loader

झारखंड ने किया एक हफ़्ते के लॉकडाउन का एलान

दिल्ली के बाद अब झारखंड ने भी कोरोना रोकथाम के मद्देनज़र लॉकडाउन का ऐलान कर दिया है। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के घर पर हुई बैठक में यह फ़ैसला लिया गया कि एक हफ़्ते के लिए पूरे राज्य में लॉकडाउन लगा दिया जाए, कुछ चीजों को ही इससे छूट मिले। 

सरकार ने कहा है कि 22 अप्रैल को शुरू होने वाले 'स्वास्थ्य सुरक्षा शपथ सप्ताह' के दौरान आवश्यक वस्तुओं से जुड़ी दुकानों को छोड़ कर सभी दुकानें बंद रखी जाएंगी। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि कुछ केंद्रीय, राज्य और निजी कार्यालय ही खुले रहेंगे। उद्योग, निर्माण, कृषि और खनन कार्य जारी रहेंगे। 

हेमंत सोरेन ने कहा,

यह निहायत ही ज़रूरी है कि झारखंड में कोरोना संक्रमण का चेन तोड़ा जाए। झारखंड एक ग़रीब राज्य है और लोगों की जान और आजीविका बचाना इसकी प्राथमिकता है।


हेमंत सोरेन, मुख्यमंत्री, झारखंड

उन्होंने लोगों से अपील की कि जिन कामों की अनुमति दी गई है, उसके अलावा किसी काम के लिए घर से कोई बाहर न निकले। कहीं भी पाँच से ज़्यादा लोगों का जमा होना मना है। देखें, मुख्यमंत्री हेमंत सोरने ने क्या कहा है। 
सरकार के ऐलान के अनुसार, 22 अप्रैल सुबह छह बजे से से 29 अप्रैल की सुबह छह बजे तक लॉकडाउन रहेगा। इस दौरान पूरे राज्य में आवश्यक सेवाओॆं को छोड़कर सबकुछ बंद रहेगा। धार्मिक स्थल खुले रहेंगे, लेकिन भीड़ नहीं होगी। 
झारखंड बीजेपी अध्यक्ष और राज्यसभा सदस्य दीपक प्रकाश ने मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के कोरोना पर नियंत्रण को लेकर लागू लॉकडाउन के निर्णय की तारीफ की है। 

लॉकडाउन में क्या खुला रहेगा, क्या बंद

  • आवश्यक वस्तुओं की दुकानों को छोड़कर अन्य सभी दुकानें बंद रहेंगी।
  • केंद्र सरकार, राज्य सरकार और निजी क्षेत्र के चुनिंदा दफ़्तरों को छोड़कर तमाम कार्यालय बंद रहेंगे।
  • कृषि, औद्योगिक उत्पादन, निर्माण और खनन से जुड़े कामकाज चलते रहेंगे।
  • सभी धार्मिक स्थल खुले रहेंगे, लेकिन श्रद्धालुओं की उपस्थिति पर रोक रहेगी।
  • किसी नागरिक को पूर्व अनुमति को छोड़कर अपने घर से बाहर निकलने की इजाज़त नहीं होगी।
  • किसी भी जगह एक समय पाँच से अधिक लोग एकत्रित नहीं हो सकते। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

झारखंड से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें