loader

अर्थव्यवस्था : वित्त मंत्री की घोषणा की बड़ी बातें

केंद्र सरकार अर्थव्यवस्था की हालत सुधारने के लिए बैंकों और वित्तीय संस्थाओं को 70 हज़ार करोड़ रुपये देगी। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने शुक्रवार को यह घोषणा की। मोटर कार और अन्य उद्योगों की मदद के लिए उन्होंने कई सुधारों का एलान भी किया। वित्त मंत्री ने दुनिया भर में उद्योगों में मंदी है, लेकिन भारत में विकास दर अमेरिका और चीन से बेहतर है। निर्मला सीतारमण की घोषणा की बड़ी बातें-

  • बैंकों और वित्तीय संस्थानों में नकदी का संकट ख़त्म करने के लिए सरकार 70,000 करोड़ रुपये देगी।
  • टैक्स अधिकारियों का खौफ ख़त्म किया जाएगा। टैक्स स्क्रूटनी सबकी नहीं की जाएगी।
  • रिटर्न फ़ाइल करने का तरीक़ा सरल बनाया जाएगा। सिस्टम से छेड़छाड़ करने वाले पर कार्रवाई की जाएगी। 
  • ग्राहक अब ऋण के आवेदन की स्थिति ऑनलाइन देख सकेंगे। 
  • क़र्ज़ चुकाने के 15 दिनों में ऋण दस्तावेज़ों को वापस करना होगा।
  • बैंकों ने फ़ैसला लिया है कि आवास ऋण पर ईएमआई कम होगी।
  • आईटी समन अब केंद्रीकृत प्रणाली से भेजा जाएगा। उत्पीड़ित व्यक्ति को राहत देने की कोशिश। 
  • इनकम टैक्स के सभी पुराने नोटिसों का डेढ़ महीने में निपटारा।
  • सरकार नई गाड़ियों की ख़रीद पर लगे प्रतिबंध को हटाएगी।
  • 31 मार्च 2020 तक ख़रीदी गईं बीएस-4 गाड़ियाँ रजिस्ट्रेशन की पूरी अवधि तक चलाई जा सकेंगी। 
  • जून 2020 तक वन टाइम रजिस्ट्रेशन फ़ी में बढ़ोतरी नहीं की जाएगी।
  • छोटे और मझोले उद्योगों का जीएसटी रिफ़ंड 30 दिनों में। आगे से 60 दिनों के अंदर। 
  • स्टार्टअप्स की परेशानियाँ कम करने के लिए सीबीडीटी के सदस्य के नेतृत्व में सेल।
  • लॉन्ग और शॉर्ट टर्म कैपिटल गेन पर बढ़ा सरचार्ज ख़त्म। बजट से पहले की स्थिति बहाल होगी।
  • कॉरपोरेट सोशल रिस्पॉन्सिबिलिटी पूरा नहीं करने पर आपराधिक नहीं बल्कि नागरिक जुर्म माना जाएगा।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

अर्थतंत्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें