loader

येदियुरप्पा संग आया बीजेपी आलाकमान, विरोधियों को सख़्त संदेश

कर्नाटक दक्षिण का अकेला ऐसा राज्य है जहां बीजेपी की सरकार है लेकिन यहां मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के ख़िलाफ़ उनके सियासी विरोधियों ने आसमान सिर पर उठा रखा है। कर्नाटक में बीते कुछ महीनों से नेतृत्व परिवर्तन की चर्चाएं चलती रही हैं और इस वजह से सरकार की स्थिरता पर असर पड़ रहा है। 

बीते कुछ दिनों में येदियुरप्पा के ख़िलाफ़ बग़ावती सुर तेज़ हुए तो आलाकमान को दख़ल देना पड़ा और आनन-फ़ानन में पार्टी के महासचिव अरूण सिंह को भेजा गया। अरूण सिंह इस राज्य के प्रभारी भी हैं। 

इस बार येदियुरप्पा के ख़िलाफ़ विधायकों की बग़ावत को देखते हुए अरूण सिंह को तीन दिन तक कर्नाटक में ही रुकना पड़ा और इस दौरान वह 40 विधायकों, पार्टी पदाधिकारियों से मिले। 

ताज़ा ख़बरें

अरूण सिंह ने इस बात को स्वीकार किया है कि कुछ लोग हैं जो पार्टी के लिए मुसीबत खड़ी कर रहे हैं। उन्होंने ‘इकनॉमिक टाइम्स’ से बातचीत में कहा कि कुछ लोग ऐसे हैं जो हमेशा ऐसे बयान देते हैं जिससे पार्टी की छवि को नुक़सान होता है और अब ऐसे लोगों के ख़िलाफ़ कार्रवाई की जाएगी। 

वरिष्ठ बीजेपी नेता बसनगौड़ा आर. पाटिल, एएच विश्वनाथ, सतीश रेड्डी, शिवनगौड़ा नायक, अरविंद बल्लाड को येदियुरप्पा का विरोधी माना जाता है। 

Karnataka bjp crisis high command with BS Yediyurappa - Satya Hindi

सुधर रहे हैं रिश्ते 

इस साल जनवरी में कैबिनेट का विस्तार करने के बाद भी येदियुरप्पा के ख़िलाफ़ उनके राजनीतिक विरोधी एकजुट हो गए थे। येदियुरप्पा को कैबिनेट विस्तार के लिए लंबे वक़्त तक आलाकमान की हां का इंतजार करना पड़ा था। लेकिन अब माना जाना चाहिए कि येदियुरप्पा के आलाकमान के साथ रिश्ते सुधर रहे हैं। 

अरूण सिंह ने कहा कि उन्होंने किसी विधायक को फ़ोन नहीं किया और वे उन सभी बीजेपी नेताओं व विधायकों से मिले जो उनसे मिलने के लिए आए। पार्टी महासचिव ने नेताओं से कहा कि अगर वे बोलना ही चाहते हैं तो कांग्रेस की विफ़लताओं और मोदी और योदियुरप्पा सरकार के अच्छे कामों के बारे में बोलें। 

‘इकनॉमिक टाइम्स’ के मुताबिक़, अरूण सिंह ने पार्टी नेताओं को समझा दिया है कि अनुशासनहीनता के दायरे में आने वाले किसी भी काम को पार्टी नेतृत्व बर्दाश्त नहीं करेगा और कर्नाटक बीजेपी को मिलकर काम करना होगा।

राहत की सांस

बाग़ियों के कारण लंबे वक़्त से सियासी मुश्किलों का सामना कर रहे येदियुरप्पा ने अब जाकर राहत की सांस ली होगी। क्योंकि यह पहली बार है जब पार्टी आलाकमान ने उनके हक़ में बात की है और विरोधियों को चेताया है कि वे बग़ावत से बाज़ आ जाएं। माना जाना चाहिए कि अब कर्नाटक बीजेपी के अंदर चल रही लड़ाई कुछ हद तक शांत हो जाएगी। 

कर्नाटक से और ख़बरें

‘इस्तीफ़ा देने के लिए राजी हूं’

बग़ावत से झल्लाए येदियुरप्पा ने हाल ही में कहा था कि अगर बीजेपी आलाकमान उनसे इस्तीफ़ा देने के लिए कहेगा तो वे इसके लिए राजी हैं। हालांकि उन्होंने यह भी कहा था कि जब तक आलाकमान का भरोसा उन पर है, वह इस पद पर काम करते रहेंगे। दूसरी ओर कर्नाटक कांग्रेस ने कहा था कि राज्य की बीजेपी इकाई में अंतहीन गुटबाज़ी है। 

सीएम की कुर्सी पर है नज़र 

कर्नाटक में बीजेपी के कई नेता मुख्यमंत्री बनने की कतार में हैं। इनमें पूर्व मुख्यमंत्री जगदीश शेट्टार, केंद्रीय मंत्री प्रहलाद जोशी, उप मुख्यमंत्री लक्ष्मण संगप्पा सावदी का नाम शामिल है। इसके अलावा बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव (संगठन) बी. एल. संतोष से येदियुरप्पा का छत्तीस का आंकड़ा जगजाहिर है। संतोष चाहते हैं कि येदियुरप्पा की जगह वह या उनका कोई क़रीबी राज्य का मुख्यमंत्री बने।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

कर्नाटक से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें