loader

जम्मू: आज़ाद के ख़िलाफ़ सड़क पर उतरे कांग्रेसी, फूंका पुतला

कांग्रेस आलाकमान से असंतुष्ट चल रहे नेताओं की बयानबाज़ी के ख़िलाफ़ अब पार्टी के कार्यकर्ता सड़कों पर उतरने लगे हैं। असंतुष्ट नेताओं के इस गुट को G23 का नाम दिया गया है और इसमें ग़ुलाम नबी आज़ाद, आनंद शर्मा, कपिल सिब्बल, भूपेंद्र सिंह हुड्डा, मनीष तिवारी से लेकर कई अनुभवी नेता शामिल हैं। 

मंगलवार को जम्मू में कांग्रेस के कार्यकर्ताओं ने ग़ुलाम नबी आज़ाद के ख़िलाफ़ प्रदर्शन किया, जमकर नारेबाज़ी की और उनका पुतला फूंका। आक्रोशित कार्यकर्ताओं ने कहा कि आज़ाद को कांग्रेस ने सब कुछ दिया लेकिन आज जब कांग्रेस को उनकी ज़रूरत है तो वे जम्मू में कांग्रेस को कमजोर करने की कोशिश कर रहे हैं। 

ताज़ा ख़बरें

आज़ाद के ख़िलाफ़ हो कार्रवाई 

कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने कहा कि आज़ाद ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ़ की जबकि प्रधानमंत्री ने उनके पूर्ण राज्य का दर्जा छीन लिया है। उन्होंने कहा कि आज़ाद बीजेपी के इशारे पर काम कर रहे हैं। उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से मांग की कि वे आज़ाद के ख़िलाफ़ कार्रवाई करें। 

पिछले साल भी हुआ था हंगामा 

कांग्रेस में कुछ वैसे ही हालात बनते दिखाई दे रहे हैं, जैसे पिछले साल इन G23 के नेताओं के एक पत्र के सामने आने के बाद दिखाई दिए थे। इस पत्र के सामने आने के बाद कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में जमकर हंगामा हुआ था और तब भी ग़ुलाम नबी आज़ाद के ख़िलाफ़ पार्टी के कई नेताओं ने आवाज़ उठाई थी। उत्तर प्रदेश में तो कई नेताओं ने आज़ाद पर गंभीर आरोप लगाए थे। इसके अलावा जितिन प्रसाद को भी कार्यकर्ताओं के विरोध का सामना करना पड़ा था। 

कांग्रेस के ताज़ा हालात पर देखिए चर्चा- 

बंगाल चुनाव को लेकर घमासान

G23 के एक नेता आनंद शर्मा की ओर से पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव में इंडियन सेक्युलर फ़्रंट (आईएसएफ़) के कांग्रेस-लेफ़्ट फ्रंट के गठबंधन में शामिल होने का जोरदार विरोध किया गया है। आनंद शर्मा ने इस मामले में पार्टी को निशाने पर ले लिया है। 

आनंद शर्मा के यह कहने पर कि आईएसएफ़ जैसे दलों के साथ कांग्रेस का गठबंधन पार्टी की मूल विचारधारा, गांधीवाद और नेहरूवादी धर्मनिरपेक्षता के ख़िलाफ़ है और इन मुद्दों पर कांग्रेस कार्य समिति में चर्चा होनी चाहिए थी, पश्चिम बंगाल कांग्रेस के अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने उन पर हमला बोला था। 

अधीर का पलटवार

अधीर ने कहा था कि सीपीएम के नेतृत्व वाले गठबंधन को सांप्रदायिक कहकर आप सिर्फ़ बीजेपी के ध्रुवीकरण के एजेंडे का समर्थन कर रहे हैं। अधीर ने कहा कि वे लोग जो बीजेपी की ज़हरीली सांप्रदायिक राजनीति के खिलाफ लड़ना चाहते हैं, वे कांग्रेस के लिए पांच राज्यों में चुनाव प्रचार करें न कि बीजेपी के सुर में सुर मिलाकर पार्टी को कमज़ोर करने की कोशिश करें।

उन्होंने ग़ुलाम नबी आज़ाद के द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हाल में की गई तारीफ़ को लेकर उन्हें निशाने पर लिया और कहा कि ऐसे लोग व्यक्तिगत हित वाले मुद्दों से ऊपर उठें और प्रधानमंत्री की तारीफ़ में समय जाया न करें। 

जम्मू-कश्मीर से और ख़बरें

बीते दिनों जम्मू में हुए शांति सम्मेलन में G23 गुट के नेताओं ने इशारों-इशारों में कांग्रेस आलाकमान पर हमला बोला था। G23 गुट के नेताओं ने शांति सम्मेलन के जरिये पार्टी नेतृत्व को संदेश दिया था कि वे ग़ुलाम नबी आज़ाद के साथ खड़े हैं और कांग्रेस की मज़बूती के लिए काम करेंगे। 

ऐसे वक़्त में जब पांच राज्यों की चुनाव तारीख़ों का एलान हो चुका है और राहुल गांधी और प्रियंका गांधी चुनावी राज्यों के दौरे पर हैं, पार्टी के वरिष्ठ नेताओं की बयानबाज़ी और कार्यकर्ताओं का अपने ही नेताओं के ख़िलाफ़ सड़कों पर उतरने से कांग्रेस के भीतर घमसान बढ़ सकता है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें