। बाक़ी लोगों को भी इतने ही दिनों के लिए होम क्वॉरंटीन के नियमों का पालन करना होगा। राज्य सरकार का यह फ़ैसला सोमवार देर शाम को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे द्वारा इस मुद्दे पर ली गई बैठक में लिया गया।

वीडियो में देखिए, कोरोना के नये स्ट्रेन की असलियत?

ये फ़ैसले दरअसल इसलिए लिए जा रहे हैं क्योंकि ब्रिटेन में नये क़िस्म का कोरोना अब 'बेकाबू' हो गया है। ब्रिटेन के अधिकारियों ने ही यह कहा है कि यह 'बेकाबू' है। रविवार से ही ब्रिटेन में नये सिरे से सख़्त लॉकडाउन लगाया गया है।

ऐसा तब है जब ब्रिटेन में वैक्सीन लगाने का अभियान चलाया जा रहा है। ब्रिटेन में नये क़िस्म का कोरोना कितना ख़तरनाक है, इसका अंदाजा ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन की चिंता से लगाया जा सकता है। उन्होंने कहा है कि कोरोना का यह नया रूप पहले वाले से 70 फ़ीसदी अधिक तेज़ी से फैलता है। इस हिसाब से यह पहले से कहीं ज़्यादा ख़तरनाक साबित हो सकता है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें