loader

सीएम पद के दावेदारों की दिल्ली दौड़; लिंगायत संत बोले- साज़िश कर रहा आरएसएस

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी.एस. येदियुरप्पा के 26 जुलाई तक इस्तीफ़ा देने की चर्चाओं के बीच मुख्यमंत्री पद के दावेदारों की दिल्ली दौड़ तेज़ हो गई है। बीजेपी हाईकमान और आरएसएस नए मुख्यमंत्री के चयन के लिए कई फ़ैक्टर्स को ध्यान में रख रहा है। उधर, लिंगायत समुदाय के संतों का विरोध जारी है। लिंगायत संतों के एक प्रतिनिधिमंडल ने कुछ दिन पहले येदियुरप्पा से मुलाक़ात भी की थी। 

नए मुख्यमंत्री के चयन के लिए किन फ़ैक्टर पर विचार हो रहा है। इसे देखते हैं। 

लिंगायत समुदाय का फ़ैक्टर 

‘द हिंदू’ के मुताबिक़, पहला फ़ैक्टर यह है कि येदियुरप्पा की जगह पर लिंगायत समुदाय के ही किसी नेता को जगह दी जाए। इससे लिंगायत समुदाय की नाराज़गी का ख़तरा कम होगा। हालांकि लिंगायत समुदाय व इसके संतों के बीच येदियुरप्पा जैसी स्वीकार्यता दूसरे नेताओं की नहीं है। 

ताज़ा ख़बरें

बीजेपी हाईकमान को याद है कि येदियुरप्पा के पार्टी छोड़ने के बाद 2013 के विधानसभा चुनाव में लिंगायतों की नाराज़गी के कारण पार्टी चुनाव हार गई थी। इसलिए इस बात को ध्यान में रखा जा रहा है। 

कर्नाटक में लिंगायत समुदाय की आबादी 17 फ़ीसदी है। 224 सीटों वाले कर्नाटक में इस समुदाय का असर 90-100 विधानसभा सीटों पर है। कहा जाता है कि येदियुरप्पा की वजह से ही लिंगायत समुदाय के ज़्यादातर लोग बीजेपी का समर्थन करते हैं। 

संघ परिवार का फ़ैक्टर 

दूसरा फ़ैक्टर संघ परिवार का है। इस फ़ैक्टर की हिमायत करने वालों का कहना है कि बीजेपी को एक समुदाय तक सीमित नहीं रहना चाहिए बल्कि हिंदुत्व की विचारधारा पर आगे बढ़ना चाहिए। 

‘द हिंदू’ के मुताबिक़, इस फ़ैक्टर के तहत जो नाम चर्चा में हैं, उनमें वोक्कालिगा समुदाय से आने वाले राष्ट्रीय सचिव सीटी रवि और उप मुख्यमंत्री सीएन अश्वथ नारायण का नाम शामिल है। वोक्कालिगा लिंगायत के बाद प्रमुख समुदाय है और इसका बड़ा हिस्सा कांग्रेस का समर्थन करता है। 

पार्टी में कुछ लोगों का मानना है कि इस पद पर आरएसएस से जुड़े किसी शख़्स को बिठाया जाना चाहिए जैसे नरेंद्र मोदी को 2001 में गुजरात में मुख्यमंत्री बनाया गया था। ऐसे लोगों में पार्टी के महासचिव (संगठन) बीएल संतोष का नाम चल रहा है। इसके अलावा केंद्रीय मंत्री प्रहलाद जोशी का नाम भी चर्चा में है।

युवा फ़ैक्टर 

एक और फ़ैक्टर युवाओं को वरीयता देने का है। ‘द हिंदू’ के मुताबिक़, हाईकमान 50 साल तक के किसी नेता को मुख्यमंत्री बनाना चाहता है जो आगे 10 साल तक राज्य में पार्टी का नेतृत्व कर सके। 

Karnataka bjp crisis bs yediyurappa resignation rumors - Satya Hindi

इन नामों की चर्चा 

जिन दावेदारों के नाम की सबसे ज़्यादा चर्चा है, उनमें राज्य के खनन मंत्री मुरूगेश निरानी का भी नाम है। क्योंकि हालिया दिनों में निरानी ने कई बार दिल्ली का दौरा कर अमित शाह सहित कई बड़े नेताओं के साथ मुलाक़ात की है। निरानी का भी लिंगायत समुदाय में अच्छा प्रभाव माना जाता है। इसके अलावा लिंगायत समुदाय के विधायक अरविंद बेल्लाड ने भी दिल्ली में डेरा डाला हुआ है। 

इसके अलावा जिन नेताओं ने दिल्ली की परिक्रमा बीते दिनों में की है, उनमें लिंगायत समुदाय से आने वाले उद्योग मंत्री जगदीश शेट्टार, आदिवासी समाज से आने वाले मंत्री बी. श्रीरामुलु का भी नाम शामिल है। 

मुरूगेश निरानी की उम्र 56 साल, प्रहलाद जोशी की उम्र 58 साल, सीटी रवि की उम्र 54 साल. अश्वथ नारायण की उम्र 52 साल और बीएल संतोष और अरविंद बेल्लाड की उम्र 51 साल है। इनमें से किसी एक नाम पर हाईकमान मुहर लगा सकता है। 

आरएसएस पर हमला

इस बीच, लिंगायत समुदाय के संत श्री संगना बसवा स्वामी ने कहा है कि बीएस येदियुरप्पा को हटाए जाने के पीछे आरएसएस की साज़िश है क्योंकि यह जाति आधारित संगठन है और इसके बाद उदार मन वाले नेता नहीं हैं। उन्होंने चेताया है कि अगर बीजेपी येदियुरप्पा को हटाती है तो वह कर्नाटक में अपना वजूद खो देगी और इसका फ़ायदा जेडी(एस) या कांग्रेस को होगा। 

उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र में मराठी युवाओं ने बीजेपी को सत्ता में लाने के लिए मेहनत की लेकिन आरएसएस ने ब्राह्मण समुदाय से आने वाले देवेंद्र फडणवीस को मुख्यमंत्री बना दिया। 

कर्नाटक से और ख़बरें

येदियुरप्पा ने की थी अपील

येदियुरप्पा ने हाल ही में ट्वीट कर अपने समर्थकों से अपील की थी कि वे उन्हें मुख्यमंत्री पद से हटाए जाने की ख़बरों को लेकर किसी तरह का प्रदर्शन न करें। इस ट्वीट में येदियुरप्पा ने ख़ुद को पार्टी का समर्पित कार्यकर्ता बताया था। 

बीते शुक्रवार को मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने दिल्ली आकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाक़ात की थी। इसके बाद येदियुरप्पा बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा, गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से भी मिले थे। 

इन मुलाक़ातों के बाद मीडिया में ऐसी चर्चा है कि येदियुरप्पा अपने पद से इस्तीफ़ा देंगे और बीजेपी हाईकमान नए मुख्यमंत्री का नाम तय करने में जुटा है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

कर्नाटक से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें