loader

सुशांत की बहन पर रिया की FIR खारिज नहीं, सीबीआई जाँच होगी

सुशांत सिंह राजपूत की बहन प्रियंका के ख़िलाफ़ रिया चक्रवर्ती की जिस एफ़आईआर को कभी सीबीआई ने क़ानून ग़लत क़रार दिया था उसमें सुप्रीम कोर्ट को ऐसा नहीं लगता है। पहले बॉम्बे हाई कोर्ट को भी उस एफ़आईआर में क़ानून कुछ ग़लत नहीं लगा था। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि सुशांत की बहन प्रियंका सिंह के ख़िलाफ़ रिया की एफ़आईआर रद्द नहीं की जाएगी। इसका मतलब है कि अब सीबीआई को मुंबई पुलिस की एफ़आईआर को अपने दायरे में लेना होगा और उन आरोपों की जाँच करनी होगी जिसमें आरोप लगाया गया है कि प्रतिबंधित दवा लेने में सुशांत की मदद करने के लिए प्रियंका ने फर्जी तरीक़े से प्रिस्क्रिप्शन तैयार करवाई।

बॉम्बे हाई कोर्ट ने भी प्रियंका के ख़िलाफ़ केस चलाने पर आपत्ति नहीं की थी। हालाँकि उसने सुशांत की ही दूसरी बहन मितू सिंह के ख़िलाफ़ केस को खारिज कर दिया था। इन दोनों के ख़िलाफ़ रिया ने एफ़आईआर दर्ज कराई थी। बॉम्बे हाई कोर्ट से राहत नहीं मिलने पर प्रियंका सुप्रीम कोर्ट पहुँचीं। 

ताज़ा ख़बरें

सुप्रीम कोर्ट के इस फ़ैसले के बाद अब प्रियंका सिंह के ख़िलाफ़ भी सीबीआई ही जाँच करेगी। ऐसा इसलिए कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत से जुड़े मामले में सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि इन मामलों से जुड़ी सभी एफ़आईआर की जाँच सीबीआई करेगी। प्रियंका मामले में सीबीआई ने अब तक जाँच शुरू नहीं की थी क्योंकि यह मामला कोर्ट में लंबित था। अब कोर्ट से हरी झंडी मिलने के बाद इसमें भी केंद्रीय एजेंसी जाँच शुरू करेगी। 

बता दें कि यह मामला उससे जुड़ा है जिसमें फ़िल्म अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती ने सुशांत की मौत के मामले में उनकी बहनों के ख़िलाफ़ मुक़दमा दर्ज कराया है। रिया ने सुशांत को ग़लत प्रिसक्रिप्शन के आधार पर दवाएँ देने का आरोप लगाया है। 

रिया चक्रवर्ती का यह मुक़दमा सुशांत की बहनों प्रियंका सिंह, मीतू सिंह, दिल्ली के राम मनोहर लोहिया अस्पताल के डॉक्टर तरूण कुमार और कुछ अन्य के ख़िलाफ़ दर्ज कराया गया था।

रिया के वकील सतीश मानशिंदे ने कहा था, ‘रिया ने बांद्रा पुलिस में दी गई शिकायत में कहा है कि हो सकता है कि सुशांत की आत्महत्या का कारण उसे दी गई ग़लत दवाओं का कॉकटेल रहा हो।’ रिया ने आरोप लगाया था कि दवाओं के एक जाली पर्चे में यह दिखाया गया कि सुशांत दिल्ली में आउट पेशेंट विभाग में हैं लेकिन वास्तव में वह मुंबई में थे। 

sc dismissed sushant singh sister priyanka appeal to quash rhea fir - Satya Hindi
रिया ने अपनी शिकायत में कहा है, ‘सुशांत की मौत मेरे जाने के 5 ही दिन बाद हो गई। पर्चे में लिखी गई दवाओं में गैरकानूनी रूप से दी गई दवाएँ थीं।’ रिया ने यह शिकायत सुशांत और उनकी बहन के बीच 8 जून को हुए एक वॉट्स ऐप चैट के आधार पर दी। उस चैट से संकेत मिले थे कि प्रियंका ने अपने भाई को तीन दवाएँ लेने की सलाह दी थी जो कि डिप्रेशन और एंग्जाइटी होने पर दी जाती है और उसे बिना प्रिस्क्रिप्शन के मेडिकल काउंटर से नहीं खरीदा जा सकता है।

34 वर्षीय सुशांत सिंह राजपूत मुंबई के अपने अपार्टमेंट में 14 जून को मृत पाए गए थे। इस मामले से जुड़े एक केस में रिया चक्रवर्ती को पिछले साल सितंबर महीने में 28 दिन जेल में बिताने पड़े। उन पर आरोप लगे कि उन्होंने सुशांत सिंह राजपूत के लिए ड्रग्स की व्यवस्था की।

देश से और ख़बरें
सुशांत की मौत के मामले में उनके परिवार की ओर से रिया चक्रवर्ती पर अभिनेता की हत्या किए जाने का आरोप लगाया गया। लेकिन एम्स के डॉक्टर्स के पैनल और सीबीआई ने इसे पूरी तरह नकार दिया और कहा कि यह हत्या का नहीं, आत्महत्या का मामला है। इसके बाद रिया पर सुशांत के अकाउंट्स में धोखाधड़ी करने के आरोप लगाए गए लेकिन वे भी ईडी की जांच में बेबुनियाद साबित हुए। फिर रिया पर ड्रग्स का केस चला और इसी मामले में उन्हें जेल भेजा गया। लेकिन जब कोर्ट में मामला गया तो कोर्ट ने भी कहा कि उसके सामने कोई ऐसा ठोस सबूत नहीं पेश किया गया है कि उन्हें जेल में रखा जाए। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें