loader

अनुच्छेद 370 पर कश्मीरी नेताओं से बात नहीं करेगा केंद्र?

जम्मू-कश्मीर के नेताओं के साथ केंद्र की बातचीत का क्या अजेंडा होगा और केंद्र क्या रवैया अपनाएगा, इसे लेकर कई तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। पहले यह समझा जाता था कि केंद्र अनुच्छेद 370 की बहाली पर गुपकार गठबंधन के नेताओं से बातचीत करेगा, पर यह समझा जा रहा है कि इस पर फिलहाल कोई बातचीत नहीं होगी।

केंद्र सरकार का पूरा ज़ोर फिलहाल इस पर होगा कि विधानसभा क्षेत्रों का परिसीमन हो, यानी विधानसभा क्षेत्रों का निर्धारण फिर से किया जाए। 

'एनडीटीवी' ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि सरकार जम्मू-कश्मीर को फिर से राज्य का दर्जा देने पर विचार कर सकती है, लेकिन उसे इसके लिए संसद की अनुमति लेनी होगी। इसलिए, वह फिलहाल इस पर भी बात करना नहीं चाहती है।

ख़ास ख़बरें

राजनीतिक प्रक्रिया

इसलिए केंद्र यह चाहता है कि फिलहाल परिसीमन पर बात की जाए और इस ज़रिए जम्मू-कश्मीर में राजनीतिक प्रक्रिया शुरू की जाए और अलग-थलग पड़े राजनीतिक दलों को मुख्यधारा की राजनीति में लाया जाए ताकि आगे की बातचीत का रास्ता साफ हो। 

लेकिन सरकार अनुच्छेद 370 की बहाली पर फिलहाल कोई बात करना नहीं चाहती है। 

परिसीमन की प्रक्रिया के तहत जम्मू-कश्मीर के हर विधानसभा क्षेत्र की सीमा का निर्धारण फिर से किया जाएगा। 

no talks on article 370 with gupkar alliance now - Satya Hindi

 क्या होगा बैठक में?

परिसीमन आयोग का गठन पिछले साल रिटायर्ड जज जस्टिस रंजना प्रकाश देसाई की अगुआई में किया गया। उन्होंने तमाम ज़िला आयुक्तों को चिट्ठी लिख कर उनसे बुनियादी जानकारी माँगी है। 

बता दें कि जम्मू-कश्मीर के आठ राजनीतिक दलों के नेताओं को 24 जून को दिल्ली में होने वाली एक बैठक में न्योता गया है। इसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी मौजूद रहेंगे। 5 अगस्त, 2019 को जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा ख़त्म किए जाने के बाद कश्मीर के नेताओं से प्रधानमंत्री की पहली मुलाक़ात होगी। 

जम्मू-कश्मीर के कई राजनीतिक दलों ने परिसीमन आयोग की बैठकों का अब तक बहिष्कार किया है। नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फ़ारूक़ अब्दुल्ला, हसनैन मसूदी और मुहम्मद अकबर लोन ने किसी बैठक में भाग नहीं लिया है।

समझा जाता है कि प्रधानमंत्री 24 जून की बैठक में इन नेताओं से आग्रह करेंगे कि परिसीमन की प्रक्रिया में भाग लें और इसे पूरा करें।

पर्यवेक्षकों का कहना है कि इस बैठक का मक़सद अंतरराष्ट्रीय समुदाय को यह संकेत देना भी है कि भारत सरकार कश्मीर के लोगों से बात कर रही है और उन्हें मुख्यधारा में लाने की कोशिशें की जा रही हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें