loader

जामिया हिंसा: सुप्रीम कोर्ट का दख़ल से इनकार, कहा - हाई कोर्ट जाइए

नागरिकता संशोधन क़ानून के विरोध में जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के छात्रों के प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को सुनवाई की। सुनवाई के दौरान चीफ़ जस्टिस ऑफ़ इंडिया (सीजेआई) ने कहा कि हमें इस मामले में दख़ल देने की ज़रूरत नहीं है। यह क़ानून-व्यवस्था की दिक्कत है। सीजेआई ने पूछा कि बसें कैसे जलीं? उन्होंने याचिकाकर्ताओं से यह भी कहा कि आप हाई कोर्ट का रूख क्यों नहीं करते।

रविवार को वरिष्ठ अधिवक्ता इंदिरा जयसिंह ने जामिया और अलीगढ़ मुसलिम विश्वविद्यालय में प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा के मामले को सुप्रीम कोर्ट में रखा था। उन्होंने सीजेआई की बेंच से मामले का स्वत: संज्ञान लेने को कहा था और कहा था कि यह मानवाधिकार का मामला है और बेहद गंभीर है। 

ताज़ा ख़बरें
सोमवार को छात्रों का पक्ष रखते हुए इंदिरा जयसिंह ने कहा, ‘क़ानून कहता है कि विश्वविद्यालयों में पुलिस बिना कुलपति की अनुमति के नहीं जा सकती। हिंसा में एक व्यक्ति की आंखों की रोशनी चली गई है, कुछ छात्रों की टांगें टूट गई हैं।’ इस पर सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि किसी भी छात्र की आंखों की रोशनी नहीं गई है। 

इंदिरा जयसिंह ने आगे कहा, ‘इस मामले में फ़ैक्ट फ़ाइंडिग एसआईटी बनाने की ज़रूरत है। कोर्ट इस मामले से कैसे पीछे हट सकती है। कोर्ट ने तेलंगाना एनकाउंटर मामले को सुना। हम भी वैसा ही आदेश देने की माँग कर रहे हैं।’ इस पर सीजेआई बोबडे ने कहा कि तेलंगाना एनकाउंटर मामले को एक आयोग नियुक्त करके देखा जा सकता है लेकिन इस मामले में ऐसी कोई समिति नहीं है कि वह पूरे देश में ऐसे मामलों को देख सके। 

रविवार को सुनवाई के दौरान बोबडे ने कहा था कि सिर्फ़ इसलिए कि वे छात्र हैं, इसका मतलब यह नहीं है कि वे क़ानून को अपने हाथ में ले सकते हैं। उन्होंने कहा था कि इस बारे में तभी फ़ैसला होगा जब मामला शांत होगा। 

देश से और ख़बरें

नागरिकता संशोधन क़ानून के विरोध में जामिया मिल्लिया इस्लामिया यूनिवर्सिटी के छात्रों ने रविवार को जोरदार प्रदर्शन किया था। इस दौरान जमकर हिंसा हुई थी और कुछ बसों और बाइकों में आग लगा दी गई थी। इसके अलावा रविवार रात को अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में भी बवाल हुआ था और पुलिस को हालात को सामान्य करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़ने पड़े थे। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें