loader

इस्तेमाल की मंजूरी मांगने वाले जायडस कैडिला की वैक्सीन में ख़ास क्या?

ज़ायडस कैडिला ने तीन चरणों के ट्रायल के बाद आपात इस्तेमाल की मंजूरी के लिए आवेदन किया है। यदि इसे मंजूरी मिलती है तो यह भारत में पाँचवीं वैक्सीन होगी जिसका इस्तेमाल देश में किया जाएगा। भारत बायोटेक की कोवैक्सीन के बाद यह दूसरी वैक्सीन है जो पूरी तरह देश में ही विकसित की गई है। 

ज़ायडस कैडिला की यह वैक्सीन तीन खुराकों वाली है और इसे लगाने के लिए सुई की ज़रूरत नहीं होगी। कंपनी ने कहा है कि यह दुनिया की पहली प्लाज़्मिड डीएनए वैक्सीन है और दावा किया है कि यह बच्चों के लिए सुरक्षित है। 

ताज़ा ख़बरें

ज़ायडस कैडिला ने कहा है कि ट्रायल के अंतरिम परिणाम के अनुसार वैक्सीन कोरोना लक्षण वाले केसों पर 66.6 फ़ीसदी प्रभावी है और मध्यम दर्जे की बीमारी के ख़िलाफ़ 100 फ़ीसदी प्रभावी है। कंपनी ने यह भी कहा है कि यह वैक्सीन 12 से 18 साल के बच्चों के लिए भी सुरक्षित है। हालाँकि इसके आँकड़े अभी तक पीअर-रिव्यू की प्रक्रिया से नहीं गुजरे हैं और न ही ये विज्ञान की किसी प्रतिष्ठित पत्रिका में प्रकाशित किये गये हैं। 

कंपनी ने दावा किया है कि इसके आख़िरी चरण के ट्रायल में देश भर के 50 केंद्रों पर 28000 वॉलिंटियर्स को शामिल किया गया। इसने यह भी दावा किया है कि डेल्टा वैरिएंट सहित दूसरे नये म्यूटेंट के ख़िलाफ़ भी यह वैक्सीन प्रभावी है। 

कंपनी की ओर से कहा गया है कि इस वैक्सीन को 2-8 डिग्री सेल्सियस के तापमान पर स्टोर रखा जा सकता है, लेकिन इसके साथ ही यह भी कहा है कि 25 डिग्री तापमान पर भी यह वैक्सीन कम से कम तीन महीने तक स्थिर यानी कारगर रह सकती है। 

भारत में फ़िलहाल चार कंपनियों के टीके को मंजूरी मिल चुकी है। सबसे पहले इस साल की शुरुआत में ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी-एस्ट्राज़ेनेका द्वारा विकसित और सीरम इंस्टीट्यूट द्वारा निर्मित कोविशील्ड और भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को मंजूरी मिली थी।

इसके बाद रूस में विकसित और डॉ रेड्डी लेबोरेटरीज द्वारा निर्मित किए जाने वाले स्पुतनिक वी वैक्सीन को आपात इस्तेमाल की मंजूरी मिली थी। अभी हाल ही में कुछ दिन पहले मॉडर्ना की वैक्सीन को भी मंजूरी मिली है।

zydus cadilla seeks emergency use approval for covid vaccine  - Satya Hindi

बच्चों पर कोवैक्स का ट्रायल अभी नहीं

इधर सरकारी पैनल ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ़ इंडिया को 2-17 वर्ष की आयु के बच्चों पर कोवावैक्स वैक्सीन के दूसरे और तीसरे चरण के क्लिनिकल ट्रायल करने की अनुमति नहीं देने की सिफारिश की है। एएनआई ने सूत्रों के हवाले से यह ख़बर दी है। इस रिपोर्ट के अनुसार पैनल ने कहा है कि वह पहले व्यस्कों पर ट्रायल पूरा करे। 

इस बीच सूत्रों के हवाले से ख़बर आई है कि भारतीय दवा नियामक संस्था ने डॉ रेड्डीज को भारत में स्पुतनिक लाइट के तीसरे चरण का ट्रायल करने की अनुमति देने से इनकार कर दिया है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

देश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें