loader

परमबीर जब तक नहीं बताएँगे कि कहां हैं, तब तक कोई सुरक्षा नहीं: सुप्रीम कोर्ट

मुंबई पुलिस के पूर्व कमिश्नर परमबीर सिंह को अब सुप्रीम कोर्ट से भी झटका लगा है। सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को परमबीर सिंह के ख़िलाफ़ जबरन वसूली के एक मामले में गिरफ्तारी से सुरक्षा देने से इनकार कर दिया है। अदालत ने कहा है कि वह उनकी याचिका पर तभी सुनवाई करेगी जब वह यह बताएँ कि वह वर्तमान में देश या दुनिया के किस हिस्से में हैं। एक दिन पहले ही यानी बुधवार को मुंबई की एक स्थानीय अदालत के फ़ैसले से उनको झटका लगा था। स्थानीय अदालत ने दो आरोपियों के साथ ही परमबीर सिंह को घोषित अपराधी क़रार दिया है। उससे पहले उनके ख़िलाफ़ कम से कम तीन मामलों में ग़ैर जमानती वारंट जारी किया जा चुका है। 

स्थानीय अदालत के उस आदेश के बाद अब सुप्रीम कोर्ट का यह फ़ैसला आया है। परमबीर सिंह के वकील ने शीर्ष अदालत में याचिका लगाकर गुहार लगाई थी कि उनको गिरफ़्तारी से सुरक्षा प्रदान की जाए। इस पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा, 'याचिकाकर्ता दुनिया के किस हिस्से में है? आप इस देश में हैं या बाहर? पहले मैं जानना चाहता हूँ कि आप कहां हैं।' कोर्ट ने परमबीर सिंह के वकील पर भी निशाना साधा जब उन्होंने तर्क दिया कि अगर उन्हें 'साँस लेने की अनुमति दी जाए तो वह छेद से बाहर निकल सकते हैं'।

ताज़ा ख़बरें

जस्टिस एस के कौल ने कहा, 'सिस्टम में विश्वास की कमी को देखिए। वह पुलिस कमिश्नर थे, लेकिन हम उनके साथ कोई अलग व्यवहार नहीं करने जा रहे हैं। वह सुरक्षा मांग रहे हैं। क्या आप कह रहे हैं कि वह भारत तभी आएंगे जब अदालतें उनकी रक्षा करेंगी?'

उन्होंने कहा, 'आप सुरक्षात्मक आदेश मांग रहे हैं; कोई नहीं जानता कि आप कहां हैं। मान लीजिए कि आप विदेश में बैठे हैं और पावर ऑफ अटॉर्नी के माध्यम से क़ानूनी सहारा ले रहे हैं तो क्या होता है। यदि ऐसा होता है तो आप भारत आएंगे यदि अदालत आपके पक्ष में फ़ैसला करती है, तो हमें नहीं पता कि आपके मन में क्या है। जब तक हम नहीं जानते कि आप कहां हैं, तब तक कोई सुरक्षा नहीं है।'

इस मामले में अब अगली सुनवाई 22 नवंबर को होगी। 

बता दें कि मुंबई पुलिस ने स्थानीय अदालत में पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह को भगोड़ा अपराधी घोषित करने की अपील की थी। पुलिस ने इसके लिए दलील दी थी कि परमबीर सिंह फरार हैं और उनका पता नहीं चल सका है। पुलिस ने इसी मामले में परमबीर सिंह के अलावा दो अन्य आरोपियों- विनय सिंह और रियाज भाटी को भी भगोड़ा अपराधी घोषित करने की अपील की थी।

मुंबई पुलिस की अपील पर स्थानीय अदालत ने परमबीर सिंह को घोषित अपराधी क़रार दिया है।

शहर की पुलिस अब नोटिस को उनके ज्ञात पते पर चिपकाएगी और उन्हें 30 दिनों के भीतर उनके समक्ष पेश होने का निर्देश देते हुए समाचार पत्रों में विज्ञापन देगी। यदि वे उपस्थित नहीं होते हैं तो पुलिस उनकी संपत्तियों को कुर्क करने की प्रक्रिया शुरू करेगी।

देश से और ख़बरें

यह कार्रवाई उस मामले में हो रही है जिसमें एक होटल व्यवसायी बिमल अग्रवाल ने शिकायत दर्ज कराई थी। इसी के आधार पर गोरेगांव पुलिस ने परमबीर, रियाज भाटी, विनय सिंह, सुमित सिंह, अल्पेश पटेल पर केस दर्ज किया था। मुंबई पुलिस अधिकारी सचिन वाजे को बर्खास्त कर दिया गया था। अग्रवाल ने आरोप लगाया था कि परमबीर सिंह ने वाजे के साथ मिलकर उनसे 11.92 लाख रुपये की नकदी और कीमती सामान की वसूली की थी। शुरुआत में गोरेगांव पुलिस स्टेशन में केस दर्ज किया गया था, जिसके बाद इसे अपराध शाखा में स्थानांतरित कर दिया गया था।

बता दें कि मजिस्ट्रेट अदालत ने पिछले महीने इस मामले में परमबीर सिंह सहित तीनों के ख़िलाफ़ ग़ैर ज़मानती वारंट जारी किया था। ठाणे की एक अदालत ने अक्टूबर में परमबीर सिंह के ख़िलाफ़ ग़ैर ज़मानती वारंट भी जारी किया था। मरीन ड्राइव थाने में दर्ज वसूली के मामले में उनके ख़िलाफ़ पिछले सप्ताह तीसरी ग़ैर जमानती वारंट जारी किया गया था।

ख़ास ख़बरें

अपराध शाखा ने अपनी याचिका में कहा था कि सिंह के ख़िलाफ़ पिछले महीने जारी ग़ैर-जमानती वारंट का पालन करने के लिए अधिकारियों को प्रतिनियुक्त किया गया था। इसमें कहा गया है कि परमबीर सिंह और दो सह-आरोपियों के सभी ज्ञात आवासों पर टीमें भेजी गईं, लेकिन उनका पता नहीं चल सका। 

पुलिस का कहना है कि परमबीर सिंह के मालाबार हिल स्थित आवास पर उनके स्टाफ ने पुलिस को बताया कि वह पिछले तीन महीने से घर पर नहीं रहे हैं और न ही उनके परिवार के सदस्य घर आए हैं।

परमबीर सिंह के ख़िलाफ़ इस समय मुंबई और ठाणे में 5 मामले दर्ज हैं। जिनमें ज़्यादातर मामले जबरन उगाही के हैं। मुंबई पुलिस और ठाणे पुलिस द्वारा परमबीर के ख़िलाफ़ लुकआउट नोटिस भी जारी किया जा चुका है।

बर्खास्त पुलिस अधिकारी सचिन वाजे द्वारा पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख पर लगाए गए वसूली के आरोपों की जांच करने के लिए महाराष्ट्र सरकार द्वारा गठित किए गए चांदीवाल आयोग द्वारा भी परमबीर सिंह को कई बार समन जारी किए गए लेकिन परमबीर ने आयोग के किसी भी समन का जवाब नहीं दिया। 

परमबीर सिंह को मार्च में मुंबई पुलिस प्रमुख के पद से हटा दिया गया था और महानिदेशक (होम गार्ड्स) के रूप में स्थानांतरित कर दिया गया था। बाद में वह बीमारी के कारण छुट्टी पर गए, लेकिन फिर वह काम पर नहीं लौटे।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें