loader

पुतिन की यात्रा का मक़सद भारत को अमेरिकी खेमे में जाने से रोकना है?

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन की भारत यात्रा ऐसे समय हो रही है जब नई दिल्ली के बारे में यह धारणा लगभग पक्की हो चुकी है कि वह अमेरिका का जूनियर पार्टनर बन गया है और इसकी विदेश नीतियाँ वाशिंगटन की शह पर चलती हैं।

लेकिन मामला सिर्फ इतना ही नहीं है, इस यात्रा का महत्व इसमें भी है कि दो पुराने दोस्त बदली हुई भौगोलिक-रणनीतिक स्थितियों में अपने रिश्तों को एक बार फिर से परिभाषित करना चाहते हैं। लेकिन इस बार उनका रिश्ता पहले से अधिक जटिल इसलिए है कि उनके बीच अमेरिका ही नहीं, चीन भी है, जो इतना ताक़तवर बन चुका है कि उसकी उपेक्षा नहीं की जा सकती है। 

किन मुद्दों पर होगी बात?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूसी राष्ट्रपति के बीच होने वाली बैठक में पारंपरिक हथियार, एके 203 राइफ़लों का निर्माण, युद्धक विमानों या ड्रोन की प्रौद्योगिकी की आपूर्ति, एस-400 एअर डिफेंस प्रणाली और दूसरे हथियारों की आपूर्ति का मुद्दा तो उठेगा ही, चीन सबसे अहम मुद्दा होगा। 

भारत-रूस मिल कर इनसास यानी छोटी राइफ़लें बनाने का कारखाना खोल सकते हैं। यह एके 203 राइफ़ल से अलग होगा। रूस अभी भी भारत का सबसे बड़ा हथियार आपूर्तिकर्ता देश है और 2025 तक दोनों देशों के बीच 30 अरब डॉलर के व्यापार की संभावना है। 

देश से और खबरें

एस-400 सौदा

एस-400 एअर डिफेंस प्रणाली सौदा अमेरिका के काट्सा (सीएएटीएसए) का उल्लंघन है। काउंटरिंग एमेरिकन एडवर्सरीज़ ट्रू सैंक्संश एक्ट के तहत अमेरिका भारत को किसी तरह की प्रौद्योगिकी देने से इनकार कर सकता है। लेकिन वहां का एक बड़ा धड़ा भारत को इसमें छूट देना चाहता है ताकि भारत को बहुत दूर जाने से रोका जा सके और दूसरे प्रौद्योगिकी इसे बेचा जा सके। 

पुतिन-मोदी बातचीत में यह भी एक मुद्दा हो सकता है।  

vladimir putin india visit, putin-modi talks and india-russia ties - Satya Hindi

मामला चीन का

भारत ने जिस तरह क्वाडिलैटरल स्ट्रैटेजिक डॉयलॉग्स यानी क्वाड की ज़िम्मेदारी अपने कंधे पर लेने के बाद हिंद-प्रशांत क्षेत्र में सुरक्षा स्थितियों पर बार-बार चिंता जताई है, उससे रूस का चिंतित होना स्वाभाविक है। यह बात किसी से छिपी नहीं है कि ये दोनों ही काम चीन को उसके आंगन दक्षिण चीन सागर में घेरने की अमेरिकी रणनीति का हिस्सा है। 

भारत जापान, ऑस्ट्रेलिया और अमेरिका के साथ मिल कर यह करना चाहता है जबकि न तो दक्षिण चीन सागर में इसकी कोई रणनीतिक मौजूदगी है न ही हिंद प्रशांत क्षेत्र के बड़े हिस्से में इसकी कोई दावेदारी है।
इस पूरे इलाक़े में भारत की दिलचस्पी वियतनाम छोड़ किसी में नहीं है और वह देश खुद चीन से रिश्ते बेहतर करने में जुटा है।

अमेरिकी हित

अमेरिका के प्रति भारत का झुकाव 2005 में ही साफ हो गया था जब मनमोहन सिंह की सरकार ने तमाम विरोधों के बावजूद अमेरिका के साथ असैनिक परमाणु संधि पर समझौता किया था। उस समय यह कहा गया था कि इससे अमेरिकी परमाणु बिजली कंपनियाँ भारत में बड़े पैमाने पर निवेश करेंगी और भारत में परमाणु ऊर्जा से चलने वाली बिजली घरों का जाल बिछ जाएगा। यह साफ है कि अब तक ऐसा कुछ नहीं हुआ है। 

vladimir putin india visit, putin-modi talks and india-russia ties - Satya Hindi

परमाणु ऊर्जा

इसी तरह यह भी कहा गया था कि भारत को न्यूक्लियर सप्लायर ग्रुप की सदस्यता मिल जाएगी और इसे संवर्द्धित यूरेनियम की कमी नहीं होगी, आसानी से मिल जाएगा। लेकिन ऐसा नहीं हुआ है। भारत को न तो अब तक न्यूक्लियर सप्लायर ग्रुप की सदस्यता मिली है न ही इसे किसी ने परमाण ऊर्जा दी है। यहाँ तक कि ऑस्ट्रेलिया तक ने ऐसा नहीं किया है जिसने भारत को न्यूक्लियर सप्लायर ग्रुप में शामिल करने का समर्थन किया था।  

बदली हुई भौगोलिक रणनीतिक स्थितियों में रूस के लिए भारत का महत्व यह है कि वह अमेरिकी खेमे में एक सीमा से ज़्यादा न घुसे और हिंद प्रशांत क्षेत्र में अमेरिका की शह पर चीन की घेराबंदी न करे।

क्या चाहता है रूस?

मॉस्को की दिलचस्पी इसमें है कि दक्षिण चीन सागर, हिंद प्रशांत क्षेत्र, दक्षिण एशिया और मध्य एशिया में अमेरिका अपने पैर न पसार सके। कम से कम भारत उसमें उसकी मदद न करे। 

अफ़ग़ानिस्तान

अफ़ग़ानिस्तान और मध्य एशिया में रूसी दिलचस्पी साफ है। अफ़ग़ानिस्तान का मामला अभी ख़त्म नहीं हुआ है, जिस पर रूस की निगाहें टिकी हुई हैं। मॉस्को अफ़ग़ानिस्तान में तालिबान को टिकाए रखना चाहता है ताकि अमेरिका को वहां मौका न मिले। भारत को तालिबान से दिक्क़त यह है, यह सबको पता है, रूस भी इससे इनकार नहीं करता। विशेष रूप से जम्मू-कश्मीर में पाकिस्तान के साथ मिल कर तालिबान कोई समस्या पैदा न करे, भारत को इसे देखना है और रूस भारत की चिंताओं को समझता है। 

vladimir putin india visit, putin-modi talks and india-russia ties - Satya Hindi

मध्य एशिया

इसी तरह मध्य एशिया में मौटे तौर पर रूस और चीन का ही दबदबा है। गैस और लीथियम व अन्य खनिज पदार्थो से भरे इस क्षेत्र का सामरिक महत्व यह है कि यह चीन को यूरोप तक पहुँचने का रास्ता दे सकता है। चीन की परियोजनाएं मध्य एशिया के लगभग हर देश में चल रही हैं। अमेरिका की दिलचस्पी चीन को यूरोप तक इस रास्ते से पहुँचने से रोकना है। 

भारत की भूमिका यह हो सकती है कि वह अफ़ग़ानिस्तान में अपनी खोई ज़मीन को हासिल करे और मध्य एशिया में चीन को थोड़ा बहुत कूटनीतिक प्रतिरोध दे। भारत पहले से ही शंघाई सहयोग संगठन का सदस्य है। यह रूस भी चाहेगा कि भारत मध्य पूर्व में अपने पैर पसारे ताकि चीन का पूरा नियंत्रण न हो जाए।

vladimir putin india visit, putin-modi talks and india-russia ties - Satya Hindi

'टू प्लस टू'

व्लादिमीर पुतिन की नरेंद्र मोदी के साथ इन तमाम मुद्दों पर बात हो सकती है। दोनों देशों के बीच 'टू प्लस टू' की बैठक होनी है। यानी दोनों देशों के रक्षा मंत्री व विदेश मंत्री बात करेंगे। 

इस बातचीत का मुख्य फोकस रणनीतिक समझदारी विकसित करने पर ही होगा। हथियारों की खरीद-फ़रोख़्त पर भी बात हो सकती है। विशेष रूप से ड्रोन प्रौद्योगिकी, युद्धक विमान व हेलीकॉप्टर और नौसेना के लिए पारंपरिक हथियारों की आपूर्ति रूस के निशाने पर हो सकता है। 

रूस ने बीति दिनों पाकिस्तान को युद्धक विमान बेचने में दिलचस्पी दिखाई थी, जिससे भारत की परेशान बढ़ी थी। लेकिन समझा जाता है कि मास्को सिर्फ भारत को संकेत देना चाहता है कि उसने हथियार नहीं खरीदे तो वह इसलामाबाद को ही बेच देगा। 

इसके बाद आतंकवाद से लड़ने, दोनों देशों की जनता के बीच दोस्ती बढ़ाने जैसी पारंपरिक बातें भी होंगी। 

व्लादिमीर पुतिन के समय भी रूस सोवियत संघ के दिनों की उस सोच से बाहर नहीं निकला है कि बहुत सोच समझ कर ही शतरंज की चालें चली जाएं। पुतिन इस साल सिर्फ एक बार रूस के बाहर गए, उन्होंने जनीवा सम्मलेन में भाग लिया था।दोतरफा रिश्ते में इस साल रूसी राष्ट्रपति की यह पहली यात्रा है। इससे इस यात्रा के महत्व को समझा जा सकता है। यह विदेश मंत्रालय के दिग्गजों पर निर्भर करता है कि वे मास्को से कितनी रियायतें ले पाएंगे और उसे बदले में क्या देंगे। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें