loader

दूसरी तिमाही में आर्थिक विकास दर पहले से कम क्यों?

मौजूदा वित्तीय वर्ष की पिछली तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में वृद्धि की दर 8.4 प्रतिशत दर्ज की गई, जो पिछली यानी अप्रैल-जून की तिमाही की वृद्धि दर से काफी कम है। लेकिन यह संतोष की बात ज़रूर है कि लगातार चार तिमाहियों से जीडीपी विकास दर सकारात्मक है, यानी शून्य से ऊपर है। 

वित्तीय वर्ष 2021-22 में सितंबर-नवंबर के दौरान जीडीपी में 8.4 प्रतिशत की वृद्धि दर देखी गई। लेकिन पिछली तिमाही यानी जुलाई-अगस्त की जीडीपी वृद्धि दर 20.1 प्रतिशत थी। इस हिसाब से जीडीपी दर बढ़ने के बजाय गिरी है। 

पिछले साल की दूसरी तिमाही में जीडीपी विकास दर शून्य से नीचे रही थी। इसकी वजह यह थी कि सभी सेक्टरों में विकास दर शून्य से नीचे थी। 

लगातार चार तिमाहियों में जीडीपी दर शून्य से ऊपर रही है। पिछले वित्तीय वर्ष की तीसरी तिमाही में 0.5 प्रतिशत, अंतिम तिमाही में 1.6 प्रतिशत, इस वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही में 20.1 प्रतिशत और अब दूसरी तिमाही में 8.4 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई है।

इसे भारतीय अर्थव्यवस्था में मामूली और सुस्त ही सही, लेकिन सुधार के रूप में देखा जा सकता है। 

सुस्त रफ़्तार!

इस वित्तीय वर्ष की पहली तिमाही में विकास दर अधिक तेज़ी से बढ़ी क्योंकि कृषि, खनन, उत्पादन, बिजली, दूरसंचार, परिवहन, जल आपूर्ति व निर्माण के क्षेत्रों में बेहतर काम हुआ। अब दूसरी तिमाही में पहली की तुलना में सुस्त रफ़्तार से विकास हुआ। 

पिछले साल कोरोना लॉकडाउन की वजह से इस दौरान भारतीय अर्थव्यवस्था का बुरा हाल था और आर्थिक विकास दर शून्य से नीचे थी। कोरोना संकट के कम होने के साथ ही आर्थिक लॉकडाउन हटा और आर्थिक गतिविधियाँ बढ़ीं। इससे स्थिति सुधरने लगी।

इस आधार पर कहा जा सकता है कि भारतीय अर्थव्यवस्था की विकास दर अभी बहुत ही कम है, लेकिन वह निगेटव नहीं है, यानी, कम से कम यह तो है कि वह शून्य के ऊपर है। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें