loader

सुशील मोदी बोले- जाति जनगणना की विरोधी नहीं है बीजेपी

बीजेपी के बड़े नेता सुशील कुमार मोदी ने कहा है कि बीजेपी जाति जनणगना के ख़िलाफ़ कभी नहीं रही है।  सुशील कुमार मोदी ने सोमवार को इसे लेकर एक के बाद एक कई ट्वीट किए। उन्होंने अपने ट्वीट में जाति जनगणना को लेकर ऐतिहासिक घटनाक्रमों का भी ज़िक्र किया है। और तो और यह भी साफ़ किया है कि 'जातीय जनगणना कराने में अनेक तकनीकि और व्यवहारिक कठिनाइयाँ हैं, फिर भी बीजेपी सैद्धांतिक रूप से इसके समर्थन में है।' उन्होंने ट्वीट में यह भी कहा है कि प्रधानमंत्री से मिलने वाले प्रतिनिधिमंडल में बीजेपी भी शामिल है।

उधर, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाक़ात की है। मुलाक़ात के बाद नीतीश कुमार ने कहा कि सभी लोगों ने अपनी बातों को प्रधानमंत्री के सामने रखा और पीएम ने उनकी बात को ध्यान से सुना है। नीतीश ने कहा कि पीएम से मांग की गई कि इस मामले में जल्द से जल्द क़दम उठाया जाए। 

सुशील कुमार ने एक ट्वीट में कहा है कि वर्ष 2011 में बीजेपी के गोपीनाथ मुंडे ने जाती जनगणना के पक्ष में संसद में पार्टी का पक्ष रखा था। उन्होंने आगे कहा, 'उस समय केंद्र सरकार के निर्देश पर ग्रामीण विकास और शहरी विकास मंत्रालयों ने जब सामाजिक, आर्थिक, जातीय सर्वेक्षण कराया, तब उसमें करोड़ों त्रुटियां पायी गईं। जातियों की संख्या लाखों में पहुंच गई। भारी गड़बड़ियों के कारण उसकी रिपोर्ट सार्वजनिक नहीं की गई। वह सेंसस या जनगणना का हिस्सा नहीं था।'

बिहार से आने वाले बीजेपी नेता ने यह भी कहा, 'ब्रिटिश राज में 1931 की अंतिम बार जनगणना के समय बिहार, झारखंड और उड़ीसा एक थे। उस समय के बिहार की लगभग 1 करोड़ की आबादी में मात्र 22 जातियों की ही जनगणना की गई थी। अब 90 साल बाद आर्थिक, सामाजिक, भौगोलिक और राजनीतिक परिस्तिथियों में बड़ा फर्क आ चुका है।'

बीजेपी के जाति जनगणना के विरोधी नहीं होने का सुशील कुमार का यह बयान तब आया है जब पिछले महीने लोकसभा में एक सवाल के जवाब में केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय ने कहा था कि भारत सरकार ने जनगणना में अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के अलावा अन्य जाति आधारित आबादी की जनगणना नहीं करने के लिए नीति के रूप में तय किया है।

ताज़ा ख़बरें

सरकार के इस बयान के बाद से विरोधी दलों के नेता जाति जनगणना के लिए दबाव बनाने लगे। इसके साथ ही जेडीयू और अपना दल जैसे बीजेपी के ही सहयोगी दल भी विरोध करने लगे। इस बीच बीजेपी के ही कई सांसदों ने खुलकर तो कुछ सांसदों ने दबी जुबान में जाति जनगणना की पैरवी की। समझा जाता है कि इसको लेकर मोदी सरकार पर काफ़ी दबाव पड़ा।

इस दबाव को ऐसे भी समझा जा सकता है कि इस महीने की शुरुआत में ही नीतीश कुमार ने आरोप लगाया था कि प्रधानमंत्री मोदी उनको मुलाक़ात का समय नहीं दे रहे हैं। लेकिन कुछ दिन पहले ही ख़बर आई कि प्रधानमंत्री ने मिलने का समय दे दिया।

दो दिन पहले ही नीतीश ने कहा था, 'लोगों की इच्छा है कि जाति जनगणना होनी चाहिए। मुझे उम्मीद है कि इस पर सकारात्मक चर्चा होगी।' 

क़रीब एक पखवाड़े पहले पत्रकारों से बातचीत में नीतीश ने एक ऐसी जनगणना की मांग दोहराई थी जिसमें भारत की जाति की विभिन्नता को ध्यान में रखा गया हो और जैसा बिहार विधानसभा ने सर्वसम्मति से 2019 में और फिर 2020 में एक प्रस्ताव पारित किया था।

तब मुख्यमंत्री ने कहा था, 'यह समझना चाहिए कि निर्णय केंद्र को लेना है। हमने अपनी मांग रखी है। यह राजनीतिक नहीं है, यह एक सामाजिक मामला है।' यह पूछे जाने पर कि यदि केंद्र ऐसा नहीं करता है तो क्या राज्य भी इस तरह की कवायद करेगा, उन्होंने कहा था, 'फिर हम यहाँ इस पर चर्चा करेंगे, ठीक न?'

sushil modi says bjp not against caste census  - Satya Hindi

बिहार में बीजेपी को छोड़कर क़रीब-क़रीब सभी पार्टियाँ जाति आधारित जनगणना की मांग करती रही हैं।

आरजेडी नेता लालू यादव ने भी हाल ही में इसकी मांग की थी। उनके बेटे तेजस्वी यादव लगातार इसकी मांग करते रहे हैं। तेजस्वी यादव तो तर्क देते आए हैं कि 'जब जानवरों की गणना हो सकती है तो जाति जनगणना क्यों नहीं?' उन्होंने तो यहाँ तक मांग की थी कि यदि केंद्र सरकार सहमत नहीं है तो नीतीश कुमार सरकार को ख़ुद से ही ऐसा कर देना चाहिए। तेजस्वी यादव ने कहा था कि नीतीश कुमार को या तो बिहार के नेताओं के एक प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करना चाहिए या प्रधानमंत्री से बात कर इस मुद्दे को उठाना चाहिए। 

देश से और ख़बरें
नीतीश कुमार ने कहा था कि जाति आधारित जनगणना से कुछ लोगों को दिक्कतें होंगी, यह बात पूरी तरह निराधार है। नीतीश ने पिछले कहा था, 'यह केंद्र पर निर्भर है कि वह जाति की जनगणना करे या न करे... हमारा काम अपने विचार रखना है। यह मत सोचो कि एक जाति पसंद करेगी और दूसरी नहीं... यह सभी के हित में है।' उन्होंने कहा था, 'समाज में कोई तनाव पैदा नहीं होगा। खुशी होगी। हर वर्ग के लोगों को योजनाओं से लाभ होगा।' 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें