loader

कर्नाटक के सीएम येदियुरप्पा 26 जुलाई को दे सकते हैं इस्तीफ़ा?

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी. एस. येदियुरप्पा ने संकेत दिया है कि वे 26 जुलाई को इस्तीफ़ा दे सकते हैं ताकि विधानसभा चुनाव के पहले नया नेतृत्व कामकाज संभाल सके।

हालांकि येदियुरप्पा ने साफ शब्दों में यह नहीं कहा कि वे पद से हट ही जाएंगे। उन्होंने कहा, "मैं अपने अगले कदम के बारे में 25 जुलाई के बाद ही जान पाऊंगा, और मैं बीजेपी आला कमान के निर्णय का पालन करूंगा।" 

उन्होंने इसके आगे कहा, 

मैं पार्टी को मजबूत करने का काम करूंगा और बीजेपी को कर्नाटक की सत्ता में वापस लाने के लिए काम करूंगा।


बी. एस. येदियुरप्पा, मुख्यमंत्री. कर्नाटक

इसके पहले यह तय था कि मुख्यमंत्री 26 जुलाई को विधायक दल की बैठक में मौजूद रहेंगे और उसके पहले 25 जुलाई को विधायकों के साथ दोपहर का भोजन करेंगे। पर अब यह कार्यक्रम बदल दिया गया है। 

समर्थकों से अपील

इसके पहले येदियुरप्पा ने ट्वीट कर अपने समर्थकों से अपील की थी कि वे उन्हें मुख्यमंत्री पद से हटाए जाने की ख़बरों को लेकर किसी तरह का प्रदर्शन न करें। बुधवार को किए गए इस ट्वीट में येदियुरप्पा ने ख़ुद को पार्टी का समर्पित कार्यकर्ता बताया है। 

नेतृत्व परिवर्तन!

दूसरी ओर, एक ऑडियो वायरल हुआ है जिसे कर्नाटक बीजेपी अध्यक्ष नलिन कुमार कतील का बताया जा रहा है। हालांकि कतील ने इसे फ़र्जी बताया है। ऑडियो में कतील किसी शख़्स से कर्नाटक में नेतृत्व परिवर्तन तय होने की बात कह रहे हैं। 

बीते शुक्रवार को मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने दिल्ली आकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाक़ात की थी। इसके बाद येदियुरप्पा बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा, गृह मंत्री अमित शाह, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से भी मिले थे। 

इन मुलाक़ातों के बाद मीडिया में ऐसी चर्चा है कि येदियुरप्पा अपने पद से इस्तीफ़ा देंगे और बीजेपी हाईकमान नए मुख्यमंत्री का नाम तय करने में जुटा है। कुछ दिन पहले पार्टी ने उत्तराखंड में भी नेतृत्व परिवर्तन किया था। हालांकि येदियुरप्पा ने नेतृत्व परिवर्तन की चर्चाओं से पूरी तरह इनकार किया था और कहा था कि इस तरह की ख़बरों में कोई सच्चाई नहीं है। 

लिंगायतों के नेता

येदियुरप्पा को लिंगायत समुदाय का सबसे प्रभावशाली नेता माना जाता है। कर्नाटक में लिंगायत समुदाय की आबादी 17 फ़ीसदी है। 224 सीटों वाले कर्नाटक में इस समुदाय का असर 90-100 विधानसभा सीटों पर है।

कहा जाता है कि येदियुरप्पा की वजह से ही लिंगायत समुदाय के ज़्यादातर लोग बीजेपी का समर्थन करते हैं। लिंगायत समुदाय के सभी प्रमुख मठाधीश और धार्मिक-आध्यात्मिक गुरु भी येदियुरप्पा का खुलकर समर्थन करते हैं।

अगर बीजेपी येदियुरप्पा को हटाती है तो वीरशिवा-लिंगायत समुदाय से उसके पास बसनगौड़ा पाटिल यतनाल और अरविंद बेल्लाड विकल्प के तौर पर हैं। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।

अपनी राय बतायें

कर्नाटक से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें