loader

आईएमएफ ने भारत की विकास दर का अनुमान घटाया, 3% की कटौती

भारतीय अर्थव्यवस्था के बदतर होने की आशंकाओं के बीच आईएमएफ़ यानी अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष ने भारत की अनुमानित विकास दर में कटौती की है। 

दुनिया की अर्थव्यवस्थाओं पर नज़र रखने वाली इस अंतरराष्ट्रीय संस्था ने कहा है कि वित्तीय वर्ष 2021-22 में भारत की विकास दर 9.5 प्रतिशत होगी।

पहले इसने 12.5 प्रतिशत का अनुमान लगाया था। यानी भारत की विकास दर में तीन प्रतिशत प्वाइंट की गिरावट होने का अनुमान है।

ख़ास ख़बरें

सबसे तेज़ गिरावट

इसका मतलब साफ है-भारतीय अर्थव्यवस्था की विकास दर पहले के अनुमान से तीन प्रतिशत कम होगी। 

यह अनुमानित विकास दर में सबसे तेज़ गिरावट है। 

इस तेज़ गिरावट की वजह कोरोना है, जिसने अर्थव्यवस्था को ज़ोरदार झटका दिया है। 

आईएमएफ़ का अनुमान है कि भारत की जीडीपी वृद्धि दर यानी सकल घरेलू उत्पाद बढ़ने की दर में कोरोना की वजह से 10.9 प्रतिशत की कमी आई है। 

इसमें उम्मीद की किरण यह है कि अगले वित्तीय वर्ष यानी 2022-23 में जीडीपी वृद्धि दर 6.9 प्रतिशत के बदले 8.5 प्रतिशत होने की संभावना है। यानी अनुमान से 1.5 प्रतिशत प्वाइंट अधिक विकास दर संभव है।

आरबीआई का क्या कहना है?

आईएमएफ़ ही नहीं, ख़ुद भारतीय संस्थाएं कम विकास दर की आशंका जता रही हैं। भारतीय रिज़र्व बैंक ने 4 जून को कहा था कि भारतीय अर्थव्यवस्था की विकास दर इस दौरान 9.5 प्रतिशत हो सकती है, जबकि पहले उसने 10.5 प्रतिशत विकास दर का अनुमान लगाया था। 

IMF slashes projected india growth rate by 3% - Satya Hindi

आईएमएफ़ ने दूसरे देशों की अनुमानित विकास दर में भी कटौती की है। चीन की जीडीपी वृद्धि दर में 0.3 प्रतिशत तो सऊदी अरब की विकास दर में 0.5 प्रतिशत प्वाइंट की कटौती की गई है। 

भारतीय अर्थव्यवस्था ने वित्तीय वर्ष 2020-2021 के दौरान शून्य से 7.3 प्रतिशत कम यानी निगेटिव विकास दर दर्ज की थी। यह अब तक की न्यूनतम विकास दर है। 

IMF slashes projected india growth rate by 3% - Satya Hindi

एस एंड पी ने भी की थी कटौती

इसके पहले अंतरराष्ट्रीय रेटिंग एजेन्सी स्टैंडर्ड एंड पूअर (एस एंड पी) ने भारत की अनुमानित विकास दर में कटौती कर दी थी।

एस एंड पी ने पहले कहा था कि भारतीय अर्थव्यवस्था 11 प्रतिशत की दर से विकास दर्ज कर लेगी, पर अब उसका मानना है कि इसमें 9.5 प्रतिशत का ही विकास होगा। यानी, पहले के अनुमान से 1.5 प्रतिशत कम विकास होने की संभावना है। 

कारण क्या है?

स्टैंडर्ड एंड पूअर ने कहा था कि विकासशील अर्थव्यवस्थाओं में टीकाकरण देर से शुरू हुआ। इसका यह भी कहना था कि एक स्तर तक टीकाकरण होने के बाद ही महामारी थमेगी। 

IMF slashes projected india growth rate by 3% - Satya Hindi

इस रेटिंग एजेन्सी का मानना था कि टीकाकरण में देर होने की वजह से कोरोना महामारी के थमने में समय लग रहा है और इस वजह से अर्थव्यवस्था पटरी पर नहीं लौट रही है।

एस एंड पी ने अनुमान लगाया था कि विकासशील देशों में 100 लोगों में से प्रति दिन औसतन 0.2 लोगों का टीकाकरण हो रहा है। यदि यही रफ़्तार बरक़रार रही तो 70 प्रतिशत देशों में टीकाकरण करने में और 23 महीने का समय लग सकता है। ऐसा हुआ तो उनकी अर्थव्यवस्था को भी ठीक होने में पहले से अधिक समय लगेगा। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें