loader

ओमिक्रॉन: अफ्रीकी देशों से बेंगलुरू आए 10 यात्रियों का पता नहीं 

कम से कम 10 लोग ऐसे हैं, जो बीते दिनों अफ्रीकी देशों से बेंगलुरू आए हैं, लेकिन अब उनका कहीं पता नहीं चल रहा है। यह निश्चित रूप से परेशान करने वाली बात है, क्योंकि ओमिक्रॉन वैरिएंट सबसे पहले अफ्रीका में ही मिला था। 

इस वैरिएंट के बारे में कहा जा रहा है कि यह बहुत तेज़ी से फ़ैलता है। ऐसे में विदेश से आए इन लोगों का ग़ायब होना चिंता का विषय होने के साथ ही घनघोर लापरवाही भी है। 

कर्नाटक में ही इस वैरिएंट से संक्रमण के दो मामले सामने आ चुके हैं। इनमें से एक शख़्स अफ्रीका का ही है और वह भारत छोड़कर जा चुका है जबकि दूसरा शख़्स बेंगलुरू का है। 

बेंगलुरू महानगर पालिका ने शुक्रवार को कहा है कि स्वास्थ्य महकमे के अफ़सर इन लोगों का पता लगाने में जुटे हैं। 

ताज़ा ख़बरें

स्विच ऑफ़ हैं मोबाइल 

कर्नाटक के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. के. सुधाकर ने कहा है कि दक्षिण अफ्रीका में ओमिक्रॉन वायरस मिलने  के बाद वहां से 57 यात्री बेंगलुरू आए। लेकिन बेंगलुरू महानगर पालिका को इनमें से 10 लोगों का पता नहीं चल पाया है। उन्होंने कहा कि इन लोगों के मोबाइल फ़ोन स्विच ऑफ़ हैं और ये लोग अपने दिए गए पते पर भी नहीं मिले हैं। 

कर्नाटक में जो दो लोग इस वैरिएंट से संक्रमित पाए गए हैं, उनकी उम्र 66 व 46 साल है। 46 साल की उम्र वाले शख़्स डॉक्टर हैं, उन्हें कोरोना की दोनों डोज लग चुकी थीं और वह भारत से बाहर भी नहीं गए हैं। 21 नवंबर को उन्हें बुखार आया था और बदन में दर्द हुआ था। 

कर्नाटक सरकार ने डॉक्टर के संपर्क में आने वालों का पता लगाया है और इनमें से 13 लोग ऐसे थे, जो इस डॉक्टर के सीधे संपर्क में आए थे जबकि 250 से ज़्यादा लोग ऐसे थे, जो किसी न किसी तरह इस शख़्स के या इसके संपर्क में आने वालों के संपर्क में आए थे। इसमें से 5 लोगों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। 

कर्नाटक से और ख़बरें

ओमिक्रॉन वैरिएंट से संक्रमित दूसरा शख़्स दक्षिण अफ्रीका का रहने वाला है और कोरोना की नेगेटिव रिपोर्ट लेकर भारत आया था। इस शख़्स को भी कोरोना की दोनों डोज़ लग चुकी थीं। 

लेकिन भारत पहुंचने के बाद जब इसका टेस्ट किया गया तो वह पॉजिटिव निकला, उसे सेल्फ़ आइसोलेट होने के लिए कहा गया। एक हफ़्ते बाद जब उसकी रिपोर्ट नेगेटिव आई तो वह दुबई चला गया। 

इस शख़्स के सीधे संपर्क में आए 24 लोगों और किसी न किसी तरह इस शख़्स के या इसके संपर्क में आने वालों के संपर्क में आए 240 लोगों की कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आई है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

कर्नाटक से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें