loader

अमेरिकी आईटी उद्योग पर भारतीयों का क़ब्ज़ा, छह के प्रमुख भारतीय 

क्या आपको पता है कि इस समय दुनिया की छह सबसे बड़ी आईटी कंपनियों के प्रमुख भारतीय मूल के लोग हैं? क्या आपको यह भी पता है कि अमेरिका की मशहूर सिलिकन वैली की बड़ी कंपनियों में शीर्ष पदों पर भारतीय मूल के 13 लोग हैं?

ट्विटर के मुख्य सीईओ पराग अग्रवाल, गूगल के प्रमुख सुंदर पिचाई, माइक्रोसॉफ़्ट के मुखिया सत्या नडेला, आईबीएम के मुख्य कार्यकारी अधिकारी अरविंद कृष्ण, अडोबी के प्रमुख शांतनु नारायण और डब्लूडब्लवेअर के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रघु रघुराम हैं। इसके अलावा पॉलो ऑल्टो नेटवर्क के मुख्य कार्यकारी अधिकारी निकेश अरोड़ा हैं। 

ये सभी भारतीय मूल के तो हैं ही, भारत में पले बढ़े हैं, भारत में पढ़ाई की है और अमेरिका में उच्च शिक्षा हासिल करने के बाद वहीं नौकरी करने लगे।

ख़ास ख़बरें

भारतीयों के नियंत्रण में सिलिकन वैली

अमेरिका की मशहूर सिलिकन वैली में काम करने वालों में भारतीय मूल के लोग बड़ी तादाद में हैं और वे महत्वपूर्ण ज़िम्मेदारियाँ संभाले हुए हैं। 

संजय झा

मूल रूप से बिहार के रहने वाले संजय झा ग्लोबल फाउंड्रीज़ के सीईओ हैं। वे उस कंपनी के प्रमुख हैं जो सेमीकंडक्टर के चिप्स बनाती है, जिसका इस्तेमाल कंप्यूटर में होता है। उनके उत्पाद का इस्तेमाल एएमडी, ब्रॉडकॉम, क्वॉलकॉम, एसटीएमआई क्रोइलेक्ट्रॉनिक्स जैसी कंपनियाँ करती हैं। वे इसके पहले मोटरोला के मुख्य कार्यकारी अधिकारी और गूगल के अधिग्रहण अधिकारी भी रह चुके हैं। 

पद्मश्री वॉरियार

सिस्को की मुख्य प्रौद्योगिकी व रणनीति अधिकारी पद्मश्री वॉरियार ने भी पढ़ाई लिखाई भारत में ही की और 1984 में अमेरिका जाकर मोटरोला से जुड़ गईं। वे बाद में मोटरोला की सीटीओ बन गईं। उन्होंने 2007 में इस दूरसंचार कंपनी को छोड़ा और नेटवर्किंग कंपनी सिस्को की सीटीओ बन गईं। 

Indian IT professionals dominate silicon valley, US IT firms - Satya Hindi

संजय मलहोत्रा

संजय मलहोत्रा सैनडिस्क कॉरपोरेशन के अध्यक्ष व मुख्य कार्यकारी अधिकारी तो हैं ही, वे इसके संस्थापक भी हैं। उन्होंने डॉक्टर एली हरारी के साथ मिल कर 1988 में सैनडिस्क की नींव डाली थी। यह कंपनी मेमोरी स्टोरेज तैयार करती है। 

अभि तलवलकर

अभि तलवलकर सेमीकंडक्टर व सॉफ़्टवेअर कंपनी एलएसआई के सीईओ हैं। उनके नेतृत्व में ही एलएसआई ने सॉलिड स्टेट स्टोरेज के क्षेत्र पर फोकस किया और इस क्षेत्र की अग्रणी कंपनी बन गई।

राजीव सूरी

राजीव सूरी नोकिया सॉल्यूशन्स एंड नेटवर्क के सीईओ हैं। वे पहले इस कंपनी के भारत प्रमुख थे। उनके समय ही माइक्रोसॉफ़्ट ने नोकिया के हैंडसेट कारोबार का अधिग्रहण कर लिया। 

पंकज पटेल

पंकज पटेल सिस्को के कार्यकारी उपाध्यक्ष व चीफ़ डेवलपमेंट ऑफ़िसर हैं। इस कंपनी का टेक्नोलॉजी पोर्टफोलियो 36.3 अरब डॉलर का है और पटेल इसके प्रमुख हैं। उनकी कंपनी में 28 हज़ार लोग काम करते हैं। 

अरविंद सोढानी

अरविंद सोढानी इंटेल कॉरपोरेशन के कार्यकारी उपाध्यक्ष तो हैं ही, वे इंटेल कैपिटल के अध्यक्ष भी हैं। वे 1990 में ही कंपनी के निदेशक मंडल में पहुँच गए थे और 2005 में वरिष्ठ उपाध्यक्ष बनाए गए थे। इंटेल कंप्यूटर चिप्स बनाती है। 

राजन नायक

राजन नायक एएमडी के वरिष्ठ उपाध्यक्ष व चीफ स्ट्रैटेजी ऑफ़िसर हैं। उनकी कंपनी एएमडी चिप बनाने के क्षेत्र में है। जनवरी 2012 में इस कंपनी ने शामिल होने के पहले वे अमेरिकी प्रबंध सलाह कंपनी मैकिंजे में पार्टनर थे। 

सुरेश वासवानी

सुरेश वासवानी डेल के सर्विस विभाग के प्रमुख हैं। वे इसका अंतरराष्ट्रीय आईटी कारोबार देखते हैं। यह कंपनी क्लाउड कंप्यूटिंग, बिजनेस सॉल्यूशन्स और बिजनेस प्रोसेस के क्षेत्र में काम करती है। वे डेल इंडिया के प्रमुख और विप्रो के आईटी कारोबार के मुखिया भी रह चुके हैं। 

केली आहूजा

केली आहूजा सिस्को मोबिलिटी बिजनेस ग्रुप के वरिष्ठ उपाध्यक्ष हैं। वे सिस्को के मोबिलिटी कारोबार का प्रमुख हैं और उसके लिए अंतरराष्ट्रीय रणनीति बनाते हैं और उसे लागू करते हैं। 

ये तो वे लोग हैं, जो शीर्ष पदों पर हैं। प्रबंधन व प्रौद्योगिकी के मध्यम स्तर पर तो सैकड़ों भारतीय हैं, जिनके बलबूते वहां का आईटी कारोबार फलफूल रहा है।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें