loader

जम्मू-कश्मीर में आम नागरिक फिर निशाने पर, दो बिहारी मजदूरों की हत्या

जम्मू-कश्मीर में संदिग्ध आतंकवादियों ने रविवार को दो बिहारी मजदूरों की हत्या कर दी। एक मजदूर घायल हो गया। 

यह वारदात कुलगाम के विनपोह में हुई है।

मारे गए बिहारी मजदूरों की पहचान राजा ऋषिदेव और जोगिन्द्र ऋषिदेव के रूप में की गई है। वहीं घायल आदमी की पहचान चुनचुन ऋषिदेव के तौर पर हुई है। 

कश्मीर पुलिस ने इस वारदात की पुष्टि कर दी है। उसने कहा है कि "आतंकवादियों ने कुलगाम के वनपोह में अंधाधुंध गोलीबारी कर दो ग़ैर-स्थानीय लोगों को मार डाला है, एक को ज़ख़्मी कर दिया है। सुरक्षा बलों ने इलाक़े की घेराबंदी कर दी है।"

इससे साफ है कि संदिग्ध आतकंवादी सोची समझी रणनीति के तहत आम नागरिकों को चुन- चुन कर निशाना बना रहे हैं।

 कुलगाम की इस वारदात में मारे गए लोगों के साथ ही बीते दो हफ़्तों में जम्मू-कश्मीर में मरने वाले आम नागरिकों की संख्या 11 हो गई है। 

ख़ास ख़बरें

निशाने पर बाहरी लोग

संदिग्ध आतंकवादियों ने जिन 11 आम नागरिकों को निशाने पर लिया है, उनमें से पाँच दूसरे राज्यों से आए हुए लोग हैं। ये लोग रोज़ी-रोटी की तलाश में यहाँ आए हुए थे। 
पर्यवेक्षकों का कहना है कि आतंकवादी गुटों की रणनीति भारत के सुरक्षा बलों को तो चुनौती देना है ही, वे राज्य के बाहर के लोगों को भगाना भी चाहते हैं। वे चाहते हैं कि यह संकेत जाए कि जम्मू-कश्मीर में बाहर के लोग न जाएं।

निशाने पर आम नागरिक क्यों?

मारे गए लोगों में बिहार के गोल- गप्पा बेचने वाले अरविंद कुमार साह, भागलपुर के  स्ट्रेट वेंडर विरेंदर पासवान, उत्तर प्रदेश के बढ़ई सगीर अहमद हैं।

इसके अलावा श्रीनगर में दवा दुकान के मालिक माखन लाल बिंदरू, शिक्षक दीपक चंद व सुपुंदर कौर, स्थानीय टैक्सी ड्राइवर मुहम्मद शफी लोन भी हैं। 

2 bihar labourers killed in jammu-kashmir terrorist attack - Satya Hindi
ये सभी हत्याएं सोची समझी रणनीति के तहत चुन कर निशाना बना कर की गई हैं, ताकि लोगों खास कर अल्पसंख्यकों के मन में डर समा जाए और वे अपना घर- बार छोड़ कर चले जाएं। 
जम्मू-कश्मीर के बाहर के लोगों को विशेष रूप से निशाना बनाया जा रहा है क्योंकि आतंकवादियों को लगता है कि ये लोग यहां बस जाएंगे और इस तरह जनसंख्या अनुपात असंतुलित हो जाएगा।
लोगों का कहना है कि यह 1990 के दशक जैसी स्थिति बनाने की कोशिश है जब बड़ी तादाद में कश्मीरी हिन्दुओं घर छोड़ कर पलायन कर गए थे। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें