loader

श्रीनगर में कोई वैक्सीन नहीं लगी, घाटी के 10 ज़िलों में सिर्फ़ 504 टीके

देश भर में कोरोना टीके की कमी के बीच जम्मू कश्मीर के श्रीनगर में शनिवार को एक भी वैक्सीन नहीं लग पाई। घाटी के 1.4 करोड़ की आबादी वाले 10 ज़िलों में भी सिर्फ़ 504 लोगों को शनिवार को टीके लगाए जा सके। एक रिपोर्ट में यह दावा किया गया है। राज्य में पिछले कई दिनों से वैक्सीन की कमी की शिकायतें आ रही हैं। 

श्रीनगर नगर निगम के कॉर्पोरेटर दानिश भट ने ट्वीट किया कि उन्होंने लाल बाज़ार पीएचसी का औचक निरीक्षण किया। उन्होंने लिखा, 'वैक्सीन की कमी के कारण छह दिनों से वहाँ टीकाकरण बंद है।' उन्होंने कहा कि ज़िले के उच्चाधिकारी से बात की तो उन्होंने जल्द ही इसे शुरू करने का आश्वासन दिया है।

यह तो हुई श्रीनगर के एक टीकाकरण केंद्र की स्थिति, लेकिन दूसरे केंद्रों पर भी यही स्थिति है। एक रिपोर्ट के अनुसार शनिवार को श्रीनगर ज़िले में एक भी टीका नहीं लगाया जा सका। 'एनडीटीवी' ने आधिकारिक सूत्रों के हवाले से लिखा है कि क्षेत्र में टीके उपलब्ध नहीं हैं और पिछले हफ़्ते से टीके नहीं मिले हैं। उन्होंने कहा कि आख़िरी बार टीके एक हफ़्ते पहले शनिवार को आए थे। रिपोर्ट के अनुसार घाटी के दस ज़िलों में शनिवार को सिर्फ़ 504 लोगों को टीका लगाया जा सका। 

जम्मू और कश्मीर में 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के लिए टीकाकरण शायद प्रतीकात्मक रूप से ही आगे बढ़ा है। 18 वर्ष से अधिक आयु वालों के लिए केवल दो टीकाकरण केंद्र हैं जहाँ एक दिन में केवल 300 टीके लगाए जा रहे हैं। रिपोर्ट के अनुसार, पिछले एक सप्ताह से आपूर्ति ठप होने के बाद इसे भी रोक दिया गया है।

ताज़ा ख़बरें

अधिकारियों का कहना है कि जम्मू-कश्मीर में 28 लाख वैक्सीन डोज दी जा चुकी हैं। इनमें सुरक्षा बल और पुलिसकर्मी भी शामिल हैं। अधिकांश सुरक्षाकर्मियों को दोनों खुराकें मिल चुकी हैं।

इस मामले में जम्मू ने हालाँकि अपेक्षाकृत बेहतर प्रदर्शन किया है। शनिवार को लगभग 14,000 लोगों को टीका लगाया गया था लेकिन यह नियमित टीकाकरण संख्या से बहुत कम था।

जम्मू-कश्मीर से और ख़बरें

बता दें कि देश भर में टीके की कमी और टीके पर नीति को लेकर केंद्र सरकार की आलोचना की जा रही है। इन्हीं आलोचनाओं के बीच केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने शनिवार को दावा किया है कि भारत में जुलाई के अंत तक टीकों की 51.6 करोड़ खुराकें दी जा चुकी होंगी। उन्होंने कहा कि टीके की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए इसके उत्पादन में तेजी लाई जा रही है। उन्होंने दावा किया कि उत्पादन के साथ ही वैक्सीन को ज़रूरत के हिसाब से राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को वितरित भी की जा रही हैं।

उन्होंने कहा कि रूसी वैक्सीन स्पुतनिक को मंजूरी मिल गई और अन्य कई नई वैक्सीन भी आने वाली हैं। इससे अगस्त-दिसंबर के बीच देश में 216 करोड़ डोज उपलब्ध हो जाएँगी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

जम्मू-कश्मीर से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें